विज्ञापन
Story ProgressBack

सब्जी बेचने वाले की पहलवान बेटी का नेशनल टूर्नामेंट में परचम, खून-पसीना एक कर पिता के संकल्प को किया पूरा

माली खेड़ा की तंग गलियों में रहने वाले छोटू माली ने अपनी सभी बेटियों को पहलवानी करवाने का संकल्प लिया. बेटी ने भी छोटू माली के सपने को साकार करने के लिए जमकर पसीना बहाया और करीब एक दर्जन से अधिक नेशनल मेडल माता-पिता की झोली मिलकर डालें.

Read Time: 3 mins
सब्जी बेचने वाले की पहलवान बेटी का नेशनल टूर्नामेंट में परचम, खून-पसीना एक कर पिता के संकल्प को किया पूरा
किसान परिवार की पहलवान बेटी माया माली का भव्य स्वागत करते ग्रामीणों की तस्वीर

Wrestler Maya Mali: राजस्थान के एक किसान परिवार की बेटी माया माली ने अपने मेहनत और लगन का परिचय देते हुए इतिहास रच दिया है. माया के पिता खेती करते है और माँ सब्जी बेचने का काम करती है. मां-बाप का सपना था बेटी देश और प्रदेश के लिए मेडल जीते. बेटी ने भी राष्ट्रीय स्तर के फेडरेशन कप रेसलिंग टूर्नामेंट में कांस्य पदक जीतकर माता-पिता की सपनों को साकार किया. कुश्ती के प्रतिष्ठित नेशनल टूर्नामेंट में मेडल जीतकर भीलवाड़ा लौटने पर कपड़ा नगरी की बेटी माया माली का लोगों ने जोरदार स्वागत किया. 

कपड़ा नगरी भीलवाड़ा की पुराने शहर माणिक्य नगर, माली खेड़ा की तंग गलियों में रहने वाले छोटू माली ने अपनी सभी बेटियों को पहलवानी करवाने का संकल्प लिया. बेटियों से नेशनल टूर्नामेंट में मेडल की जितने का सपना संजोया. बेटी ने भी छोटू माली के सपने को साकार करने के लिए जमकर पसीना बहाया और करीब एक दर्जन से अधिक नेशनल मेडल माता-पिता की झोली मिलकर डालें. माया भीलवाड़ा में केसरी नन्दन व्यायामशाला में कुश्ती का अभ्यास करती है.

राष्ट्रीय सीनियर फेडरेशन कप में जीता कांस्य पदक

ऐसा ही एक टूर्नामेंट गत दिनों राष्ट्रीय सीनियर फेडरेशन कप वाराणसी (उत्तर प्रदेश) में 24 से 26 अप्रैल तक हुआ. फेडरेशन कप टूर्नामेंट में देश भर की अकादमियों और प्रदेशों से बेस्ट महिला पहलवानों ने शिरकत की थी. 68 किलोग्राम भार वर्ग में कांस्य पदक जीतने वाली माया माली वर्तमान में भीलवाड़ा एमएलवी कॉलेज के बीए प्रथम वर्ष की स्टूडेंट है. केसरी नंदन व्यायाम शाला भीलवाड़ा पहुंचने पर पहलवानों ने माया माली का जोरदार स्वागत अभिनंदन किया.

भारतीय टीम के कोच रहे प्रशिक्षक जगदीश जाट का कहना है कि माया माली में टैलेंट है और काफी मेहनती भी है. आने वाले समय में यह प्रदेश और देश का नाम रोशन करेंगी. गौरतलब है कि कोच जगदीश जाट 2021 में अंडर 17 भारतीय टीम के कोच के रूप में एशियन चैंपियनशिप में गए थे, जहां भारतीय टीम ने चैंपियनशिप जीती थी.

अब तक यह जीत चुकी हैं ये मेडल

प्रथम अंडर 15 अप रजत पदक, कोटा अंडर 15 में दूसरा कांस्य पदक, नेशनल अंडर 17 बेल्लारी (कर्नाटक) में कांस्य पदक, ट्रेडिशन कप रोहतक गोल्ड मेडल, अंडर 17 में रांची झारखंड में कांस्य पदक, अंडर 19 में पटना को कांस्य पदक, अंडर 19 स्कूल गेम दिल्ली स्वर्ण पदक, अखिल भारतीय विश्वविद्यालय चंडीगढ़ कांस्य पदक, वरिष्ठ नागरिक कप काशी में कांस्य पदक अंडर 19 में पटना को कांस्य पदक हासिल कर चुकी है.

ये भी पढ़ें- Pride Of Rajasthan: कौन हैं हॉकी वाली सरपंच नीरू यादव, 3 मई को संयुक्त राष्ट्र को करेंगी संबोधित

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Pride Of Rajasthan: कौन हैं हॉकी वाली सरपंच नीरू यादव, 3 मई को संयुक्त राष्ट्र को करेंगी संबोधित
सब्जी बेचने वाले की पहलवान बेटी का नेशनल टूर्नामेंट में परचम, खून-पसीना एक कर पिता के संकल्प को किया पूरा
Maheshwari Chauhan of Jalore won silver medal in shotgun qualifier, gave India 21st quota in shooting.
Next Article
Pride of Rajasthan: जालौर की माहेश्वरी चौहान ने शॉटगन क्वालीफायर में रजत पदक जीता, प्रदेश का बढ़ाया मान
Close
;