विज्ञापन
Story ProgressBack

संजीवनी प्रकरण की जांच को भटकाने का काम कर रहे CM गहलोत : गजेंद्र सिंह शेखावत

केन्द्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने राजस्थान सीएम अशोक गहलोत पर बड़ा आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि सीएम संजीवनी प्रकरण की जांच को भटकाने का काम कर रहे हैं. मालूम हो कि इस केस की जांच साढ़े चार से अटकी है.

Read Time: 5 min
संजीवनी प्रकरण की जांच को भटकाने का काम कर रहे CM गहलोत : गजेंद्र सिंह शेखावत
केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत.

संजीवनी प्रकरण को लेकर केन्द्रीय जलशक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर बड़ा हमला बोला है. उन्होंने कहा कि साढ़े चार साल में इस प्रकरण की जांच न तो राज्य की एसओजी ने पूरी की और न ही इसे सीबीआई को सौंपा जा रहा. मुख्यमंत्री गहलोत इस मामले में राजनीति करते हुए केवल जांच को भटकाने का काम कर रहे हैं. जोधपुर सर्किट हाउस में पत्रकारों से बातचीत में केन्द्रीय मंत्री शेखावत ने संजीवनी प्रकरण में कहा कि आदर्श और संजीवनी सहित करीब 14 क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसायटियां ऐसी हैं, जिन्होंने करोड़ों रुपए निवेशकों के ठगे हैं. आदर्श सोसायटी ने तो उससे भी ज्यादा बड़ा घोटाला किया है, लेकिन मुख्यमंत्री जी उसका जिक्र नहीं करते.

केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा कि केवल मेरा नाम घसीटने के लिए संजीवनी का नाम लेते हैं. शेखावत ने कहा कि संजीवनी सहित अन्य सोसायटियों का राजस्थान के अलावा अन्य प्रदेशों में भी कारोबार रहा है. वहां के निवेशकों को भी ठगा गया है. इस मामले में संसद से पारित स्पष्ट कानून है कि मल्टी स्टेट सोसायटियों की जांच सीबीआई करेगी, लेकिन मुख्यमंत्री जी इसे सीबीआई को देना ही नहीं चाहते.

गुजरात और एमपी ने सीबीआई को सौंपी जांच

केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि मेरा स्पष्ट आरोप है कि जांच को डिरेल करने का काम मुख्यमंत्री कर रहे हैं. इन सोसायटियों को बचाने का षड्यंत्र गहलोत सरकार कर रही है. शेखावत ने कहा कि आज सहारा के निवेशकों को पैसा मिल रहा है. संसद में यह कानून ही इसलिए पारित हुआ है कि निवेशकों का मूलधन प्राथमिकता के साथ लौटाएं, लेकिन इस प्रक्रिया में अवरोध पैदा किया जा रहा है. गुजरात और मध्यप्रदेश ने संजीवनी का प्रकरण सीबीआई को सौंप दिया, लेकिन राजस्थान सरकार को क्या मोह है कि वे जांच सीबीआई को क्यों नहीं सौंपना चाहते?

साढ़े चार साल तक एसओजी जांच नहीं कर पाई

केन्द्रीय मंत्री शेखावत ने कहा कि चूंकि संजीवनी घोटाला राजस्थान में हुआ है, इसलिए जांच राजस्थान सरकार को ही करनी चाहिए. एसओजी साढ़े चार साल तक अभी जांच ही कर रही है. उनका वकील कोर्ट में कहता है कि उनका (शेखावत) किसी एफआईआर और चार्जशीट में नाम नहीं है. अब वकील के ऊपर आरोप लगाने का वीडियो भी सबसे सामने है. मुख्यमंत्री जी चाहते क्या हैं? जहां जांच करनी चाहिए, वहां जांच से पीछे हटते हैं.

राज्य सरकार के हर महकमे में भ्रष्टाचार

शेखावत ने आगे कहा कि राज्य सरकार भ्रष्टाचार की रोज नई पटकथा लिख रही है. ऐसा कोई महकमा नहीं, जिसमें भ्रष्टाचार नहीं हो रहा है. यहां तक कि गहलोत की महत्वाकांक्षी योजना अन्नपूर्णा फूड पैकेट के वितरण तक में घोटाला हो रहा है. उन्होंने कहा कि यदि एक सामान्य दुकानदार के यहां खाद्य सामग्री में मिलावट मिले तो उसे उठाकर जेल में डाल दिया जाता है, जबकि यहां खुद सरकार की ओर से वितरित खाद्य सामग्री में मिलावट है। जैसलमेर में हजारों परिवारों तक मिलावटी खाद्य सामाग्री के पैकेट पहुंच गए. कार्रवाई के नाम पर केवल ठेकेदार को चेतावनी देकर छोड़ दिया गया.

वन नेशन वन इलेक्शन पर भी बोले शेखावत

वन नेशन वन इलेक्शन के मुद्दे पर केंद्रीय मंत्री शेकावत ने कहा कि इस बारे में पहले भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपनी राय व्यक्त कर चुके. देश में बार-बार चुनाव होने से समय बर्बाद होता है. धन की बेतहाशा बर्बादी होती है। इसलिए आदर्श स्थिति देश में यह हो सकती है, ऐसा पीएम ने कहा था. उन्होंने इस दिशा में सोचने के लिए देश के सभी वर्गों का आह्वान किया था. भाजपा ने इस विषय में पहले के तीन चुनाव घोषणा पत्रों में संकेत किया है. हालांकि, अभी इस बारे में कोई निर्णय नहीं हुआ है, लेकिन एक राष्ट्र-एक चुनाव एक आदर्श स्थिति है और हमें इस दिशा में बढ़ना चाहिए. इसके लिए एक वातावरण निर्माण करने की जरूरत है.

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां - ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

लाइव खबर देखें:
फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • 24X7
Choose Your Destination
Close