विज्ञापन
Story ProgressBack

राजस्थान में साइबर पुलिस को मिली बड़ी सफलता, फ्रॉड के बाद पीड़िता को ऐसे वापस दिलाया पैसा

वैसे तो साइबर फ्रॉड होने के बाद लोगों को पैसे वापस मिलने की उम्मीद न के बराबर होती है. लेकिन राजस्थान में साइबर पुलिस ने बड़ी सफलता हासिल की है.

Read Time: 3 mins
राजस्थान में साइबर पुलिस को मिली बड़ी सफलता, फ्रॉड के बाद पीड़िता को ऐसे वापस दिलाया पैसा

Rajasthan News: साइबर क्राइम का जाल पूरे दुनिया में तेजी से बढ़ रहा है. वहीं राजस्थान में लगातार साइबर फ्रॉड तेजी से पैर पसार रहा है. राजस्थान के कई जिलों में आए दिन साइबर फ्रॉड, ऑनलाइन ठगी की घटनाएं सामने आ रही है. हालांकि, साइबर क्राइम की खबरों के बीच एक अच्छी खबर सामने आई है कि राजस्थान के साइबर पुलिस को बड़ी सफलता हासिल की है. पुलिस ने साइबर फ्रॉड के बाद पीड़िता के बैंक अकाउंट में 97218 रुपये की रकम को रिफंड करवाया है.

वैसे तो साइबर फ्रॉड होने के बाद लोगों को पैसे वापस मिलने की उम्मीद न के बराबर होती है. क्योंकि ऑनलाइन फ्रॉड और साइबर क्राइम के मामलों में पुलिस और बैंक सभी हाथ खड़े कर देते हैं. लेकिन एक मामले में पुलिस को बड़ी सफलता मिली है. इससे साइबर पुलिस पर लोगों का भरोसा बढ़ा है.

राजस्थान के झालावाड़ में पुलिस को मिली सफलता

झालावाड़ साइबर पुलिस ने एक बड़ी सफलता हासिल करते हुए झालावाड़ शहर निवासी एक पीड़िता के खाते से क्रेडिट कार्ड के चार्ज बंद करने के नाम पर ठगे गए 99 हजार 218 रुपए में से 97218 रुपए रिफंड करवाने में सफलता हासिल की है. पुलिस अधीक्षक ऋचा तोमर ने बताया कि साईबर फ्रॉड रोकने हेतु दिये गये निर्देशों की पालना में साईबर पुलिस थाना झालावाड़ द्वारा साईबर आपराधों के विरुद्ध प्रभावी कार्रवाई करते हुऐ पीड़िता को ऑनलाईन फाईनेंशियल फ्रॉड की राशि 97218.00/-रिफण्ड करवाई गई.

क्रेडिट कार्ड चार्ज बंद करवाने के नाम पर हुई ठगी

उन्होंने बताया कि  28 अप्रैल 2024 को प्रार्थिया प्रेमकंवर राठौड़ निवासी मंगलपुरा झलावाड़ ने एक रिपोर्ट इस आशय की दर्ज करवाई थी कि  24 अप्रैल को उसके मोबाईल नम्बर पर 02 अलग-अलग अज्ञात मोबाईल नम्बर से कॉल आया. जिसने अपने आपको केडिट कार्ड के कस्टमर केयर के सपोर्ट मेम्बर बताकर कहा कि आपका केडिट कार्ड ब्लॉक हो गया है और उसके चार्जेज कट रहे हैं. आपको इसे पूर्ण बन्द करवाने के लिये लिंक पर क्लिक कर डिटेल भरना होगा. पीड़िता ने विश्वास में आकर बताये अनुसार लिंक को क्लिक कर डिटेल भर दी. जिसके बाद ठगों ने पीड़िता से फोन पे ओपन करवाया. जिसे ओपन करत ही उसके पहली बार में 88625.00 रुपए और दूसरी बार 10593.00 रुपए कट गये. उसके बाद पीड़िता ने नजदीकी बैंक ब्रान्च में जाकर संपर्क किया तब वहां से पता चला कि यह फॉड कॉल था. इस प्रकार अज्ञात मोबाईल धारक द्वारा पीड़िता को लिंक भेजकर झांसे से उसके बैंक खाते से 99,218/ -का ट्रांजेक्शन कर लिया

पीड़िता द्वारा साइबर पुलिस को रिपोर्ट सौंपे जाने के बाद साइबर पुलिस की टीम द्वारा पीड़िता से सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त कर सम्बन्धित खाते का बैंक स्टेटमेंन्ट प्राप्त किया. बैंक स्टेटमेन्ट का तकनीकी विश्लेषण किया गया. जिस पर उक्त राशि को ठगों द्वारा त्काल 03 लेयर में आगे ट्रासंफर कर दिया गया था. जिन पर निरंतर मॉनिटरिंग कर आवश्यक कार्रवाई की गई और अंततः 97,218 रुपए रिकवर कर प्रार्थिया प्रेमकंवर राठौड़ के बैंक खाता में रिफंड  कर दिये गये है. जिस पर पीड़िता द्वारा प्रसन्नता जाहिर कर जिला पुलिस अधीक्षक एवं साईबर पुलिस थाना का आभार व्यक्त किया है.

यह भी पढ़ेंः क्या अब तक आपने नहीं बदले 2000 रुपए के नोट? RBI बोला, 'अब भी बदल सकते हैं 2 हजार के नोट'

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
1 जुलाई से लागू होने जा रहा है तीन नए कानून, सुधांश पंत ने विभागों को दिये यह निर्देश
राजस्थान में साइबर पुलिस को मिली बड़ी सफलता, फ्रॉड के बाद पीड़िता को ऐसे वापस दिलाया पैसा
how much rich is banswara mp rajkumar roat who won on bharat adivasi party ticket
Next Article
Rajasthan Politics: बांसवाड़ा के लोकसभा सांसद राजकुमार रोत कितने अमीर हैं
Close
;