विज्ञापन
Story ProgressBack

विष्णु देव साय होंगे छत्तीसगढ़ के नए मुख्यमंत्री, बीजेपी विधायक दल में हुआ फैसला

रविवार को केंद्रीय पर्यवेक्षकों की अध्यक्षता में 54 बीजेपी विधायकों की बैठक बुलाई गई थी, जिसमें सभी विधायकों से सहमित ली गई. विष्णु देव साय के नाम को लेकर ज्यादा विधायकों ने अपनी राय दी. जिसके बाद उन्हें छ्त्तीसगढ़ के अगले सीएम के रूप में चुना गया है

Read Time: 4 min
विष्णु देव साय होंगे छत्तीसगढ़ के नए मुख्यमंत्री, बीजेपी विधायक दल में हुआ फैसला
विष्णु देव साय (फाइल फोटो)

छत्तीसगढ़ में नए सीएम का चयन कर लिया गया है. बीजेपी विधायक दलों की बैठक में विष्णु देव साय (Vishnu Dev Sai) को प्रदेश का नया सीएम चुना गया है. रविवार को केंद्रीय पर्यवेक्षकों की अध्यक्षता में 54 बीजेपी विधायकों की बैठक बुलाई गई थी. जिसमें सभी विधायकों से सहमित ली गई.

माना जा रहा है कि छत्तीसगढ़ के नए सीएम के रूप में विष्‍णदेव साय का चुनाव करीब एक सप्ताह के विचार-विमर्श के बाद किया गया है. यह पीएम नरेंद्र मोदी के राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में आदिवासी नेता को लाने के विचार के अनुरूप है, जहां आदिवासियों की आबादी 32 प्रतिशत है.

रिपोर्ट के मुताबिक विष्णु देव साय के नाम को लेकर ज्यादा विधायकों ने अपनी राय दी, जिसके बाद उन्हें छ्त्तीसगढ़ के अगले सीएम के रूप में चुना गया है. विधानमंडल के नेता चुने गए विष्णु देव साय पूर्व छत्तीसगढ़ सीएम रमन सिंह के करीबी बताए जा रहे हैं.

विष्‍णदेव साय का चुनाव करीब एक सप्ताह के विचार-विमर्श के बाद किया गया. यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में आदिवासी नेता को लाने के विचार के अनुरूप है, जहां आदिवासियों की आबादी 32 प्रतिशत है. ओबीसी के बाद राज्य में आदिवासी सबसे बड़ा जनसंख्या समूह हैं. यह ऐसी स्थिति है, जिसने शुरुआत में भाजपा को आदिवासी और ओबीसी में से चुनने को लेकर उलझा दिया था. 

प्रदेश के आदिवासी इलाकों में पार्टी के अभूतपूर्व प्रदर्शन को देखते हुए विष्णु देव साय के रूप में निर्णय आदिवासियों के पक्ष में गया. भाजपा आदिवासियों की पसंदीदा सूची में कभी भी शीर्ष पर नहीं थी. इस बार पार्टी उनका मूड बदलने व आदिवासी बहुल सरगुजा क्षेत्र की सभी 14 सीटों और बस्तर की 12 में से आठ सीटों पर कब्जा करने में कामयाब रही. 

भाजपा नेताओं ने बताया कि रविवार को यहां पार्टी पर्यवेक्षकों की उपस्थिति में पार्टी के नवनिर्वाचित विधायकों के दल ने साय को अपना नेता चुना. उन्होंने बताया कि राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने साय के नाम का प्रस्ताव किया तथा प्रदेश अध्यक्ष अरुण साव और वरिष्ठ नेता बृजमोहन अग्रवाल ने उनका समर्थन किया. 

विष्णुदेव साय ने मुख्‍यमंत्री बनाए जाने की घोषणा के बाद कहा, "...मैं पूरी ईमानदारी से 'सबका विश्वास' के लिए काम करूंगा और 'मोदी की गारंटी' के तहत छत्तीसगढ़ की जनता से किए गए वादे पूरे करूंगा. प्रदेश के मुख्‍यमंत्री के रूप में हम वादों को पूरा करने का प्रयास करेंगे. पहला काम लोगों को 18 लाख आवास देना होगा."

भाजपा नेताओं ने बताया कि पार्टी के नव निर्वाचित विधायकों की दोपहर बाद बैठक आयोजित की गई जिसमें पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व द्वारा नियुक्त पर्यवेक्षक केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा, सर्बानंद सोनोवाल तथा पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव दुष्यंत कुमार गौतम उपस्थित रहे.

सरपंच से सीएम तक का सफर 

विष्‍णुदेव साय ने अपना राजनीतिक सफर सरपंच से शुरू किया था. साथ ही साय 1990 से लेकर 1998 तक मध्य प्रदेश विधानसभा के सदस्य भी रह चुके हैं. इसके साथ ही, साय 1999 में 13वीं लोकसभा के लिए रायगढ़ से निर्वाचित हुए थे. उन्‍हें 2006 में छत्तीसगढ़ में पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया था. साय केंद्र में राज्‍य मंत्री भी रह चुके हैं. 

आरएसएस के करीबी हैं साय 

59 साल के साय को पार्टी के वैचारिक संरक्षक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का भी पसंदीदा माना जाता है. इसके साथ ही वह पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के करीबी हैं, जो राज्य में पार्टी के सबसे बड़े नेता रहे हैं. 

ये भी पढ़ें-CM फेस पर सस्पेंस के बीच वसुंधरा राजे से मिलने पहुंच रहे विधायक, राजस्थान में बढ़ा सियासी पारा

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • 24X7
Choose Your Destination
Close