विज्ञापन
Story ProgressBack

नंबर डायल करें और पुलिस को दें अपनी हर शिकायत की सूचना, तुरंत होगी कार्रवाई... ये रहा हेल्पलाइन नंबर

पुलिस मुख्यालय में अभय कमांड सेंटर से व्यवस्थाओं की निगरानी होगी. आमजन हेल्पलाइन नंबर 87648-73137 पर फीडबैक और शिकायत दर्ज करा सकेंगे. 

Read Time: 3 mins
नंबर डायल करें और पुलिस को दें अपनी हर शिकायत की सूचना, तुरंत होगी कार्रवाई... ये रहा हेल्पलाइन नंबर
(प्रतीकात्मक तस्वीर)
जयपुर:

अब कोई भी अपराध या घटना हो तो आपको डरने की नहीं बल्कि इस नंबर पर फोन करने की जरूरत है. राजस्थान पुलिस मुख्यालय ने एक विशेष योजना लांच की है. अब पीड़ितों को बिना किसी डर या परेशानी के उनकी समस्या का समाधान मिल सकेगा. मुख्यालय द्वारा प्रदेश के थानों में संचालित स्वागत कक्षों की मॉनिटरिंग के लिए विशेष पहल करते हुए आमजन द्वारा फीडबैक और शिकायत दर्ज कराने के लिए एक हेल्पलाइन नंबर जारी किया हैं. पुलिस थानों में आने वाले परिवादी स्वागत कक्षों से संबंधित फीडबैक, सुझाव या शिकायत को अब हेल्पलाइन नम्बर 87648-73137 पर कॉल करके दर्ज करा सकेंगे. 

बिना डरे करें शिकायत

अतिरिक्त महानिदेशक, कम्युनिटी पुलिसिंग बी एल मीणा ने बताया कि इस हेल्पलाइन नंबर पर दर्ज फीडबैक, सुझाव या शिकायतों की मॉनिटरिंग पुलिस मुख्यालय स्थित अभय कमांड सेंटर पर कम्युनिटी पुलिसिंग शाखा द्वारा की जाएगी. इनकी नियमित समीक्षा कर स्वागत कक्ष संबंधी प्रक्रिया में वांछित सुधार के लिए आवश्यक ठोस कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी. मीणा ने बताया कि आगुंतकों को यदि इन स्वागत कक्ष में संचालन संबंधी कोई भी शिकायत है तो वे निर्भीक होकर अपनी शिकायत पुलिस मुख्यालय द्वारा जारी इस हेल्पलाइन नंबर पर दर्ज करा सकते हैं.

पीड़ितों को अच्छा वातावरण उपलब्ध कराना लक्ष्य 

एडीजी मीणा ने बताया कि राज्य के पुलिस थानों में निर्मित स्वागत कक्ष राज्य सरकार और राजस्थान पुलिस की महत्वाकांक्षी योजना है. पुलिस थानों में आने वाले हर पीड़ित को सौहार्द्र और सुविधापूर्ण वातावरण उपलब्ध कराना स्वागत कक्ष निर्माण का मुख्य उद्देश्य है. जहां पीड़ित से सहानुभूति पूर्वक बात कर उसकी समस्या के निदान के लिए आवश्यक कार्रवाई सुनिश्चित करने के लिए पुलिस थानों में पुलिस मुख्यालय द्वारा तैयार मानक संचालक प्रक्रिया अपनाई जा रही है.

अधिकारियों द्वारा किया जाएगा निरीक्षण

एडीजी ने बताया कि स्वागत कक्ष की एसओपी इस प्रकार से तैयार की गई है. जिससे आमजन को एक ही स्थान पर संपूर्ण सूचना और सुविधा मिल सके. सभी थानों में स्थित स्वागत कक्ष में प्रशिक्षित पुलिस कर्मियों का नियोजन दो समान पारियों में किया जा रहा है. जिनके द्वारा आवेदन, परिवाद और एफआईआर लिखने में पीड़ित की सहायता की जा रही है. उन्होंने बताया कि समय-समय पर वरिष्ठ पर्यवेक्षण अधिकारियों द्वारा थानों के निरीक्षण के दौरान भी आगंतुक ​रजिस्ट​र में दर्ज विवरण और आगंतुक/पीड़ितों से वार्ता की गई. कार्यवाही के बारे में फीडबैक प्राप्त किया जाता है. 

ये भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, 4 बार चुनाव जीतने वाले दिग्गज नेता ने दिया इस्तीफा

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
India Post Bharti 2024: डाक विभाग में 10वीं पास के लिए बंपर भर्ती, 44 हजार पदों के लिए आवेदन शुरू
नंबर डायल करें और पुलिस को दें अपनी हर शिकायत की सूचना, तुरंत होगी कार्रवाई... ये रहा हेल्पलाइन नंबर
Father's death shown in an accident for Rs 50 lakh, compassionate appointment taken in Banswara
Next Article
बांसवाड़ा: 50 लाख रुपये के लिए पिता की एक्सीडेंट में दिखा दी मौत, ले ली अनुकंपा नियुक्ति; पुत्र समेत 3 गिरफ्तार
Close
;