विज्ञापन
Story ProgressBack

Big Update: कोविशील्ड वैक्सीन से दुर्लभ Side Effets की पुष्टि, जानिए एस्ट्राजेनका ने क्या कहा?

Covid19 vaccine: एस्ट्राजेनेका ने स्वीकार किया है कि कोविशील्ड के रेयर साइड इफेक्‍ट हो सकते हैं. कंपनी ने अदालती दस्तावेज़ों में कहा है कि कोविशील्ड, दुर्लभ मामलों में एक ऐसी स्थिति का कारण बन सकती है, जिससे खून के थक्के जम सकते हैं और प्लेटलेट की संख्या कम हो सकती है.

Read Time: 4 mins
Big Update: कोविशील्ड वैक्सीन से दुर्लभ Side Effets की पुष्टि, जानिए एस्ट्राजेनका ने क्या कहा?
फाइल फोटो

Covid19 Vaccination Update:कोविड-19 रोधी वैक्‍सीन 'कोविशील्‍ड' (Covishield) बनाने वाली कंपनी एस्‍ट्राजेनेका (AstraZeneca) ने  स्‍वीकार किया है कि कोवीशील्ड वैक्सीन लेने वाले लोगों में दुर्लभ साइड इफेक्‍ट (Rare Side Effect) हो सकते हैं. यह खुलासा द टेलीग्राम की एक रिपोर्ट में हुआ है.

एस्ट्राजेनेका ने स्वीकार किया है कि कोविशील्ड के रेयर साइड इफेक्‍ट हो सकते हैं. कंपनी ने अदालती दस्तावेज़ों में कहा है कि कोविशील्ड, दुर्लभ मामलों में एक ऐसी स्थिति का कारण बन सकती है, जिससे खून के थक्के जम सकते हैं और प्लेटलेट की संख्या कम हो सकती है.

भारत में कोविशील्ड का उत्पादन सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा किया गया

महामारी के दौरान एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय द्वारा विकसित कोविशील्ड का उत्पादन सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा किया गया था और देश में व्यापक रूप से इसे लोगों को दिया गया था. पुणे बेस्ड सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया भारत की प्रमुख वैक्सीन औ रोग प्रतिरोधक दवाओ का उत्पादन करने वाली कंपनी हैं, जिसके सर्वेसर्वा आदर पूनावाला हैं.

एस्ट्राजेनेका पर दर्ज है वैक्सीन पर दावे को लेकर कई मुकदमें

एस्ट्राजेनेका को ब्रिटेन में इस दावे को लेकर कई मुकदमों का सामना करना पड़ रहा है कि उसके टीके के कारण कई मामलों में मौतें हुईं और गंभीर चोटें आईं. यूके हाई कोर्ट में 51 मामलों में पीड़ित 100 मिलियन पाउंड तक के हर्जाने की मांग कर रहे हैं.

शिकायतकर्ता जेमी स्कॉट ने की थी ब्लड क्लॉटिंग की शिकायत

मामले के पहले शिकायतकर्ता जेमी स्कॉट ने आरोप लगाया था कि उन्हें अप्रैल 2021 में वैक्‍सीन लगाई गई थी, जिससे ब्‍लड क्‍लॉटिंग (रक्त का थक्का जमने) के बाद उनके मस्तिष्क में स्थायी चोट लग गई. उन्होंने दावा किया कि इसने उन्हें काम करने में काफी दिक्‍कत होती है... अस्पताल ने उनकी पत्नी को तीन बार यहां तक ​​कहा कि वह मरने वाले हैं.

Latest and Breaking News on NDTV

एस्ट्राज़ेनेका ने पहले विरोध किया, फिर कोर्ट में स्वीकारा

रिपोर्ट में कहा गया है कि एस्ट्राज़ेनेका ने दावों का विरोध किया है, लेकिन फरवरी में एक अदालती दस्तावेज़ में स्वीकार किया कि कोविशील्ड "बहुत ही दुर्लभ मामलों में, टीटीएस का कारण बन सकता है." टीटीएस (थ्रोम्बोसाइटोपेनिया सिंड्रोम के साथ थ्रोम्बोसिस) मनुष्यों में रक्त के थक्के और कम रक्त प्लेटलेट संख्‍या का कारण बनता है. 

बहुत ही दुर्लभ मामलों में TTS का कारण बन सकती है वैक्सीन

एस्ट्राजेनेका ने कहा, "यह माना जाता है कि AZ वैक्सीन, बहुत ही दुर्लभ मामलों में, TTS का कारण बन सकती है. इसके अलावा, TTS AZ वैक्सीन (या किसी भी वैक्सीन) की अनुपस्थिति में भी हो सकता है." एस्ट्राज़ेनेका ने स्कॉट के दावे के कानूनी बचाव में अपनी स्वीकृति दी, जिससे पीड़ितों और शोक संतप्त रिश्तेदारों को भुगतान मिल सकता है.

एस्ट्राज़ेनेका ने उन दावों का खंडन किया है कि वैक्‍सीन "दोषपूर्ण" है

कंपनी की हालिया स्वीकारोक्ति वर्ष 2023 के उसके रुख का भी खंडन करती है, जिसमें उसने जेमी स्कॉट के वकीलों से कहा था कि, 'हम यह स्वीकार नहीं करते हैं कि टीटीएस सामान्य स्तर पर वैक्सीन के कारण होता है. हालांकि एस्ट्राज़ेनेका ने उन दावों का खंडन किया है कि वैक्‍सीन "दोषपूर्ण" है और इसकी प्रभावकारिता "काफी हद तक बढ़ा-चढ़ाकर बताई गई" है

ये भी पढ़ें-Health Insurance New Rules: अब 65 वर्ष की उम्र वाले भी ले सकेंगे हेल्थ इंश्योरेंस, कैंसर-एड्स पेशेंट को भी मिलेगी पॉलिसी

(अस्वीकरण: सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है. यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें. एनडीटीवी इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है.)

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Health Insurance New Rules: अब 65 वर्ष की उम्र वाले भी ले सकेंगे हेल्थ इंश्योरेंस, कैंसर-एड्स पेशेंट को भी मिलेगी पॉलिसी
Big Update: कोविशील्ड वैक्सीन से दुर्लभ Side Effets की पुष्टि, जानिए एस्ट्राजेनका ने क्या कहा?
Allergy is increasing rapidly in India due to urbanization, every year 2.5 lakh people in the world die due to asthma.
Next Article
शहरीकरण से भारत के लोग एलर्जी के चपेट में, दुनिया में हर साल अस्थमा से ढाई लाख लोगों की जाती है जान
Close
;