विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Nov 14, 2023

Rajasthan Famous Sweet: झालावाड़ की इस मिठाई की बढ़ रही विदेशों में मांग, GI टैग मिलने की है उम्मीद

पहले फीणी की मांग सर्दी के मौसम में ही रहती थी. लेकिन अब पूरे वर्ष इसकी मांग रहती है. बाहर से आने वाले रिश्तेदारों के साथ ही यहां से बाहर जाने वाले अधिकांश लोग यहां की मशहूर फीणी को अपने साथ लेकर जाते हैं. आलम यह है कि दुबई, अमेरिका इंग्लैंड जैसे कई देशों में लोग अपने परिजनों के साथ ही संबंधी और मित्रों के लिए सौगात के रूप में फीणी लेकर जाते हैं.

Read Time: 4 mins
Rajasthan Famous Sweet: झालावाड़ की इस मिठाई की बढ़ रही विदेशों में मांग, GI टैग मिलने की है उम्मीद
Jhalawar:

अधिकांश राजस्थानियों ने कभी न कभी कोटा की कचौड़ी, बीकानेर का भुजिया, ब्यावर की तिल पट्टी की तरह झालरापाटन में बनाई जाने वाली फेनी का स्वाद जरूर लिया होगा. वसुंधरा राजे के विधानसभा क्षेत्र में बनने वाली फेनी/फीणी अब पूरे देश के साथ ही विदेशों तक में अपनी पहचान बना चुका है. साथ ही इसकी खुशबू भी अब सात समंदर पार भी महकने लगी है. 

जिले की झालरापाटन की मशहूर फीणी अब देश के साथ विदेश में अपनी खास पहचान बन चुकी है. यह मिठाई विदेशी लोगों के जुबान पर भी चढ़ रही है. झालरापाटन शहर में पिछले 200 वर्षों से फीणी बनाने का काम गली-मोहल्लों में होता आया है. इसकी वजह से यहां की एक खास पहचान बन चुकी है. माना जाता है कि फीणी बेहद शुद्ध मिठाई होती है. इसमें किसी भी प्रकार की कोई मिलावट नहीं होती है.

Latest and Breaking News on NDTV

फणी को तैयार करता युवक

फीणी दीवाने लोग दीवापली के सीजन में इसे खरीदने के लिए मिठाई की दुकानों पर उमड़ पड़ते हैं. सस्ती-सुंदर-टिकाऊ मैदा की फीणी की महक न केवल बाजारों में बल्कि घर-घर पहुंच चुकी है.

ऐसे बनती है फीणी

फीणी बनाने की पूरी प्रक्रिया में काफी मेहनत लगती है. पहले मेंदा को रात भर के लिए भिगोया जाता है. उसके बाद मेंदे के कई टुकड़े कर उनको बल देने का काम शुरू होता है. जो काफी मेहनत का कार्य होता है. गुंधे हुए मेंदे से फिर सैंकड़ों टुकड़े किए जाते हैं. फिर उनकी लोइयां बना कर उनको घी में तला जाता है और जैसे-जैसे उसकी लोइयों को तला जाता है. वह बिखरना शुरू कर देती हैं, और एक-एक धागा अलग हो जाता है. कुछ इसी तरह फीणी अपना आकर ले लेती है. उसके बाद फीणी को चीनी की चाशनी में भिगोकर मिठास दी जाती है.

दो प्रकार की होती है फीणी

फीणी दो प्रकार की होती हैं. एक वह जिनको दूध वाली फीणी कहा जाता है. यह हल्के बादामी रंग की होती है. दूसरी सादी फीणी जो सफेद रंग की होती है. दूधवाली फीणी महंगी होती है, जबकि सादा फीणी सस्ती होती है. लेकिन दोनों में ही शुद्धता की पूरी गारंटी होती है. आप इनको लंबे समय (अधिकतम 3 माह) तक अपने घर में रख सकते हैं. फिर भी यह खराब नहीं होती है. क्योंकि इनमें जरा भी मिलावट नहीं होती है. त्योहारी सीजन में विशेष तौर पर फीणी की मांग बढ़ जाती है. ऐसे में आजकल झालरापाटन के बाजारों में चारों तरफ फीणी के थाल सजे हुए नजर आते हैं.

Latest and Breaking News on NDTV

नकली मावा मिठाइयों का ज्यादा चलन 

आजकल नकली मावा मिठाइयों के कारण भी लोगों का रुझान देसी मिठाई की तरफ बढ़ने लगा है. और इसी को देखते हुए लोग अब फीणी को खरीदने में लगे हैं. देसी मैदा से बनने वाली इस मिठाई की महक ने इसको घर-घर पहुंचा दिया है. आजकल आलम तो यह है कि राजस्थान के घेवर और फीणी के बिना मेहमानों की मेहमान नवाजी को भी‌ अब इसके बिना अधूरा माना जाता है.

GI मिलने की उम्मीद 

राजस्थान की बीकानेर भूजिया (खाद्य वस्तु) को इससे पहले GI  मिल चुका है. वहीं जयपुर के घेवर और झालावाड़ की फ़ीणी दोनों ही मिठाई इस टैग की लम्बी रेस में शामिल हैं.

राजस्थान की निम्न 12 वस्तुओं (लोगो सहित शामिल करने पर 16 ) को जीआई टैग दिया जा चुका है-

  • बगरू हैंड ब्लॉक प्रिंटिंग (हस्तशिल्प)
  • जयपुर की ब्लू पॉटरी (हस्तशिल्प),जयपुर 
  • जयपुर की ब्लू पॉटरी (लोगो),जयपुर 
  • राजस्थान की कठपुतली (हस्तशिल्प)
  • राजस्थान की कठपुतली (लोगो)
  • कोटा डोरिया (हस्तशिल्प)
  • कोटा डोरिया (लोगो) 
  • राजस्थान का मोलेला मिट्टी का काम (लोगो) (हस्तशिल्प)
  • फुलकारी (हस्तशिल्प)
  • पोकरण मिट्टी के बर्तन (हस्तशिल्प)
  • सांगानेरी हैंड ब्लॉक प्रिंटिंग (हस्तशिल्प),जयपुर 
  • थेवा आर्ट वर्क (सोने के आभूषण - हस्तशिल्प) ,प्रतापगढ़ 

खाद्य सामग्री

  • बीकानेरी भुजिया (खाद्य सामग्री), बीकानेर 

प्राकृतिक सामान

  • मकराना मार्बल (प्राकृतिक सामान), डीडवाना कुचामन 
  • सोजत मेहंदी, पाली 

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Diwali Special Story:- राजस्थान के बांसवाड़ा में दिवाली पर निभाई जाती है ये अनोखी परंपरा, नव विवाहित के लिए होती है बेहद खास
Rajasthan Famous Sweet: झालावाड़ की इस मिठाई की बढ़ रही विदेशों में मांग, GI टैग मिलने की है उम्मीद
Rajasthan Sports News Many international archers will be participants in the 43rd NTPC National Junior Archery Competition, know when it will start.
Next Article
43वीं NTPC राष्ट्रीय जूनियर तीरंदाजी प्रतियोगिता में कई अंतरराष्ट्रीय तीरंदाज होंगे प्रतिभागी, जानें कब होगी शुरुआत?
Close
;