विज्ञापन
Story ProgressBack

भागदौड़ भरी जिंदगी में सुख और सफलता के लिए मानसिक शांति जरूरी

BK Shivani
  • विचार,
  • Updated:
    June 12, 2024 16:51 IST
    • Published On September 12, 2023 11:50 IST
    • Last Updated On September 12, 2023 11:50 IST

मौजूदा समय में भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग खुद को वक्त नहीं दे पा रहे हैं. वे न विचारों का ठहराव ले रहे हैं, न काम से ब्रेक, बस मशीन की तरह लगातार कार्य करते जा रहे हैं, चलते जा रहे हैं. जीवन को गुणवत्तापूर्ण बनाने के लिए व्यक्ति को शारीरिक आराम की जितनी आवश्यकता है, उससे अधिक मानसिक सुकून की भी जरूरत होती है. हमारे विचार नियंत्रण में नहीं रहते इसलिए हम किसी भी काम में अपना सौ प्रतिशत नहीं दे पाते, जिससे काम की गुणवत्ता प्रभावित होती है. अन्तरराष्ट्रीय मोटिवेशनल स्पीकर ब्रह्माकुमारी शिवानी ने मानसिक शांति और मन पर नियंत्रण रखने की बाबत कई बातें बताई.

विचारों के ट्रैफिक को करें कंट्रोल

मन पर नियंत्रण करने के लिए मेडिटेशन ट्रैफिक कंट्रोल का अभ्यास करें. हर घंटे के बाद एक मिनट रुकें और अपने विचारों की जांच करें, इससे दिमाग को अगले घंटे के लिए तैयार करने में मदद मिलती है. खुशी मन की एक अवस्था है, लेकिन आज हम मानते हैं कि खुशी वह है जो हम हासिल करते हैं या जो हम खरीदते हैं और वह बाहरी स्थितियों और उपलब्धियों पर निर्भर हो गया है. 

सच तो यह है कि ख़ुशी हमारा स्वभाव है. जब मन शांत और स्थिर होता है, तो वह स्वस्थ्य अवस्था में होता है और मन का स्वास्थ्य ही खुशी है. मन की स्वस्थ स्थिति में रहना हमारे हाथ में है. उदाहरण के लिए यदि हम ट्रैफिक जाम में फंस गये हैं तो परेशान होना या स्थिर रहना चुन सकता हैं. हालांकि आपको भी पता है परेशान होने से परिस्थितियों में कोई परिवर्तन नहीं होगा तो आखिर हम शांत क्यों न रहें.

दूसरों को दोष देने की बजाय आत्ममूल्यांकन करें

वास्तव में खुश रहने के लिए जीवन में यह महत्वपूर्ण तरीका जरूर अपनाएं किसी गलती को दूसरे पर थोपने की बजाय आत्ममूल्यांकन करें कहीं उस गलती में आपका योगदान तो नहीं, और अगर नहीं भी है तो समाधान पर विचार करें समस्या पर नहीं. लोगों को दोषारोपण का खेल भावनात्मक निर्भरता दर्शाता है, हमेशा दोषारोपण ना करते रहें, खुद को चेक करें अपने स्वयं के विचार, भावनाएं बनाना और किसी भी निर्भरता से दूर रहना एक खुशहाल जीवन की ओर ले जाएगा.

मानसिक शांति, सुख और सफलता का आधार कैसे बने

बीके शिवानी कहती हैं शांति, सुख, और सफलता हमारे जीवन के महत्वपूर्ण पहलू हैं. मानसिक शांति को सुख और सफलता का आधार बनाने के लिए व्यक्ति को मेडिटेशन अभ्यास के साथ आत्म-समर्पण, सकारात्मक सोच और सामाजिक सुदृढ़ता बनाए रखना आवश्यक है. सबसे पहले, आत्म-समर्पण के माध्यम से, व्यक्ति को अपने लक्ष्य और समर्पण के प्रति समर्पित रहना चाहिए.

कर्तव्य के साथ-साथ, साहस और परिश्रम के माध्यम से  मुश्किल परिस्थितियों को सामना करने की क्षमता भी विकसित होती है. इसमें सकारात्मक सोच का महत्वपूर्ण योगदान होता है. परिवार, मित्र, और समुदाय के साथ अच्छे संबंध विकसित होने से भी मानसिक सुख बढ़ता है.

ब्रह्माकुमारी शिवानी

अन्तरराष्ट्रीय मोटिवेशनल स्पीकर

योग और प्राणायाम के जरिए जीवन को दें नई दिशा

यदि हम अपने लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए जरूरी नियमों का पालन करते हैं, तो सफलता अवश्य मिलेगी. सफलता के लिए हमें कई बार विघ्न और बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है, लेकिन इस दौरान हमें खुद पर विश्वास बनाए रखने की आवश्यकता होती है.

नियमित शारीरिक उपचार, योग और प्राणायाम के माध्यम से हम अपने शरीर को स्वस्थ रख सकते हैं, जो मानसिक तंत्र को भी सकारात्मक दिशा में प्रेरित करता है. खुद के साथ जो जैसा है उसे स्वीकार करना, अपने कौशल पर विश्वास करना सफलता की दिशा में आगे बढ़ने में मदद करता है. सही लक्ष्य तय कर सही दिशा-निर्देश में काम करना जरूरी है.

जब स्थिति आपके वश में ना हो तो क्या करें

यदि आपसे कोई अभद्र व्यवहार करता है, तो ऐसे में आप शांत रहें गलत व्यवहार करने वाले अशांत और रोगी  मानसिकता के लोग हैं, इसलिए अपने श्रेष्ठ स्वभाव में रहते हुए मन की स्थिति को ना बिगाड़ें. अपमान का सामना करना कभी-कभी कठिन हो सकता है, लेकिन समझदारी और संयम से इसका समाधान निकलना बेहद महत्वपूर्ण और समझदारी का कार्य है.

यदि कोई आपके साथ गलत व्यवहार करता है, तो सबसे पहले आपको शांत रहने का प्रयास करना चाहिए. गुस्सा करने से बेहतर है कि आप सामान्य स्थिति पर बने रहें और विचार-विमर्श से  मामले को सुलझाने का प्रयत्न करें. सबसे पहले, आपको अपनी सुरक्षा पर ध्यान देना चाहिए.

ब्रह्माकुमारी शिवानी

अन्तरराष्ट्रीय मोटिवेशनल स्पीकर

यदि स्थिति खराब है और आपको खतरा महसूस हो रहा है, तो तुरंत सहायता प्राप्त करना आवश्यक हो सकता है, यदि संभावना है कि बातचीत से बात बन सकती है तो विनम्रता से बात करें अन्यथा विवाद को बढ़ावा देने से बेहतर यह है कि आप दूर रहें.

एक स्प्रिचुअल टीचर, एक वैश्विक मोटिवेशनल स्पीकर और फेमस भारतीय यूट्यूबर ब्रह्माकुमारी शिवानी दुनिया भर में बीके शिवानी दीदी के रूप में जानी जाती है. उनको उनके उपदेशों और समाज हित की बातों के लिए जाना जाता है.

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं.

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
73 साल के हुए 'सियासत के जादूगर' अशोक गहलोत, ऐसे तय किया जननायक तक का सफर
भागदौड़ भरी जिंदगी में सुख और सफलता के लिए मानसिक शांति जरूरी
annapoorna rasoi yojana and indira rasoi were inspired by amma canteen of tamilnadu
Next Article
5 रुपए में नाश्ता, 8 रुपए में खाना... अन्नपूर्णा रसोई योजना की कैसे हुई शुरुआत
Close
;