विज्ञापन
Story ProgressBack

Sanwariya Seth Temple: 4 दिन बाद भी पूरी नहीं हुई नोटों की गिनती, दान पत्र से मिले इतने करोड़ की चौंक जाएंगे आप

Sanwariya Seth Ka Mandir: राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में स्थित श्री सांवलिया सेठ मंदिर में बीते 4 दिन से दान पात्र में मिले नोटों की गिनती का काम जारी है. अब तक 12.8 करोड़ रुपये की गिनती हो गई है. नोटों के बाद सोने-चांदी की गिनती की जाएगी.

Read Time: 3 mins
Sanwariya Seth Temple: 4 दिन बाद भी पूरी नहीं हुई नोटों की गिनती, दान पत्र से मिले इतने करोड़ की चौंक जाएंगे आप

Rajasthan News: मेवाड़ के सुप्रसिद्ध कृष्णधाम श्री सांवलिया सेठ का गत 7 मई को खोले भंडार में अब तक तीन चरणों में पौने 13 करोड़ रुपए से अधिक राशि की ही हो गिनती सकी हैं. शेष बचे दानपात्र की राशि की आज चौथे राउंड में गिनती की जा रही है. इसके अलावा सोने-चांदी का तौल होना बाकी है. जानकरी के अनुसार, श्रीसांवलियाजी मन्दिर मण्डफिया का गत 7 मई को राजभोग आरती के बाद भंडार खोला गया था. 

पहले चरण की गिनती में 5.6 करोड़ रुपये

पहले दिन 7 मई को 5 करोड़ 60 लाख रुपए के नोटों की गिनती हो सकी. 8 मई को अमावस्या के चलते नोटों की गणना नहीं हो सकी. वहीं 9 मई को दूसरे राउंड और 10 मई को तीसरे चरण की गिनती पूरी हुई. अब तक तीन चरणों में 12 करोड़ 80 लाख 15 हज़ार रुपए की गिनती हुई हैं. भंडार से निकले व भेंट कक्ष में मिले सोने-चांदी का तौल होना बाकी है. श्रीसांवलियाजी मन्दिर मण्डल के सीईओ राकेश कुमार, मन्दिर मण्डल अध्यक्ष भैरु लाल गुर्जर समेत मन्दिर मडंल के सदस्यों की मौजूदगी में भंडार खोला गया व शेष नोटों की गिनती का काम जारी है. मन्दिर मण्डल व बैंक के कर्मचारियों द्वारा नोटों की गिनती की जा रही है. गत मार्च माह में रिकॉर्ड तोड़ साढ़े 18 लाख से अधिक राशि निकली थी. 

मनोकामना पूरी होने पर भक्त चढ़ाते हैं चढ़ावा

आपको बता दें कि श्रीसांवलिया सेठ के दरबार मे रोजाना सैंकड़ों की संख्या में दूर दराज से श्रद्धालु मन्दिर में दर्शन करने आते हैं. मनोकामना पूरी होने व श्रद्धा भाव से श्रद्धालु मन्दिर में चढ़ावा चढ़ाते हैं. यहां हर साल जलझूलनी एकादशी पर तीन दिवसीय भव्य मेले का आयोजन होता है. जलझूलनी एकादशी पर श्रीसांवलिया सेठ के बाल स्वरूप की पूजा अर्चना के बाद चांदी के रथ में विराजित कर सरोवर में भगवान श्रीसांवलिया सेठ शोभायात्रा के साथ स्नान घाट पर पहुंचते हैं और जल में झूलने के बाद महाआरती की जाती है. मन्दिर परिसर में शोभायात्रा पहुंचने पर भव्य आतिशबाजी की जाती है. श्रीसांवलिया सेठ के मन्दिर में हर अमावस्या को हजारों श्रद्धालुओं के आने का तांता लगा रहता है. भक्त अपनी श्रद्धा के अनुसार यहां चढ़ावा चढ़ाते हैं. बताया जाता है कि कोई व्यक्ति नया कारोबार शुरू करता है तो भगवान श्रीसांवलिया सेठ की हिस्सेदारी रखते है. कारोबार में सफलता मिलने पर भक्त संवारा सेठ के चढ़ावा चढाते हैं.

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
झालावाड़ बकरा मंडी की शान बना 'धर्मेंद्र', 5 लाख में लगी बोली,देखते रह गए शाहरुख- आमिर
Sanwariya Seth Temple: 4 दिन बाद भी पूरी नहीं हुई नोटों की गिनती, दान पत्र से मिले इतने करोड़ की चौंक जाएंगे आप
rajasthan electricity bill jaipur vidyut vitran nigam limited jvvnl increases fuel surcharge
Next Article
राजस्थान में बिजली महंगी! सरकार ने बढ़ाया फ्यूल सरचार्ज; जानिए किन लोगों पर पड़ेगा असर
Close
;