विज्ञापन
Story ProgressBack

Jal Mahal: जल महल के गोपाल सागर तालाब में मर गईं हजारों मछलियां, बड़ी वजह आई सामने

Jal Mahal: भरतपुर-डीग जल महल के गोपाल सागर तालाब में हजारों मछलियां मर गईं. तीन दिन बाद भी प्रशासन ने मरी मछलियों को बाहर नहीं निकाला. अन्य मछलियों के जान का खतरा है.

Jal Mahal: जल महल के गोपाल सागर तालाब में मर गईं हजारों मछलियां, बड़ी वजह आई सामने
भरतपुर-डीग जल महल के गोपाल सागर तालाब में हजारों मछलियां मर गईं.

Jal Mahal: गोपाल सागर तालाब में हजारों की संख्या में मछलियां मृत पड़ हैं. तीन दिन बीत जाने के बाद भी जिला प्रशासन ने तालाब में पड़ी मछलियों को बाहर नहीं निकाला गया है. न ही तालाब की सफाई करवाई गई है. स्थानीय लोगों का कहना है कि मछलियों की मौत भीषण गर्मी और तालाब में पानी की कमी के साथ कॉलोनियों का गंदा पानी आने से हुई है. मरी मछलियों से अब बदबू आने लगी है. जल महल में घूमने आने वाले लोगों को काफी परेशान आ रही है. 

तीन दिन तालाब में मरी पड़ी हैं मछलियां 

स्थानीय निवासी गिरीश शर्मा का कहना है कि डीग के गोपाल सागर तालाब में पानी की कमी और गंदगी की वजह से मछलियों की मौत हुई. तालाब में मृत मछलियों को पड़े हुए तीन दिन हो गए. अब मछलियों में से बदबू आने लगी है, जिसके कारण आस-पास निकलने वाले लोगों को काफी परेशानी हो रही है. जिला प्रशासन को स्थानीय लोगों ने मृत मछलियों के बारे में बताया. जिला प्रशासन द्वारा तालाब की साफ सफाई और मृत मछलियों को बाहर निकलवाने को लेकर बैठक हुई है. 

मछलियों के मरने से आने लगी बदबू 

बैठक में पुरातात्विक विभाग और नगर परिषद को साफ सफाई कराने के साथ ही सिंचाई विभाग को पानी लाने के लिए निर्देशित किया. निर्देश के बाद भी तालाब की साफ-सफाई और मृत पड़ी मछलियों को अभी तक बाहर नहीं निकल गया है. मनीषा का कहना है कि जिला प्रशासन ने जल्द मृत मछलियों को बाहर नहीं निकलवाया गया तो अन्य तालाब में जीवित मछलियों की मौत हो जाएगी. मृत मछलियों से उठने वाली बदबू से जल महल में घूमने वाले लोगों ने आना बंद कर दिया है. स्थानीय लोगों का कहना है कि जिला प्रशासन की लापरवाही के चलते इन मछलियों की मौत हुई है और प्रशासन साफ सफाई के नाम पर भी खाना पूर्ति कर रहा है.

भरतपु में जल महल के तालाब में हजारों मछलियों की मौत हो गई.

भरतपु में जल महल के तालाब में हजारों मछलियों की मौत हो गई.

गर्मी और पानी की कमी से मछलियों की हुई मौत    

पुरातत्विक विभाग के सहायक अधीक्षण एमएल भगोरा ने बताया कि जल महल के गोपाल सागर तालाब में गंदा पानी, पानी की कमी और भीषण गर्मी के कारण मछलियों की मौत हुई है. उन्होंने कहा की जिला कलेक्टर श्रुति भारद्वाज ने इस मामले को लेकर मीटिंग ली. जिसमें पुरातत्विक विभाग को तालाब में मृत मछलियों को बाहर निकलवाने और साफ सफाई के निर्देश दिए हैं. इस मामले को लेकर जयपुर उच्च अधिकारियों को अवगत करा दिया है. 

पुरातत्विक विभाग ने कहा-महलों की देख रेख करना हमारा काम   

सोमवार को जयपुर से पुरातत्विक विभाग के अधिकारी आकर तालाब की साफ सफाई और मृत मछलियों को बाहर निकलवाएंगे. हालांकि पुरातत्विक विभाग के अधिकारियों का कहना है कि साफ सफाई का कार्य हमारा नही जिला परिषद का है. हमारा कार्य तो महलों की देख रेख करना है.लेकिन फिर भी सोमवार को उच्च अधिकारियों द्वारा गोपाल सागर तालाब में मृत पड़ी मछलियों के बारे में जानकारी और साफ सफाई कराई जाएगी.

यह भी पढ़ें: किरोड़ी लाल मीणा के बयान से गरमाई राजस्थान की सियासत, बोले- '4 जून को इस्तीफा दे दूंगा अगर...'


 

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
'राजनेताओं के इशारे पर आनंदपाल सिंह की हुई हत्या', भाई मंजीत पाल सिंह ने कोर्ट के फैसले पर दी प्रतिक्रिया
Jal Mahal: जल महल के गोपाल सागर तालाब में मर गईं हजारों मछलियां, बड़ी वजह आई सामने
BJP MLA Samaram Garasia said tribal who do not consider himself a Hindu should not get benefit of reservation
Next Article
Rajasthan Politics: जो आदिवासी ख़ुद को हिंदू नहीं मानते, उन्हें आरक्षण का लाभ न मिले- BJP विधायक
Close
;