विज्ञापन

घास-फूस से कुर्सियां बनाकर अच्छी कमाई कर रही भरतपुर की महिलाएं, ऐसे कर सवार रहीं जिंदगी |Photos

भरतपुर में मुडडा - मुडडी और स्टूल व कुर्सी का प्रशिक्षण प्राप्त कर महिलाएं आत्मनिर्भर बन रही है. नाबार्ड द्वारा महिलाओं को जिले के गांव चक बीजा नगला में 15 दिवसीय प्रशिक्षण दिया जा रहा है. जिससे महिलाओ को गांव में ही रोजगार उपलब्ध हो सकेगा. (ललितेश कुशवाहा)

February 10, 2024, 2:37
  • घास-फूस से कुर्सियां बनाकर अच्छी कमाई कर रही भरतपुर की महिलाएं, ऐसे कर सवार रहीं जिंदगी |Photos
    देश में कई संस्थाएं है जो महिलाओं को रोजगार उपलब्ध कराकर आत्मनिर्भर बनाने के किए काम कर रही है.(ललितेश कुशवाहा)
  • घास-फूस से कुर्सियां बनाकर अच्छी कमाई कर रही भरतपुर की महिलाएं, ऐसे कर सवार रहीं जिंदगी |Photos
    महिलाओं ने बताया कि वह घर पर चूल्हा चौका के अलावा कुछ काम नहीं करती थी, इस संस्था के द्वारा जो हमें मुडडा - मुडडी और स्टूल व कुर्सी बनाने का जो प्रशिक्षण दिया गया है, जिससे हमें रोजगार मिला है और हम लोग पूरी तरह से काम सीख गए है. इससे काम से हमारी आर्थिक स्थिति मजबूत हो गई है.
  • घास-फूस से कुर्सियां बनाकर अच्छी कमाई कर रही भरतपुर की महिलाएं, ऐसे कर सवार रहीं जिंदगी |Photos
    एक ऐसी ही संस्था है राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड )के द्वारा सूक्ष्म उदम विकास कार्यक्रम के तहत एसके शिक्षण एवं सामाजिक विकास संस्थान के सहयोग से महिलाओं को 15 दिवसीय मुडडा - मुडडी और स्टूल व कुर्सी बनाने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है.
  • घास-फूस से कुर्सियां बनाकर अच्छी कमाई कर रही भरतपुर की महिलाएं, ऐसे कर सवार रहीं जिंदगी |Photos
    जिला विकास प्रंबधक राजेश मीणा ने बताया कि सरकार की ओर से ग्रामीण महिलाओं को सशक्त और आत्म निर्भर बनाने के लिए नाबार्ड द्वारा एसके शिक्षण एवं सामाजिक विकास संस्थान के सहयोग से भरतपुर जिले के गांव चक बीजा नगला में 15 दिवसीय प्रशिक्षण का आयोजन कर मुडडा - मुडडी और स्टूल व कुर्सी बनाने का काम सिखाया जा रहा है.
  • घास-फूस से कुर्सियां बनाकर अच्छी कमाई कर रही भरतपुर की महिलाएं, ऐसे कर सवार रहीं जिंदगी |Photos
    इस प्रशिक्षण के लिए स्पेशल ट्रेनर भी लगाए गए हैं, जो इन महिलाओं को काम सिखाकर रोजगार परख बनाने में मदद कर रहे हैं. महिलाओं के द्वारा बनाए जाने वाले सामान को सोशल मीडिया के एप से जोड़कर इनकी मार्केटिंग की जाएगी.
  • घास-फूस से कुर्सियां बनाकर अच्छी कमाई कर रही भरतपुर की महिलाएं, ऐसे कर सवार रहीं जिंदगी |Photos
    सुनीता नाम की एक महिला ने बताया कि इस संस्था के द्वारा जिस काम का प्रशिक्षण दिया गया है, उसका रॉ मटेरियल बहुत कम कीमत पर उपलब्ध होता है. सरकंडा और घास फूस से स्टूल बनाने का प्रशिक्षण दिया गया है, जो हमारे खेतों में बड़ी मात्रा में आसानी से मिल जाता है. हमारे द्वारा बनाए जा रहे मुडडा - मुडडी और स्टूल व कुर्सी बाजार में 200 रुपए से शुरू होकर 1000 रुपए तक में बिक जाते हैं. जिससे आत्मनिर्भर बनने के साथ-साथ आर्थिक स्थिति मजबूत हो रही है.
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • 24X7
Choose Your Destination