विज्ञापन
Story ProgressBack

राजनीति से ब्रेक लेने की बात से पलटे सतीश पूनियां, बोले, 'भावुक हो कर दी थी पोस्ट, हार के कारणों की समीक्षा करेंगे'

पूनियां ने कहा कि, मैंने भावनाओं से प्रेरित होकर एक भावुक पोस्ट की थी, उसके द्वारा यह व्यक्त करना चाहता हूं कि आमेर के अधिकांश सच्चे कार्यकर्ताओं ने पार्टी के लिए अथक परिश्रम भी किया है और प्रबुद्ध लोगों ने पार्टी के पक्ष में मतदान भी किया है, मैं उन सबका ह्रदय से आभार व्यक्त करता हूँ.

Read Time: 4 min
राजनीति से ब्रेक लेने की बात से पलटे सतीश पूनियां, बोले, 'भावुक हो कर दी थी पोस्ट, हार के कारणों की समीक्षा करेंगे'
भाजपा के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां (फाइल फोटो )

Satish Poonia News: रविवार को चुनाव के नतीजों के बाद भाजपा ने पूर्ण बहुमत हासिल कर लिया है. लेकिन भाजपा के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां आमेर से चुनाव हार गए. हारने के बाद पूनिया ने राजनीति से कुछ दिन ब्रेक लेने की बात कही थी. लेकिन आज वो अपनी बात से पलट गए. उन्होंने सोशल मीडिया मंच 'एक्स' पर कहा कि उन्होंने भावुकता में ऐसी पोस्ट कर दी थी, वो हार के कारणों की समीक्षा करेंगे और आमेर की सेवा करते रहेंगे' 

पूनियां ने कहा कि, मैंने भावनाओं से प्रेरित होकर एक भावुक पोस्ट की थी, उसके द्वारा यह व्यक्त करना चाहता हूं कि आमेर के अधिकांश सच्चे कार्यकर्ताओं ने पार्टी के लिए अथक परिश्रम भी किया है और प्रबुद्ध लोगों ने पार्टी के पक्ष में मतदान भी किया है, जो इस परिस्थिति में भी पार्टी के साथ खड़े रहे, मैं उन सबका ह्रदय से आभार व्यक्त करता हूं"

'पराजय के कारणों की उचित समीक्षा भी करेंगे'

पूनियां ने आगे लिखा, हम पार्टी के स्तर पर पराजय के कारणों की उचित समीक्षा भी करेंगे और भविष्य में पार्टी की जीत कैसे सुनिश्चित हो, इस पर भी काम करेंगे  कुछ समाचार माध्यमों ने मेरे राजनीतिक जीवन से संन्यास की बात लिखी हैं, जो सत्य नहीं है, भाजपा कार्यकर्ताओं से मेरा संवाद यथावत बना रहेगा.

पूनियां ने कहा कि, मैंने भावनाओं से प्रेरित होकर एक भावुक पोस्ट की थी, उसके द्वारा यह व्यक्त करना चाहता हूं कि आमेर के अधिकांश सच्चे कार्यकर्ताओं ने पार्टी के लिए अथक परिश्रम भी किया है और प्रबुद्ध लोगों ने पार्टी के पक्ष में मतदान भी किया है

हार के बाद राजनीति से ब्रेक की बात कही थी 

सोशल साइट एक्स पर सतीश पूनियां ने लिखा था, लोकतंत्र में जनता जनार्दन होती है, मैं आमेर की जनता के निर्णय को स्वीकार करता हूं और कांग्रेस के विजयी प्रत्याशी श्री प्रशान्त शर्मा जी को बधाई देता हूं, आशा करता हूं कि वो आमेर के विकास को यथावत गति देते रहेंगे और जन भावनाओं का सम्मान करेंगे.

उन्होंने आगे कहा था, आमेर से मेरा रिश्ता दस बरसों से है, 2013 में पार्टी के निर्देश पर चुनाव लड़ने आया था, चुनाव में मात्र 329 वोटों की हार हुई, लेकिन भाजपा की सरकार के दौरान हमने यहां विकास को मुद्दा बनाकर काम किया.

इशारों-इशारों में जाति को बताया था हार की वजह 

पूनियां ने इशारों में अपनी हार की वजह जाति को बताते हुए कहा, लोग कहते हैं कि यहां बड़ी-बड़ी जातियों का बाहुल्य है और जातियों के इस जंजाल में जाति से ऊपर उठकर कोई विकास की सोचें थोड़ा मुश्किल है, 2013-2018 में हमने कोशिश की, थोड़ा सफल हुए, विकास कार्यों से लेकर कोरोना के दौरान सेवाकार्यों से लोगों में भरोसा पैदा करने की कोशिश की थी, लेकिन शायद लोगों को समझाने में हम विफल रहे.

यह भी पढ़ें- बांसवाड़ा ज़िले की वो विधानसभा सीट जहां 70 साल में कांग्रेस से नहीं जीत पाई भाजपा

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • 24X7
Choose Your Destination
Close