विज्ञापन
Story ProgressBack

गोगामेड़ी हत्याकांड से जुड़ा एक अजीबोगरीब मामला, हेड कांस्टेबल से ASI में प्रमोट होनेवाला पुलिसकर्मी जांच के घेरे में

सुखदेव सिंह गोगामेड़ी हत्याकांड मामले में जांच के दौरान कथित रूप से हेड कांस्टेबल जुगल की विशेष भूमिका निभाई थी. जिसके बाद उन्हें ASI में प्रमोशन दिया गया था.

गोगामेड़ी हत्याकांड से जुड़ा एक अजीबोगरीब मामला, हेड कांस्टेबल से ASI में प्रमोट होनेवाला पुलिसकर्मी जांच के घेरे में
Sukhdev Singh Gogamedi Case

Sukhdev Singh Gogamedi: राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की हत्या 5 दिसंबर को हुई थी. उनकी हत्या घर पर हुई जब उन्हें गोली मारा गया था. वहीं इस मामले की जांच NIA की टीम कर रही है. वहीं हत्याकांड के पीछे लॉरेंस बिश्नोई गैंग का हाथ बताया गया था. हालांकि अब तक इस हत्याकांड पर जांच चल ही रही है. लेकिन इस हत्याकांड से जुड़ा एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है. जिसके तहत इस केस से जुड़े हेड कांस्टेबल का प्रमोशन ASI में होने के बाद जांच के घेरे में आ गया है.

सुखदेव सिंह गोगामेड़ी हत्याकांड मामले में जांच के दौरान कथित रूप से हेड कांस्टेबल जुगल की विशेष भूमिका निभाई थी. जिसके बाद उन्हें ASI में प्रमोशन दिया गया था. लेकिन इस प्रमोशन के मामले में विभागीय जांच में त्रुटि का खुलासा हुआ है.

क्या है मामला

दरअसल गोगामेड़ी हत्याकांड के बाद कुछ सूटर पकड़े गए थे. जिसे पुलिस की उपलब्धि बताई गई थी. इस मामले में पुलिस मुख्यालय ने गैलेंट्री के लिए कुछ पुलिसकर्मियों का नाम भेज था. लेकिन इस सूची में हेड कांस्टेबल जुगल का नाम शामिल नहीं था. वहीं, कथिततौर पर गोगामेड़ी केस में हेडकांस्टेबल की भी विशेष भूमिका मानी गई. इसके बाद उसका नाम प्रमोशन की लिस्ट में डाला गया. वहीं प्रमोशन मिलने के बाद कुछ पुलिसकर्मियों ने इस प्रमोशन को अवैध बताते हुए DGP और सीएम को चिट्ठी लिखी गई. वहीं जब विभागीय जांच हुई तो पता चला कि हेड कांस्टेबल जुगल के खिलाफ एक आपराधिक मामला दर्ज है. ऐसे में आपराधिक मामला दर्ज होने के पर किसी पुलिसकर्मी को प्रमोशन मिलना अवैध माना जाता है. जांच में इस बात का पता चलने पर पुलिस हेडक्वाटर की ओर से ASI की ट्रेनिंग कर रहे जुगल को ट्रेनिंग सेंटर से वापस बुला लिया गया है.

बताया जाता है कि विभागीय जांच में पता चला है कि जुगल के खिलाफ साल 2021 में चोमू थाना में मामला दर्ज किया गया था. इस मामला अब भी चल रहा है. 

सीकर एसपी की भूमिका पर भी सवाल

वहीं इस मामले में सीकर एसपी की भूमिका भी सवालों के घेरे में आ गई है. बताया जा रहा है कि हेड कांस्टेबल के प्रमोशन मामले में सीकर एसपी को लेटर भेजा गया था. वहीं एसपी ने जुगल के बारे में पूरी जानकारी पता किये बिना ही लेटर को अप्रूव कर वापस मुख्यालय भेज दिया गया. इस वजह से हेड कांस्टेबल जुगल को ASI में प्रमोशन दिया गया था. मुख्यालय से जुड़े अधिकारियों का कहना है कि इस मामले में सीकर एसपी के खिलाफ दुराचार की रिपोर्ट भी भेजी गई है.

यह भी पढ़ेंः सलमान खान को मारने की धमकी केस में राजस्थान से आरोपी गिरफ्तार, लॉरेंस बिश्नोई गैंग से था प्रभावित

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
'वर्दी मुझे दहेज में नहीं मिली, किसी मंत्री-संत्री से नहीं डरता' MLA से विवाद के बाद वायरल हुआ SI रोबिन सिंह का वीडियो
गोगामेड़ी हत्याकांड से जुड़ा एक अजीबोगरीब मामला, हेड कांस्टेबल से ASI में प्रमोट होनेवाला पुलिसकर्मी जांच के घेरे में
'Sir Tan Se Juda' slogan in front of Ajmer Dargah Case, All 6 accused including Khadim Gauhar Chishti acquitted
Next Article
अजमेर दरगाह के सामने 'सिर तन से जुदा' नारे के मामले में सुनवाई पूरी, खादिम गौहर चिश्ती सहित सभी 6 आरोपी बरी
Close
;