विज्ञापन
Story ProgressBack

Rajasthan Politics: नामांकन से पहले शेखावत ने दुश्मन को बनाया दोस्त, शेरगढ़ में बोले- 'राठौड़ यहां पसीना बहाएंगे और मैं खून'

Lok Sabha Elections 2024: केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा कि शेरगढ़ की जो भी मांगे विधायक बाबू सिंह राठौड़ ने रखी हैं, उसे पूरी की जाएगी. शेरगढ़ के विकास के लिए बाबू सिंह यहां दिन रात पसीना बहाएंगे और मेरा यहां पर खून गिरेगा.

Read Time: 3 min
Rajasthan Politics: नामांकन से पहले शेखावत ने दुश्मन को बनाया दोस्त, शेरगढ़ में बोले- 'राठौड़ यहां पसीना बहाएंगे और मैं खून'
शेरगढ़ में गजेंद्र सिंह शेखावत और बाबू सिंह राठौड़.

Rajasthan News: लोकसभा चुनाव प्रत्याशी घोषित होने के साथ ही खुले तौर से शेरगढ़ विधायक बाबू सिंह राठौड़ (Babu Singh Rathore) ने केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत (Gajendra Singh Shekhawat) का विरोध किया था, और उनके क्षेत्र में विकास कार्य नहीं होने का आरोप लगाते हुए हिसाब मांगा था. यहां तक कि विधायक के कार्यकर्ताओं ने केंद्रीय जल शक्ति मंत्री का घेराव करके काले झंडे भी दिखाए थे. इसके बाद कार्यकर्ताओं के खिलाफ मुकदमे भी दर्ज हुए थे. लेकिन बाद में बीजेपी के शीर्ष नेताओं और मुख्यमंत्री ने दोनों के बीच सुलह करवा दी. मगर अब शेरगढ़ विधानसभा क्षेत्र में होली स्नेह मिलन समारोह के दौरान शेखावत ने हिसाब दिया है कि किस कारण से वे शेरगढ़ में विकास नहीं करवा पाए.

'राठौड़ की राजे-शेखावत से नहीं बनती थी'

होली स्नेह मिलन के मंच पर शेखावत ने अपने भाषण के दौरान पूर्व सीएम वसुंधरा राजे से उनके और बाबू सिंह राठौड़ के रिश्तों में कड़वाहट की बात भी कबूली. शेखावत ने कहा कि 2013 से 2018 तक प्रदेश में डबल इंजन की सरकार थी. लेकिन तब बाबू सिंह राठौड़ की मैडम से नहीं बनी थी और बाद में उनकी (शेखावत की) नहीं बनी. इसलिए शेरगढ़ का विकास नहीं हो सका. उसके बाद प्रदेश में कांग्रेस की सरकार आ गई, जिसने केंद्र के काम को रोक दिया था. लेकिन अब वर्तमान में डबल इंजन की सरकार है. ऐसे में शेरगढ़ का विकास नहीं रुकेगा. केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा कि शेरगढ़ की जो भी मांगे विधायक बाबू सिंह राठौड़ ने रखी हैं, उसे पूरी की जाएगी. शेरगढ़ के विकास के लिए बाबू सिंह यहां दिन रात पसीना बहाएंगे और मेरा यहां पर खून गिरेगा.

पुरानी बाते भूलकर गले मिले राठौड़-शेखावत

बाबू सिंह राठौड़ ने भी कार्यकर्ताओं को आश्वस्त किया कि उनके बारे में यह भ्रम फैलाया जा रहा है कि उन्होंने शेखावत से समझौता तो कर लिया है, लेकिन वह दिल से शेखावत के साथ नहीं हैं. इस बात को लेकर बाबू सिंह राठौड़ ने अपनी कुलदेवी की सौगंध दोहराते हुए कार्यकर्ताओं को आश्वस्त किया कि वह दिल से अब शेखावत के साथ हैं और जो भी गिले शिकवे हैं, वह दूर हो चुके हैं. उम्मीद करते हैं कि आने वाले दिनों में शेरगढ़ में विकास कार्य होंगे. आज की सभा से वह कहावत चरितार्थ होती दिखाई दी, जिसमें कहा जाता है कि सियासत में ना तो कोई स्थाई शत्रु होता है और ना ही मित्र. क्योंकि जिस तरह से पिछले दिनों शेखावत और राठौड़ के बीच में टकराहट देखी थी. आज वह दोनों गले मिलकर पुरानी बातों को भूलने की बात कर रहे थे. वहीं क्षेत्र की जनता अपने दोनों नेताओं को कंधे पर बैठकर मंच तक लाती हुई दिखाई दे रही थी.

ये भी पढ़ें:- राजस्थान की सबसे सुरक्षित सीट पर प्रत्याशी घोषित नहीं कर पाई BJP, जानें कहां अटका है टिकट?

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
switch_to_dlm
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Close