विज्ञापन
Story ProgressBack

केवलादेव नेशनल पार्क की पहचान पर छा रहा संकट,  2012 के बाद पांचना नदी को नहीं मिला पानी

22 साल से पांचना और गम्भीर नदी का पानी नहीं मिला. केवलादेव नेशनल पार्क का 3 वर्ग किलोमीटर वेटलैण्ड कम हो गया. अब इसके पहचान पर भी संकट भी छा गया है.  

Read Time: 4 mins
केवलादेव नेशनल पार्क की पहचान पर छा रहा संकट,  2012 के बाद पांचना नदी को नहीं मिला पानी
केवलादेव नेशनल पार्क की तस्वीर

Rajasthan News: भरतपुर के केवलादेव नेशनल राष्ट्रीय उद्यान में दुनियाभर के सैकड़ों प्रजाति के हजारों पक्षी आते हैं. आर्द्र भूमि (wetland) की वजह से दुनियाभर की सैकड़ों प्रजाति के हजारों पक्षी भरतपुर के केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान आते हैं. केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान के इसी वेटलैंड की वजह से भरतपुर की दुनिया भर में पहचान है, लेकिन बीते 22 साल से इस घना (केवलादेव नेशनल पार्क) को पांचना बांध और नदियों का उचित व पूरा पानी नहीं मिल पा रहा है. इसी का नतीजा है कि जिस वेटलैण्ड (आर्द्र भूमि) की वजह से घना (केवला देव नेशनल पार्क) की बर्ड सेंचुरी की पहचान है, अब वो आर्द्र भूमि सिमटने लगी है.

Latest and Breaking News on NDTV

बीते ढाई दशक में घना की आर्द्र भूमि 11 वर्ग किलोमीटर से सिमटकर करीब 8 वर्ग किलोमीटर रह गई है. अगर समय रहते घना को पांचना बांध का नियमित पानी नहीं मिला तो धीरे-धीरे यहां की आर्द्र भूमि वुडलैंड में तब्दील हो जाएगी. जिससे इस विश्व विरासत की न केवल पहचान पर संकट खड़ा हो जाएगा, बल्कि पक्षी भी मुंह मोड़ लेंगे.

2012 के बाद पानी मिलना हुआ बंद

डीएफओ मानस सिंह ने बताया कि घना 28.73 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है. इसको वेटलैंड (आर्द्र भूमि) के रूप में विकसित किया गया था. फिलहाल घना में 6 मुख्य ब्लॉक हैं, जिनका आर्द्र भूमि के रूप में रखरखाव किया जाता है. पहले घना में गंभीरी नदी और पांचना बांध से पानी आता था. लेकिन बीते 22 साल से कभी भी घना को उसके हिस्से का पूरा पानी नहीं मिला. यहां तक कि वर्ष 2012 के बाद तो पांचना का पानी मिलना पूरी तरह बंद हो गया.

Latest and Breaking News on NDTV

वेटलैंड को बचाने के लिए जरूरी है पानी

वर्ष 1986 के शोध से स्पष्ट हुआ था कि घना के कुल क्षेत्र में से करीब 11 वर्ग किमी वेटलैंड क्षेत्र था. लेकिन लंबे समय से पर्याप्त पानी नहीं मिलने की वजह से अब उद्यान का कदंब कुंज, एफ 1 और एफ 2 ब्लॉक पूरी तरह से सूख गए हैं. इससे घना का वेटलैंड का करीब 11 वर्ग किमी क्षेत्र करीब 8 वर्ग किमी तक सिमट गया है. ये सब पानी की कमी की वजह से हुआ है. इसी का प्रभाव है कि कई प्रजाति के पक्षी यहां आना कम या बिलकुल बंद हो गए हैं. वेटलैंड को बचाए रखने के लिए पांचना बांध का पानी बहुत जरूरी है.

36 साल बाद फिर से पड़ी जरूरत

विश्व प्रसिद्ध केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान (घना) बीते तीन दशक में ग्लोबल वार्मिंग और मौसम के बदलाव के कई हालातों से गुजरा है. दुनियाभर में जिस उद्यान को वेटलैंड के लिए पहचाना जाता है, उसके क्षेत्रफल में भी कमी आई है. घना पानी की कमी के दंश को भी करीब दो दशक से झेल रहा है. ऐसे में अब करीब 36 साल बाद फिर से केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान में पानी की आवश्यकता, वेटलैंड की स्थिति पर शोध किया जाएगा.

Latest and Breaking News on NDTV

अनुमति मिलते ही शुरू होगा शोध

घना के निदेशक मानस सिंह ने बताया कि 1986 में घना पर शोध हुआ था, जिससे पता चला था कि घना के लिए 550 एमसीएफटी (मिलियन क्यूबिक फीट) पानी की आवश्यकता होती है. उसके बाद अभी तक पानी की जरूरत व अन्य पहलुओं पर दोबारा घना में शोध नहीं हुआ. अब फिर से घना में पानी की जरूरत व अन्य पहलुओं पर शोध करने के लिए प्रपोजल तैयार कर मुख्यालय को भेजा गया है. मुख्यालय की अनुमति मिलते ही शोध शुरू कर दिया जाएगा.

घट गया वेटलैंड क्षेत्र

वर्ष 1986 के शोध के आंकड़ों के अनुसार घना में करीब 11 वर्ग किमी वेटलैंड क्षेत्र था, लेकिन अब उद्यान के कदंब कुंज, एफ 1 और एफ 2 ब्लॉक पूरी तरह से सूख गए हैं. कभी ये ब्लॉक वेटलैंड थे, लेकिन अब वुडलैंड बनकर रह गए हैं. घना का वेटलैंड का करीब 11 वर्ग किमी क्षेत्र, करीब 8 वर्ग किमी तक कम होकर रह गया है. ये सब पानी की कमी की वजह से हुआ है. इसी का प्रभाव है कि कई प्रजाति के पक्षियों का यहां आना कम या बिलकुल बंद हो गया है.

ये भी पढ़ें- Success Story: 65 हजार के इन्वेस्टमेंट से करोड़पति बना भरतपुर का किसान, इस खेती से कमाया तगड़ा मुनाफा

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Watch: घर की दीवार की लड़ाई, बुजुर्ग दंपति से बदसलूकी का वीडियो हुआ वायरल
केवलादेव नेशनल पार्क की पहचान पर छा रहा संकट,  2012 के बाद पांचना नदी को नहीं मिला पानी
Dausa Road Accident: 20 injured after bus carrying pilgrims overturns in Rajasthan
Next Article
Dausa Bus Accident: चार धाम यात्रा से लौट रहे तीर्थयात्रियों की बस हादसे का शिकार, नींद की झपकी के बाद मची चीख-पुकार
Close
;