विज्ञापन
Story ProgressBack

Rajasthan: सरकारी स्कूलों में मिड-डे मील होगा पारदर्शी, स्कूलों को खपत की जानकारी ऐप पर देनी होगी

मिड डे मील की जानकारी अपलोड करने के साथ ही कक्षा 1 से आठवीं तक के विद्यार्थियों को बाल गोपाल योजना के तहत दिए जाने वाले मिल्क पाउडर की जानकारी भी ऑनलाइन दर्ज करनी होगी. जिससे मिड डे मील और बाल गोपाल योजना की पारदर्शिता भी बनी रहेगी.

Read Time: 4 mins
Rajasthan: सरकारी स्कूलों में मिड-डे मील होगा पारदर्शी, स्कूलों को खपत की जानकारी ऐप पर देनी होगी

Mid-day Meal News: प्रदेश की सरकारी स्कूलों में कक्षा 1 से आठवीं तक विद्यार्थियों को दिए जा रहे मिड डे मील की खपत और छात्र-छात्राओं को दिए जा रहे पोषाहार पर उठ रहे सवाल को पारदर्शी बनाने के लिए मिड डे मील आयुक्तालय की ओर से एक नए नवाचार करते हुए 'राज सिम्स' नाम से एक एप्लीकेशन तैयार की गई है. इस एप्लीकेशन के माध्यम से प्रदेश के हर सरकारी स्कूल के मिड डे मील प्रभारी और संस्था प्रधान प्रतिदिन स्कूल में उपयोग किए गए गेहूं और चावल की मात्रा इस एप्लीकेशन के माध्यम से ऑनलाइन फीड करेंगे और इसके साथ ही स्कूल में बचे हुए अन्य खाद्य सामग्री की जानकारी भी अपलोड करेंगे.

विभाग की ओर से 'राज सिम्स ऐप'  शुरू करने से सरकारी स्कूलों के मिड डे मील पर सरकार और विभाग की सीधी मॉनिटरिंग हो पाएगी. जिससे यह पता लगाया जा सकता है कि किस स्कूल में कितना पोषाहार रोजाना उपयोग में लिया जा रहा है. इसके साथ ऐप के माध्यम से यह भी पता लग जाएगा की कौन से स्कूल में कक्षा एक से आठवीं तक के विद्यार्थी स्कूल में उपस्थित रहे हैं और कितने विद्यार्थियों ने पोषाहार खाया है. मिड डे मील प्रभारी और संस्था प्रधान को अप के माध्यम से सारी जानकारी प्रतिदिन ऑनलाइन अपलोड करनी पड़ेगी. अगर ऐसा नहीं किया जाता है तो संबंधित कर्मचारियों को विभाग की ओर से नोटिस देने की प्रक्रिया भी है.

पोषाहार से जुड़ी हर जानकारी देनी होगी 

जिले में मिड डे मील की जानकारी अपलोड करने के साथ ही कक्षा 1 से आठवीं तक के विद्यार्थियों को बाल गोपाल योजना के तहत दिए जाने वाले मिल्क पाउडर की जानकारी भी ऑनलाइन दर्ज करनी होगी. जिससे मिड डे मील और बाल गोपाल योजना की पारदर्शिता भी बनी रहेगी. ज्ञात रहे कि सरकारी स्कूलों में मिड डे मील में कक्षा 1 से पांचवी तक 100 ग्राम गेहूं व चावल तथा कक्षा 6 से आठवीं तक के विद्यार्थियों को डेढ़ सौ ग्राम गेहूं या चावल मिड डे मील में खाने के लिए भरोसा जाता है. इस मात्रा के आधार पर रोजाना स्कूल आने वाले विद्यार्थियों की उपस्थिति के अनुसार ही नापतोल कर पोषाहार पकाया जाएगा. जिससे खाद्यान्न सामग्री के दुरुपयोग पर भी रोक लगा सकेगी.

'राज सिम्स ऐप' पर देनी होगी जानकारी 

अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी (मुख्यालय प्रारंभिक शिक्षा) घीसाराम भूरिया व राजकीय हरदयाल उच्च माध्यमिक विद्यालय की पोषाहार कार्यवाहक प्रभारी मंजू जाट ने जानकारी देते हुए बताया कि मिड डे मील के लिए अब 'राज सिम्स ऐप' शुरू किया गया है. इस ऐप के माध्यम से सरकारी स्कूलों में दिए जाने वाले पोषाहार की जानकारी प्रतिदिन संस्था प्रधान या मिड डे मील प्रभारी देंगे. इस ऐप के माध्यम से सरकारी स्कूल में दिए जाने वाले पोषाहार की आपूर्ति और स्टॉक वितरण की जानकारी भी प्रतिदिन विभाग को मिलती रहेगी.

इससे यह भी पता चल जाएगा कि किस स्कूल में रोजाना कितने पोषाहार का उपयोग किया जा रहा है और कितने बच्चों ने स्कूल में उपस्थित रहकर पोषाहार खाया है. विभाग की ओर से पोषाहार को लेकर मिल रही शिकायत के चलते विभाग ने राज सिम्स ऐप शुरू किया गया है. जिससे सरकारी स्कूलों में दिए जा रहे पोषाहार की पारदर्शिता भी बनी रहेगी.

यह भी पढ़ें- 'राजपूत भाजपा से नाराज़ हैं, हम उन्हें मनाने में लगे, पर हमारे पास कोई जादू की छड़ी नहीं', NDTV से बोले मानवेंद्र

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
नीट परीक्षा को लेकर कांग्रेस का विरोध प्रदर्शन, डोटासरा ने कहा- 'ये छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ है'
Rajasthan: सरकारी स्कूलों में मिड-डे मील होगा पारदर्शी, स्कूलों को खपत की जानकारी ऐप पर देनी होगी
Bulldozer ran on Congress leader's hotel, shops also removed
Next Article
Bulldozer Action: कांग्रेस नेता के होटल पर चला बुलडोजर, नोटिस के बाद नहीं हटाया अतिक्रमण तो हुई कार्रवाई
Close
;