विज्ञापन
Story ProgressBack

Rajasthan Politics: टोंक में क्यों लगे सचिन पायलट मुर्दाबाद के नारे? वायरल वीडियो से गरमाई राजस्थान की सियासत

Tonk Viral Video: टोंक शहर में विरोध प्रदर्शन का एक वीडियो इस वक्त सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें लोगों की भीड़ अपने विधायक सचिन पायलट के खिलाफ मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए नजर आ रही हैं.

Rajasthan Politics: टोंक में क्यों लगे सचिन पायलट मुर्दाबाद के नारे? वायरल वीडियो से गरमाई राजस्थान की सियासत
टोंक विधायक सचिन पायलट.

Rajasthan News: राजस्थान के सियासी गलियारों में इस वक्त सोशल मीडिया पर वायरल एक वीडियो की सबसे ज्यादा चर्चा हो रही है, जिसमें लोगों की भीड़ 'सचिन पायलट मुर्दाबाद' के नारे लगाती हुई नजर आ रही है. करीब 4 मिनट के इस वीडियो में लोग सड़कों पर उतरकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं और जोर-जोर अपने विधायक के खिलाफ नारे लगा रहे हैं. इस दौरान पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी भी टोंक की जनता को समझाने की कोशिश करते हैं, मगर विरोध प्रदर्शन जारी रहता है. पायलट के गढ़ में सचिन का ऐसा विरोध देखकर सभी हैरान हैं. इसीलिए यह वीडियो गुरुवार सुबह 'X' पर टॉप ट्रेंड कर रहा है.

टोंक में सचिन पायलट मुर्दाबाद के नारे लगाती हुई भीड़.

टोंक में सचिन पायलट मुर्दाबाद के नारे लगाती हुई भीड़.
Photo Credit: NDTV Reporter

हेड कॉन्स्टेबल की टैक्टर से टक्कर के बाद मौत

यह पूरा मामला टोंक में बजरी माफिया के आतंक से जुड़ा है. कुछ दिन पहले थाना कोतवाली में तैनात हेड कॉन्स्टेबल खुशीराम को बजरी माफिया ने ट्रैक्टर से टक्कर मारकर घायल कर दिया, जिसकी जयपुर में इलाज के दौरान मौत हो गई. इस घटना के गुस्साए दलित समाज के लोग बुधवार को सड़कों पर उतर आए और कलेक्ट्रेट में नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन करने लगे. इस दौरान जिला कांग्रेस अध्यक्ष हरिप्रसाद बैरवा की मौजूदगी में सचिन पायलट मुर्दाबाद के नारे भी लगे. प्रदर्शनकारियों ने सरकार से मांग की कि मृतक पुलिसकर्मी को शहीद का दर्जा देते हुए परिवार को 1 करोड़ की सहायता राशि दी जाए. हालांकि अभी तक इस मामले में कोई सहमति नहीं बन पाई है. इस कारण बुधवार को मृतक पुलिसकर्मी का अंतिम संस्कार नहीं हो सका. वहीं शव जयपुर से टोंक भी नहीं लाया गया.

पायलट ने राज्य सरकार से की कार्रवाई की मांग

बजरी माफिया के इस आतंक का ताजा मामला सचिन पायलट के संज्ञान में है और उन्होंने एक्स पर एक पोस्ट करते हुए राज्य सरकार से इन अपराधियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने की मांग की है. उन्होंने मृतक कॉन्स्टेबल की तस्वीर शेयर करते हुए अपनी पोस्ट में लिखा, 'ट्रैक्टर द्वारा टक्कर मारे जाने से टोंक जिले के हेड कांस्टेबल खुशीराम बैरवा की मृत्यु होने की खबर हृदयविदरक है. प्रदेश में बजरी माफिया जिस प्रकार बढ़ रहा है. उस पर लगाम लगाने की सख्त आवश्यकता है. राज्य सरकार ऐसे अपराधियों के विरुद्ध कठोर कार्रवाईकरे. खुशीराम ने अंतिम समय तक अपने कर्त्तव्य का निर्वहन किया. मैं उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं एवं उनके परिजनों के प्रति संवेदनाएं व्यक्त करता हूं.'

'बजरी माफिया के खिलाफ कुछ नहीं बोला'

वहीं, सोशल मीडिया पर #सचिनपायलट के साथ की जा रहीं पोस्ट पर गौर करें तो उसमें लोग कह रहे हैं कि, 'बैरवा की हत्या के बावजूद सचिन पायलट ने बजरी माफिया के खिलाफ कुछ नहीं बोला है. टोंक में बजरी माफिया ने ये दूसरी हत्या की है. टोंक सचिन पायलट का विधानसभा क्षेत्र है. पिछली बार शंकर मीणा की हत्या हुई थी. तब न्याय दिलाने हनुमान बेनीवाल गए थे. उम्मीद है इस बार सचिन पायलट इस गरीब को न्याय दिलाने जाएंगे और बजरी माफिया के खिलाफ अपना मुंह खोलेंगे. वरना यही समझा जाएगा कि पायलट साहब की बजरी माफिया के साथ मिलीभगत है.'

ये भी पढ़ें:- वर्ल्ड चैंपियन टीम इंडिया की वतन वापसी, पीएम मोदी के साथ होगा ब्रेकफास्ट

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Sawan Somwar 2024: सावन में इस बार अद्भुत संयोग, इस मंत्र के जाप दूर होंगे सारे दुख
Rajasthan Politics: टोंक में क्यों लगे सचिन पायलट मुर्दाबाद के नारे? वायरल वीडियो से गरमाई राजस्थान की सियासत
Bhilwara: Businessman kidnapped and ransom demanded of Rs 45 lakh, police rescued him after 8 hours
Next Article
भीलवाड़ा: व्यापारी को किडनैप कर 45 लाख की मांगी फिरौती, रातभर चले सर्च अभियान के बाद छुड़ाया
Close
;