विज्ञापन
Story ProgressBack

क्या है नौतपा? 9 दिन चरम पर होगी सूर्य की गर्मी, चंद्र की घटेगी शीतलता, जानें कब होगी शुरुआत?

Nautapa 2024 Date & Time: लोक मान्यता है कि नौतपा के सभी दिन पूरे तपें, तो आगे के दिनों में अच्छी बारिश होती है. ज्योतिषों का कहना है कि चंद्रमा जब ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष में आर्द्रा से स्वाति नक्षत्र तक अपनी स्थितियों में हो और इसके साथ ही अधिक गर्मी पड़े, तो वह नौतपा कहलाता है. वहीं अगर सूर्य रोहिणी नक्षत्र में होता है तो उस दौरान बारिश हो जाती है तो इसे रोहिणी नक्षत्र का गलना भी कहा जाता है.

Read Time: 7 mins
क्या है नौतपा? 9 दिन चरम पर होगी सूर्य की गर्मी, चंद्र की घटेगी शीतलता, जानें कब होगी शुरुआत?
प्रतीकात्मक तस्वीर

Nautapa 2024: देश में गर्मी अब अपना प्रचंड रूप दिखाने लगी है. कुछ राज्यों में बेमौसम बारिश से लोगों को राहत मिली है, लेकिन ये राहत ज्यादा समय के लिए नहीं है, क्योंकि इस बार मई माह में नौतपा शुरू हो जाएगा. इन 9 दिनों की अवधि में सूर्य और पृथ्वी के बीच की दूरी काफी कम हो जाएगी और इस कारण सूर्यदेव की तपिश काफी ज्यादा महसूस होगी.

ज्योतिषाचार्य डा. अनीष व्यास ने बताया कि सूर्य 25 मई को 3:15 मिनट पर रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश करेंगे. इसके बाद नौ दिन का नौतपा रहेगा. इसके साथ ही सूर्य देव 8 जून को 1:04 मिनट तक रोहिणी नक्षत्र में रहेंगे, जिससे इन दिनों गर्मी प्रचंड रहेगी व पारा 48 डिग्री के पार कर सकता है. 

रोहिणी नक्षत्र में सूर्यदेव के प्रवेश से प्रारंभ हो जाएंगे नौतपा 

8 जून को ही सूर्य देव मृगशिरा नक्षत्र में प्रवेश कर जायेंगे और 15 जून को वृषभ राशि में प्रवेश करेंगे. रोहिणी नक्षत्र में सूर्यदेव के प्रवेश से नौतपा भी प्रारंभ हो जाएंगे. नौतपा से आशय सूर्य का नौ दिनों तक अपने सर्वोच्च ताप में होना है यानी इस दौरान गर्मी अपने चरम पर होती है. ज्योतिषाचार्य डा. अनीष व्यास ने बताया कि चंद्र देव रोहिणी नक्षत्र के स्वामी हैं, जो शीतलता का कारक हैं, परंतु इस समय वे सूर्य के प्रभाव में आ जाते हैं.

Latest and Breaking News on NDTV

नौतपा में नौ दिनों तक अपने सर्वोच्च ताप में होते हैं सूर्य

जब सूर्य रोहिणी नक्षत्र में 15 दिनों के लिए आता है तो उन पंद्रह दिनों के पहले नौ दिन सर्वाधिक गर्मी वाले होते हैं. इन्हीं शुरुआती नौ दिनों को नौतपा के नाम से जाना जाता है.। ज्येष्ठ मास की ग्रीष्म ऋतु में नौतपा को अधिक गर्मी का संकेत माना जाता है.नौतपा शुक्ल पक्ष में आर्द्रा नक्षत्र से 9 नक्षत्रों तक यानी 9 दिनों तक रहता है. हालांकि यह आवश्यक नहीं है कि नौतपा में अधिक गर्मी हो. 

नौतपा में तेज हवा के साथ बवंडर और बारिश की संभावना

आर्द्रा के 10 नक्षत्रों तक, जो सबसे अधिक गर्मी प्राप्त करता है, बाद में सूर्य उस नक्षत्र में 15 दिनों तक रहता है और अच्छी वर्षा होती है. नौतपा की शुरुआत भी रोहिणी नक्षत्र से होगी. नौतपा में तेज हवा के साथ बवंडर और बारिश की संभावना रहती है। नौतपा समय की ग्रह स्थिति तेज हवा, बवंडर और बारिश का संकेत दे रही है. इस बार 25 मई से नौतपा शुरू होंगे और 2 जून तक रहेंगे.

Latest and Breaking News on NDTV

नौतपा में संक्रमण से होने वाली मृत्यु दर में कमी आएगी

ज्योतिषाचार्य डा. अनीष व्यास ने बताया कि नौतपा के कारण संक्रमण में कमी आएगी. संक्रमण से होने वाली मृत्यु दर में कमी आएगी और संक्रमण का असर न्यूनतम होगा। देश में फैला डर का माहौल खत्म होगा। लोगों में अनुकूलता और आरोग्यता भी बढ़ेगी। खगोल विज्ञान के अनुसार इस दौरान धरती पर सूर्य की किरणें सीधी लम्बवत पड़ती हैं। जिस कारण तापमान अधिक बढ़ जाता है। यदि नौतपा के सभी दिन पूरे तपें, तो यह अच्छी बारिश का संकेत होता है।

पाल बालाजी ज्योतिष संस्थान जयपुर जोधपुर के निदेशक डा. अनीश व्यास ने बताया कि ज्योतिष गणना के मुताबिक शनि की वक्री चाल के चलते नौतपा खूब तपेगा. हालांकि नौतपा के आखिरी दो दिनों के भीतर आंधी तूफान व बारिश होने की संभावना रहेगी

नौतपा का क्या है पौराणिक महत्व?

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक डा. अनीष व्यास ने बताया कि  नौतपा का ज्योतिष के साथ-साथ पौराणिक महत्व भी है. ज्योतिष के सूर्य सिद्धांत और श्रीमद् भागवत में नौतपा का वर्णन आता है. कहते हैं जब से ज्योतिष की रचना हुई, तभी से ही नौतपा भी चला आ रहा है. सनातन सस्कृति में सदियों से सूर्य को देवता के रूप में भी पूजा जाता रहा है.

Latest and Breaking News on NDTV

नौतपा है मानसून का गर्भकाल

कुण्डली विश्ल़ेषक डा. अनीष व्यास ने बताया कि मान्यता है कि सूर्य की गर्मी और रोहिणी के जल तत्व के कारण यह मानसून का गर्भ आ जाता है और इसी कारण नौतपा को मानसून का गर्भकाल माना जाता है. ऐसे में जब सूर्य रोहिणी नक्षत्र में होता है तो उस समय चंद्रमा नौ नक्षत्रों में भ्रमण करते हैं.

नौपता पर क्या कहता है विज्ञान

भविष्यवक्ता डा. अनीष व्यास ने बताया कि वैज्ञानिक मतानुसार नौतपा के दौरान सूर्य की किरणें सीधी पृथ्वी पर आती है। इस कारण तापमान बढ़ता है. अधिक गर्मी के कारण मैदानी क्षेत्रों में निम्न दबाव का क्षेत्र बनता है, जो समुद्र की लहरों को आकर्षित करता है, इस कारण ठंडी हवाएं मैदानों की ओर बढ़ती है. चूंकि समुद्र उच्च दबाव वाला क्षेत्र होता है, इसलिए हवाओं का यह रूख अच्छी बारिश का संकेत देता है.

लोक मान्यता है कि नौतपा के सभी दिन पूरे तपें, तो आगे के दिनों में अच्छी बारिश होती है. ज्योतिषों का कहना है कि चंद्रमा जब ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष में आर्द्रा से स्वाति नक्षत्र तक अपनी स्थितियों में हो और अधिक गर्मी पड़े, तो वह नौतपा कहलाता है. वहीं सूर्य रोहिणी नक्षत्र में होता है और उस दौरान बारिश हो जाती है तो इसे रोहिणी नक्षत्र का गलना भी कहा जाता है.  
Latest and Breaking News on NDTV

नौतपा पर महिलाएं हाथ पैरों में मेहंदी लगाती हैं

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक डा. अनीष व्यास ने बताया कि परंरपरा के अनुसार नौतपा के दौरान महिलाएं हाथ पैरों में मेहंदी लगाती हैं, क्योंकि मेहंदी की तासीर ठंडी होने से तेज गर्मी से राहत मिलती है. इन दिनों में पानी खूब पिया जाता है और जल दान भी किया जाता है ताकि पानी की कमी से लोग बीमार न हो. इस तेज गर्मी से बचने के लिए दही, मक्खन और दूध का उपयोग ज्यादा किया जाता है. इसके साथ ही नारियल पानी और ठंडक देने वाली दूसरी और भी चीजें खाई जाती हैं.

नौतपा के 9 दिन क्या करें और क्या न करे?

भविष्यवक्ता डा. अनीष व्यास ने बताया कि ग्रहों और नक्षत्रों के प्रभाव में नवत्पा 25 मई से शुरू हो रहा है. नौतपा के दिनों में विवाह जैसी मांगलिक यात्रा में विशेष सावधानी बरतनी चाहिए. ग्रहों की स्थिति को देखते हुए देश के पूर्व, पश्चिम और दक्षिण में प्राकृतिक आपदाएं पैदा हो रही हैं. यह नौतपा 02 जून तक चलेगा..नौतपा के दौरान सूर्य रोहिणी नक्षत्र में रहता है। इसके फलस्वरूप सूर्य की सीधी किरणें पृथ्वी पर पड़ती हैं, इस दौरान अत्यधिक भीषण गर्मी देखी जा सकती है. सूर्य की मौजूदा स्थिति अशुभ फल दे सकती है. वृष राशि वालों के लिए वर्तमान समय खराब है.

नौतपा के 9 दिनों में क्यों पड़ती है गर्मी?

कुण्डली विश्ल़ेषक डा. अनीष व्यास ने बताया कि नौतपा में गर्म होने का वैज्ञानिक कारण यह है कि इस दौरान सूर्य की किरणें सीधे पृथ्वी पर पड़ती हैं. इस वजह से तापमान बढ़ जाता है. मौसम विज्ञान मानसून को नौतपा में गिरते पानी से प्रभावित मान रहा है, नौतपा में अक्सर ज्योतिष और मौसम विभाग आमने-सामने रहा है, क्योंकि ज्योतिषी ज्योतिष के आधार पर नौतपा में भविष्यवाणियां करते हैं और विज्ञान के आधार पर मौसम विभाग.

ये भी पढ़ें-Akshaya Tritiya 2024: 24 साल बाद अक्षय तृतीया पर नहीं है विवाह का मुहूर्त, कई शुभ संस्कार होंगे संपन्न

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Akshaya Tritiya 2024: 24 साल बाद अक्षय तृतीया पर नहीं है विवाह का मुहूर्त, कई शुभ संस्कार होंगे संपन्न
क्या है नौतपा? 9 दिन चरम पर होगी सूर्य की गर्मी, चंद्र की घटेगी शीतलता, जानें कब होगी शुरुआत?
World Laughter Day: Send jokes on World Laughter Day, friends will laugh out loud
Next Article
World Laughter Day: विश्व हास्य दिवस पर अपनों को भेजिए जोक्स, ठहाके लगाकर हंस पड़ेंगे दोस्त
Close
;