विज्ञापन
Story ProgressBack

राजस्थान में किसानों ने दी कोटा बैराज के गेट खोलने की चेतावनी, कहा- होगी आरपार की लड़ाई

किसान 2 जुलाई को लालसोट मेगा हाइवे स्थित गणेश मंदिर पर एकत्रित होंगे. विभिन्न गांव के किसान ट्रैक्टरों के साथ कोटा बैराज कूच कर नहरों के दरवाजे खोलेंगे. 

राजस्थान में किसानों ने दी कोटा बैराज के गेट खोलने की चेतावनी, कहा- होगी आरपार की लड़ाई

Rajasthan News: राजस्थान स्थित बूंदी जिले के किसान एक बार फिर नहर की पानी की मांग को लेकर आरपार की लड़ाई लड़ने को तैयार है. एक जुलाई से नहरों में पानी छोड़ने की मांग को लेकर किसानों ने आंदोलन की रणनीति तेज कर दी है. किसानों ने संभागीय आयुक्त पर धरना देकर एक जुलाई से नहरों में पानी छोड़ने की मांग को लेकर मांग पत्र सौंपा था, लेकिन प्रशासन ने ध्यान नहीं दिया. अब कल 2 जुलाई को किसान लालसोट मेगा हाइवे स्थित गणेश मंदिर पर एकत्रित होंगे. विभिन्न गांव के किसान ट्रैक्टरों के साथ कोटा बैराज कूच कर नहरों के दरवाजे खोलेंगे. 

आंदोलन को लेकर किसानों की एक बैठक गणेश मंदिर में आयोजित हुई. जहां पर विभिन्न गांव के किसान मौजूद रहे जहां कर उसे समिति से कोटा बैराज में गेट खोलने का फैसला लिया गया. किसानों का आरोप है कि सीएडी प्रशासन ने कोटा बैराज में 10 हजार क्यूसेक से ज्यादा पानी व्यर्थ बहा दिया, लेकिन नहरों में पानी नहीं छोड़ा. प्रशासन अगर पानी छोड़ देता तो शायद यह किसानों के काम आ जाता. लेकिन सीएडी प्रशासन सरकार को बदनाम करने की साजिश रच रहा है और किसानों को पानी नहीं दे रहा तो अब हम आरपार की लड़ाई लड़ने को तैयार है.

आश्वासन के बाद भी 1 जुलाई को पानी नहीं छोड़ा गया

शुगर मिल संयुक्त किसान समन्वय समिति के अध्यक्ष गिरिराज गौतम ने बताया कि नहरों में जलप्रवाह शुरू करवाने के लिए आंदोलन तेज कर दिया है. हमने दो माह पूर्व ही मांग की थी कि 1 जुलाई से केशोरायपाटन क्षेत्र में खरीफ की फसल के लिए नहर का पानी छोड़ा जाए. विभाग ने हमें आश्वासन भी दिया था. लेकिन 1 जुलाई होने जाने के बावजूद भी पानी नहीं छोड़ा गया. जिसके चलते किसानों में आक्रोश है. जिले में मानसून की एंट्री होने के साथ ही खेतों में फसल की तैयारी में जुट गए हैं. मानसून की बारिश भी अभी तक नहीं हुई है. उन्हें पहले पानी की आवश्यकता है. लेकिन विभाग पानी को नहरों में छोड़ने के लिए तैयार नहीं है. ऐसे में हमारी फसल खराब होने का अंदेशा है. सरकार किसानों की बात करती है लेकिन सीएडी प्रशासन किसानों की मांगे नहीं मानकर सरकार को बदनाम कर रहा है. 

Latest and Breaking News on NDTV

10 दिन पूर्व कोटा बैराज से छोड़ा गया था पानी

मध्य प्रदेश में लगातार बारिश होने के चलते चंबल नदी में पानी का स्तर बढ़ रहा है, इसी को देखते हुए हाड़ौती के सबसे बड़े बांध कोटा बैराज से दो दरवाजा को खोलकर 10000 क्यूसेक सबसे अधिक पानी की निकासी की गई थी. इस पानी की निकासी से किसान नाराज हैं, किसानों का कहना है कि उस पानी को सीएडी प्रशासन ने व्यर्थ बहा दिया. जबकि उस पानी का उपयोग हो सकता था व्यर्थ बहने की बजाय व किसानों को नहर में पानी की उपयोग में दिया जा सकता था. लेकिन ऐसा नहीं किया गया और पानी व्यर्थ बह गया. जबकि खरीफ की फसल का सीजन शुरू हो चुका है इस सीजन में पानी की ज्यादा आवश्यकता होती है. जबकि किसान मानसून पर डिपेंड रहते हैं. लेकिन मानसून को एक सप्ताह हो गया लेकिन अभी तक पानी नहीं आया है. 

किसान बोले" आरपार की लड़ाई लड़ने को तैयार 

बूंदी जिले में नहरी पानी की मांग का मामला पहला नहीं है. इससे पहले भी कई बार किसान अनशन, धरना, प्रदर्शन कर चुके हैं हर वर्ष सीएडी प्रशासन के खिलाफ किसान लामबंद होते हैं. इस बार भी सीजन शुरू होते ही किसानों ने संभागीय आयुक्त प्रशासन को चेतावनी दे दी है. किसान गिरिराज गौतम ने कहा कि किसान नहर के पानी को लेकर आरपार की लड़ाई के मूड में है. प्रशासन जैसे चाहे वैसे किसानों से निपट सकता है. किसानों ने कोटा बैराज में आंदोलन की चेतावनी दी है तो किसान अपने ट्रैक्टरों के साथ लालसोट मेगा हाईवे से कोटा बैराज पहुंचकर रहेगा चाहे उसे अपनी जान तक क्यों ना गंवानी पड़े. उधर किसानों द्वारा चेतावनी दिए जाने के बाद बूंदी जिला पुलिस प्रशासन भी अलर्ट मोड पर है किसानों से वार्ता की जा रही है. 

यह भी पढ़़ेंः जयपुर की सड़कों पर SSB के खिलाफ बेरोजगारों का फूटा गुस्सा, जूनियर अकाउंटेंट भर्ती परीक्षा 2024 में लगाया फर्जीवाड़े का आरोप

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
NEET Result Sikar vs Kota: नीट रिजल्ट में सीकर का बढ़ा कद, कोटा को लगा झटका, जानें कैसे हुआ ऐसा?
राजस्थान में किसानों ने दी कोटा बैराज के गेट खोलने की चेतावनी, कहा- होगी आरपार की लड़ाई
Will the resignation be accepted, or Kirodi Lal Meena come on the back foot? JP Nadda will take decision in Delhi
Next Article
Rajasthan Politics: मंजूर होगा इस्तीफा, या बैकफुट पर आएंगे किरोड़ी लाल मीणा? जल्द आ सकता है दिल्ली से बुलावा
Close
;