विज्ञापन
Story ProgressBack

गाय के गोबर से बनी मूर्तियों से पारंपरिक शिल्प को आधुनिक मोड़ दे रहे हैं शिल्पकार

सारदा की पहल पर्यावरण-अनुकूल सामग्री और तकनीकों का उपयोग करके शिल्प को एक आधुनिक मोड़ दे रही है. इससे यह सुनिश्चित करने में मदद मिल रही है कि आने वाले वर्षों में शिल्प प्रासंगिक और टिकाऊ बना रहेगा. ये मूर्तियां गाय के गोबर, मिट्टी और पानी सहित 100 फीसदी प्राकृतिक सामग्रियों से बनाई जाती हैं.

Read Time: 4 min
गाय के गोबर से बनी मूर्तियों से पारंपरिक शिल्प को आधुनिक मोड़ दे रहे हैं शिल्पकार
गाय के गोबर से सुंदर शिल्प

राजस्थान के झालावाड़ के छोटे से कस्बे सारदा में लोगों का एक समूह पर्यावरण-अनुकूल गाय के गोबर की मूर्तियां बनाकर पर्यावरण की रक्षा और गौ कल्याण को बढ़ावा देने के लिए काम कर रहा है. गाय के गोबर से मूर्तियां बनाना एक पारंपरिक शिल्प है, जिसका अभ्यास भारत में सदियों से किया जाता रहा है.

सारदा की पहल पर्यावरण-अनुकूल सामग्री और तकनीकों का उपयोग करके शिल्प को एक आधुनिक मोड़ दे रही है. इससे यह सुनिश्चित करने में मदद मिल रही है कि आने वाले वर्षों में शिल्प प्रासंगिक और टिकाऊ बना रहेगा. ये मूर्तियां गाय के गोबर, मिट्टी और पानी सहित 100 फीसदी प्राकृतिक सामग्रियों से बनाई जाती हैं.

सारदा कस्बे में तैयार की जाने वाली इको फ्रेंडली मूर्तियों के निर्माण में किसी भी हानिकारक रसायन का उपयोग नहीं किया जाता है. यह उन्हें पारंपरिक मिट्टी और प्लास्टर की मूर्तियों का एक टिकाऊ विकल्प बनाता है, जिनका उपयोग अक्सर त्योहारों और धार्मिक समारोहों के दौरान किया जाता है.

कैसे बनती हैं इको फ्रेंडली मूर्तियां

मूर्तियां बनाने की प्रक्रिया गाय का गोबर इकट्ठा करने से शुरू होती है. फिर गोबर को सुखाकर पीसकर बारीक पाउडर बना लिया जाता है. इस पाउडर को मिट्टी और पानी के साथ मिलाकर आटा बनाया जाता है. फिर आटे को मूर्ति के वांछित आकार में ढाला जाता है. मूर्तियां तैयार हो जाने के बाद उन्हें धूप में सूखने के लिए छोड़ दिया जाता है. एक बार जब मूर्तियां सूख जाती हैं, तो उन्हें प्राकृतिक रंगों से रंगा जाता है. सबसे आम इस्तेमाल किए जाने वाले रंग हल्दी, केसर व चंदन हैं.

vcipo1i

मूर्तियों के अलावा यह भी बनाते हैं सारदा के हुनरबाज

गाय के गोबर से बनी मूर्तियां बेहद सुंदर व आकर्षक दिखाई देती हैं. मूर्तियों के अलावा सरड़ा में गाय के गोबर से लक्ष्मी चरण, दीपक, मोबाइल स्टैंड (रेडिएशन फ्री) अर्क सहित मानचित्र भी बनाए जाते हैं.

गाय के गोबर से बनी मूर्तियों के फायदे

पर्यावरण के अनुकूल होने के अलावा, गाय के गोबर से बनी मूर्तियों के उपयोग के कई अन्य फायदे भी हैं.

1. गैर विषैले हैं और पर्यावरण के लिए सुरक्षित हैं.
2. ये बायोडिग्रेडेबल हैं और उपयोग के बाद इनसे खाद बनाई जा सकती है.
3. इन्हें बनाना अपेक्षाकृत सस्ता है.
4. मजबूत और टिकाऊ हैं.
5. इन्हें किसी भी आकार या आकार में अनुकूलित किया जा सकता है.

1neath9g

स्वामीनंद गौ विज्ञान केंद्र से लिया प्रशिक्षण

यह पहल एक पूर्व सरपंच, शिवदयाल पारेता द्वारा शुरू की गई थी, जो गाय के गोबर का इस तरह से उपयोग करने का एक तरीका खोजना चाहते थे, जिससे पर्यावरण और समुदाय को लाभ हो. उन्होंने मध्य प्रदेश के स्वामीनंद गौ विज्ञान केंद्र के विशेषज्ञों की एक टीम के साथ प्रशिक्षण लिया और तब से वह दूसरों को मूर्तियां बनाना सिखा रहे हैं.

0kb4blt

दूसरों के लिए एक प्रेरणा बने सरपंच शिवदयाल पारेता

सराडा में पर्यावरण-अनुकूल गाय के गोबर की मूर्तियां बनाने की पहल उन अन्य लोगों के लिए एक प्रेरणा है जो पर्यावरण की रक्षा और गाय कल्याण को बढ़ावा देने के तरीकों की तलाश कर रहे हैं. यह दर्शाता है कि ग्रह को नुकसान पहुंचाए बिना सुंदर और सार्थक वस्तुएं बनाना संभव है. यह पहल भारतीय संस्कृति में गायों के महत्व की भी याद दिलाती है. हिंदू धर्म में गायों को पवित्र जानवर माना जाता है, और उन्हें अक्सर पवित्रता और समृद्धि से जोड़ा जाता है. 

ये भी पढ़ें-आसमान में दिखेगी भगवान श्रीकृष्ण की 12 लीलाएं, इस बार बेहद रोमांचक होगी मेवाड़ की जन्माष्टमी

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • 24X7
Choose Your Destination
Close