विज्ञापन
Story ProgressBack

रियासत काल में टोंक की ईद होती थी बेहद खास, ईदगाह पर होता अद्भुत नजारा

ईद पर राजस्थान की सबसे बड़ी टोंक की ऐतिहासिक ईदगाह पर हजारों नमाजी एक साथ खुदा की ईबादत में सिर झुकायेंगे.

रियासत काल में टोंक की ईद होती थी बेहद खास, ईदगाह पर होता अद्भुत नजारा
रियासत काल में टोंक की ईद होती थी बेहद खास

राजस्थान की एकमात्र मुस्लिम रियासत रही टोंक की ईद रियासत काल में बहुत खास होती थी. उस समय जब टोंक नवाब शाही लवाजमे के साथ मुबारक महल से निकलकर मुख्य बाजार होते हुए ईदगाह पंहुचते थे तो टोंक की सड़कों पर नवाब की सवारी को देखने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ती थी. आज भी टोंक में राजस्थान की सबसे बड़ी ईदगाह पर सामूहिक नमाज का नजारा अद्भुत होता है. एक ही सफ में खड़े हो गए महमूद व अयाज, न कोई बंदा रहा और ना कोई बंदा नवाज.

ईद पर सुबह-सुबह सुनाई देती तोपों की गूंज

यह मंजर सोमवार को एक बार फिर ईदुलजुहा की नमाज में नजर आएगा. जब राजस्थान की सबसे बड़ी टोंक की ऐतिहासिक ईदगाह पर हजारों नमाजी एक साथ खुदा की ईबादत में सर झुकायेंगे और अमन-चैन की दुआ के लिए हाथ उठाएंगे. 1817 से लेकर मार्च 1948 तक टोंक रियासत पर नवाबों ने शासन किया. उस समय टोंक की ईद बहुत खास होती थी. ईद पर सुबह-सुबह तोप के गोलों की गूंज घोषणा करती थी कि टोंक नवाब शाही लवाजमे के साथ ईदगाह पर नमाज के लिए निकलने वाले है.

Latest and Breaking News on NDTV

उसके बाद उस समय टोंक में बड़ा कुआ से लेकर काफला बाजार, पांच बत्ती, घण्टाघर होते हुए टोंक नवाब की सवारी ईदगाह पंहुचती थी. ईदगाह पर नमाज के दौरान भी खास नजारा होता था. नमाज पूरी होने पर एक बार फिर से तोप से गोले दागे जाते थे. जो नमाज समाप्त होने का संदेश होते थे. इसके बाद टोंक नवाब अपने परिवार सहित किले या महल वापस लौटते थे. 

Latest and Breaking News on NDTV

1864 से टोंक में शुरू हुई ऊंट की कुर्बानी

बकरा ईद पर टोंक में ऊंट की कुर्बानी नवाबी शासन काल से ही होती रही, जो ऊंट को राज्य पशु का दर्जा दिए जाने पर बंद हुई. माना जाता है कि टोंक रियासत के चौथे नवाब इब्राहिम अली खां के समय 1864 से टोंक में ऊंट की कुर्बानी ईदुलजुहा पर शुरू हुई थी. उस समय की जाने वाली ऊंट की कुर्बानी भारत में खाड़ी देशों के बाद टोंक में ही होती थी. यह परम्परा लगभग 150 साल तक जारी रही.

Latest and Breaking News on NDTV

टोंक में रियासत की स्थापना 1817 में अमीर खां के टोंक रियासत के नवाब बनने के साथ हुई, जिनका शासन 1834 तक रहा. उसके बाद इस रियासत के दूसरे नवाब वजीरुद्दोला खां रहें. जिनका शासन काल 1834 से 1864 तक रहा, तीसरे शासक के रूप में मोहम्मद अली खां ने 1864 से 1867 तक शासन किया.

Latest and Breaking News on NDTV

वही टोंक रियासत के चौथे नवाब इब्राहिम अली खां का शासन काल 1867 से लेकर 1930 तक रहा जो सबसे लंबा शासन काल था. वह पांचवे नवाब के रूप में 1930 से लेकर 1947 तक सआदत अली खां नवाब रहे उसके बाद 1947 से लेकर देश आजाद होने बाद तक फारुख अली नवाब रहे.

यह भी पढे़ं- कुवैत अग्निकांड में 45 भारतीय मजदूरों की मौत के बाद एक और मुसीबत, राजस्थान से गए श्रमिक हुए बेघर

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
'राजनेताओं के इशारे पर आनंदपाल सिंह की हुई हत्या', भाई मंजीत पाल ने कोर्ट के फैसले पर दी प्रतिक्रिया
रियासत काल में टोंक की ईद होती थी बेहद खास, ईदगाह पर होता अद्भुत नजारा
War of words between Minister of State Manju Baghmar and Congress MLA Amit Chachan on bypass construction in Rajasthan Assembly
Next Article
राजस्थान विधानसभा में बाईपास निर्माण पर राज्यमंत्री और कांग्रेस विधायक के बीच जुबानी जंग
Close
;