विज्ञापन
Story ProgressBack

नहीं थम रही हनुमानगढ़ में हादसों की रफ्तार, किसान की मौत से आक्रोश में आए लोग

Hanumangarh-Suratgarh Road Accident: हनुमानगढ़ से सूरतगढ़ रोड पर पिछले 10 दिन के अंदर तीन बड़े सड़क हादसे हो चुके हैं. लेकिन फिर भी पुलिस प्रशासन द्वारा कोई कार्रवाई न करने पर ग्रामीण आक्रोश में हैं.  

Read Time: 3 mins
नहीं थम रही हनुमानगढ़ में हादसों की रफ्तार, किसान की मौत से आक्रोश में आए लोग
हादसे के दौरान आक्रोशित ग्रामीणों की तस्वीर

Rajasthan News: राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले में सड़क हादसे रुकने के नाम नहीं ले रहे हैं. ताजा मामले में हनुमानगढ़ जिले के सदर थाना क्षेत्र के गांव कमाना के पास खेत से आ रहे हैं. जहां एक किसान को तेज गति से आ रही कार ने टक्कर मार दी, जिससे घायल किसान की मौके पर ही मौत हो गयी. इसके बाद ग्रामीणों में आक्रोश फैल गया और ग्रामीणों ने हनुमानगढ़ सूरतगढ़ मार्ग पर जाम लगा दिया. 

लगातार हो रहे सड़क हादसे

आक्रोशित ग्रामीणों का कहना है कि वाहनों के गति पर पुलिस लगाम लगाने में नाकामयाब साबित हो रही है, जिसके चलते वाहनों की गति 100 के पार कभी भी देखी जा सकती है. करीब 9 दिन पहले गांव मक्कासर में भी हुए सड़क हादसे में एक व्यक्ति की जान चली जाने से ग्रामीणों में आक्रोश फैल गया और आक्रोशित ग्रामीणों ने बस को आग लगा दी थी. उसी दिन एक 4 वर्षीय बच्ची ने भी ट्रक की चपेट में आकर अपनी जान गंवा दी थी.

रविवार को फिर हुए एक सड़क हादसे में एक और जान गंवाने के बाद ग्रामीणों में फिर वही आक्रोश देखने को मिला और ग्रामीणों ने चक्का जाम कर दिया. मौके पर पुलिस प्रशासन पहुंचा और ग्रामीणों से समझाइश की.

पुलिस के आश्वासन पर माने आक्रोशित लोग

घटना की सूचना पर सदर थाना प्रभारी लाल बहादुर, टाउन थाना प्रभारी रामचंद्र कसवां, जंक्शन थाना प्रभारी सतपाल विश्नोई भी मय जाब्ता मौके पर पहुंचे और पीलीबंगा विधायक विनोद गोठवाल और ग्रामीणों से बातचीत की. पुलिस ने वार्ता के दौरान आश्वस्त किया कि वाहनों के स्पीड पर कंट्रोल के प्रयास किए जाएंगे और तेज गति से आने वाले वाहनों के चालान भी किए जाएंगे.

वार्ता में मृतक के परिवार को मुआवजा देने और सड़क पर स्पीड ब्रेकर बनाने को लेकर समझौता हुआ. समझाईश के बाद लोगों का गुस्सा शांत हुआ और उन्होंने जाम खोल दिया. इसके बाद सदर पुलिस ने शव को जिला अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया, जहां मृतक का पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सुपुर्द कर दिया गया. 

10 दिन के अंदर 3 बड़े हादसे

गौरतलब है कि हनुमानगढ़ से सूरतगढ़ रोड पर आए दिन कोई ना कोई सड़क हादसा होता रहता है, वजह है यातायात नियमों की अवहेलना होना. पिछले 10 दिन की बात करें तो यहां तीन बड़े सड़क हादसे हो चुके हैं. लेकिन फिर भी पुलिस प्रशासन ने कोई सबक नहीं लिया है. 

अब देखने वाली बात होगी कि इस सड़क हादसे के बाद में पुलिस प्रशासन क्या सबक लेता है और कब तक यातायात नियमों का कड़ाई से पालना करवा सड़क हादसों में कमी लाने के प्रभावी प्रयास किए जाएंगे.

ये भी पढ़ें- 245 VIP गाड़ियों पर रिकॉर्ड कार्रवाई, पूर्व विधायक समेत कई अफसरों के कटे चालान

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
RSS प्रचारक ने ‘बड़ा परिवार सुखी परिवार’ कर दिया नारा, बोले-2047 तक देश की जनसंख्या युवा होनी चाहिए
नहीं थम रही हनुमानगढ़ में हादसों की रफ्तार, किसान की मौत से आक्रोश में आए लोग
Barmer's Maili Dam lying barren for 16 years, water stagnation due to illegal mining and encroachment
Next Article
Rajasthan: 16 साल से बंजर पड़ा बाड़मेर का मेली बांध, अवैध खनन और अतिक्रमण से नहीं हो रहा जल का ठहराव
Close
;