विज्ञापन
Story ProgressBack

राजस्थान में सुबह 8 बजे शुरू हुई वन्यजीव गणना, मचान पर बैठकर वाटर होल पद्धति से हो रही गिनती

पिछले साल बे मौसम बारिश के चलते वाटर होल पद्धति से वन्य जीव गणना नहीं हो पाई थी. ऐसे में इस बार वन्यजीवों की गणना महत्वपूर्ण हैं. वाटर होल पद्धति से वन्य जीव गणना से ही वन्यजीवों की संख्या के वास्तविक आंकड़े मिल पाएंगे.

राजस्थान में सुबह 8 बजे शुरू हुई वन्यजीव गणना, मचान पर बैठकर वाटर होल पद्धति से हो रही गिनती

Rajasthan News: राजस्थान के जंगलों में आज सुबह 8 बजे से वन्यजीव गणना (Wildlife Census) शुरू हो गई है, जो शुक्रवार सुबह 8 बजे तक जारी रहने वाली है. इन 24 घंटों के दौरान वनकर्मी, वन्यजीव प्रेमी साथ मिलकर वाटर होल पद्धति (Water Hole Method) से बाघ-बघेरे, भालू, भेड़िया, जरख, चिंकारा, चीतल, काले हिरण, विभिन्न प्रजातियों के पक्षी आदि दूसरे वन्यजीवों की संख्या का आकलन करेंगे. 

मचान पर बैठकर की जाएगी गिनती

कोटा में वन्यजीव मंडल ने 2 दिन पहले ही वनकर्मियों वन्यजीव प्रेमियों को गणना का प्रशिक्षण करवाया. इसके बाद आज सुबह 8 बजे से पूरे प्रदेश में मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक पीके उपाध्याय की मॉनिटरिंग में वन्यजीव गणना चल रही है. जहां बाघ-बघेरे व दूसरे वन्यजीवों की संख्या का आकलन किया जा रहा है. कोटा के अभेड़ा तालाब, उम्मेदगंज, भैंसरोड गढ़, शेरगढ़ सेंचुरी में वाटर पॉइंट पर मचान बनाए गए हैं. मचान पर बैठकर वन्यजीवो को गिना जाएगा. रात होने पर पूर्णिमा की धवल चांदनी रात की रोशनी में वन्यजीव गिने जाएंगे.

पिछली बार बारिश ने बिगाड़ा था खेल

पिछले साल बे मौसम बारिश के चलते वाटर होल पद्धति से वन्य जीव गणना नहीं हो पाई थी. ऐसे में इस बार वन्यजीवों की गणना महत्वपूर्ण हैं. वाटर होल पद्धति से वन्य जीव गणना से ही वन्यजीवों की संख्या के वास्तविक आंकड़े मिल पाएंगे. वनकर्मी बुधराम जाट, मनोज शर्मा ने बताया वन्यजीव गणना के लिए एक वाटर प्वाइंट पर दो लोग है, खाने पीने की व्यवस्था की गई है. जैसे जैसे वन्यजीव पानी पीने आ रहे है मचान पर बैठे गणक इनकी गिनती कर रहे है.

वाटर होल पद्धति से कैसे होती है गणना?

सहायक वनपाल बुधराम जाट ने बताया कि वाटर होल पद्धति के तहत जब गणना की जाती है तो जंगल के किसी भी वाटर पॉइंट पर ऊंचाई पर मचान बनाकर गणना करने वाले कर्मी को नोट सीट देकर तैनात किया जाता है. तालाब पोखर पर आने वाले वन्य जीव की प्रजाति, संख्या नर एवं मादा की पहचान नोट शीट में दर्ज की जाती है. 24 घंटे में कितने वन्य जीव वाटर पॉइंट पर पहुंचे. इसकी पूरी मॉनिटरिंग की जाती है. वहीं आसपास नजर आने वाले बर्डस की भी काउंटिंग एवं प्रजाति के बारे में नोट शीट में रिकॉर्ड मेंटेन किया जाता है. वाटर होल पद्धति के तहत जो भी वन्य जीव विभिन्न प्रजातियों के बुद्ध पूर्णिमा पर ही गणना की जाती है, क्योंकि रात में भी विजिबिलिटी बेहतर रहती है. तालाब पर आने वाले वन्य जीव चांद की रोशनी में साफ नजर आते हैं.

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
मदन दिलावर ने AC चलाने वालों से लेकर मुफ्त खाद्य उपभोक्ता से लगवाएंगे पौधे, लिस्ट देखें किसे लगाने हैं कितने पौधे
राजस्थान में सुबह 8 बजे शुरू हुई वन्यजीव गणना, मचान पर बैठकर वाटर होल पद्धति से हो रही गिनती
Bikaner division will benefit from organ transplant facility in PBM hospital Jaipur doctors come to treat patients
Next Article
Rajasthan: पीबीएम अस्पताल की इस सुविधा से मिलेगा बीकानेर संभाग को फायदा, मरीजों के इलाज के लिए जयपुर से आएंगे डॉक्टर
Close
;