चैत्र नवरात्रि घटस्थापना के शुभ मुहूर्त

चैत नवरात्रि की शुरुआत इस साल 9 अप्रैल से होने जा रही है. 9 से 17 अप्रैल तक मां दुर्गा के अलग-अलग रूपों की पूजा होगी.

नवरात्रि के 9 दिनों में मां दुर्गा की 9 स्वरुपों की पूजा की जाती है. इस दौरान दुर्गा मंदिर में भारी भीड़ जुटती है. राजस्थान के त्रिपुरा सुंदरी मंदिर में भी भक्त आते हैं.

कलश स्थापना 9 अप्रैल को होगी. ज्योतिष के अनुसार घटस्थापना का मुहूर्त सुबह 6 बजकर 3 मिनट से 10 बजकर 14 मिनट तक रहेगा.

इस बार माता का आगमन घोड़े पर हो रहा है. यह शुभ संकेत नहीं है. ज्योतिष के अनुसार जब मां घोड़े पर आती हैं तो कई उथल-पुथल होता है.

घोड़े पर माता का आगमन शुभ नहीं माना जाता है. ऐसे में इस नवरात्रि में माता की पूजा क्षमा प्रार्थना के साथ करें. 

नवरात्रि के दौरान पूरे दिन विधिवत पूजा करने के बाद क्षमा प्रार्थना करने से माता प्रसन्न होंगी और शुभ फल देंगी.

नवरात्रि के नौ दिन बहुत ही पावन माने जाते हैं. इन नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की पूजा की जाती है.

घोड़े पर माता का आगमन समाज में अस्थिरता, तनाव अचानक बड़ी दुर्घटना, भूकंप चक्रवात, सत्ता परिवर्तन, युद्ध आदि की स्थिति उत्पन्न करने का सूचक है.