विज्ञापन
Story ProgressBack

प्राइवेट स्कूलों पर नकेल कसने की तैयारी में सरकार, सरकारी स्कूलों की तरह ही होगा निरीक्षण, स्कूल संचालक कर रहे विरोध

प्राइवेट स्कूलों के नियमित परीक्षण के लिए जारी गाइडलाइन में 21 बिन्दुओं को शामिल किया गया है. निरीक्षण के दौरान कमेटी इन्हीं को आधार बना कर स्कूल की जांच करेगी. इनमें से दो बिन्दुओं पर निजी स्कूल संचालकों ने ऐतराज़ जताया है.

Read Time: 3 mins
प्राइवेट स्कूलों पर नकेल कसने की तैयारी में सरकार, सरकारी स्कूलों की तरह ही होगा निरीक्षण, स्कूल संचालक कर रहे विरोध
प्रतीकात्मक फोटो

Government crackdown on private schools: राजस्थान में सरकार के बदलते ही प्राइवेट स्कूलों पर लगाम कसने की तैयारी शुरू हो गई है. अब निजी स्कूलों का भी नियमित निरीक्षण शिक्षा विभाग करेगा. प्रारम्भिक शिक्षा निदेशक ने इसके आदेश जारी किए हैं. इस आदेश के जारी होते ही निजी स्कूल संचालकों ने विरोध करना शुरू कर दिया है.

विरोध कर रहे निजी स्कलों का कहना है कि नियमित निरीक्षण की आड़ में उन्हें प्रताड़ित किया जाएगा. स्कूल एजुकेशन वेलफेयर एसोसिएशन के बैनर तले निजी स्कूलों के संचालकों ने इस आदेश को वापिस लेने के लिए प्रारम्भिक शिक्षा निदेशालय को ज्ञापन भी दिया है. मगर अभी तक आदेशों की वापसी नहीं हुई है. 

नियमित निरीक्षण के लिए कमेटियां गठित 

वहीं नियमित निरीक्षण के लिए ज़िला स्तर पर कमेटियां गठित करने का काम शुरू हो गया है. अजमेर और श्रीगंगानगर ज़िलों में तो कमेटियां गठित भी हो गई हैं. बीकानेर में भी जल्द ही कमेटी का गठन कर दिया जाएगा. प्राइवेट स्कूल संचालकों का कहना है कि निरीक्षण के दौरान जांच कमेटी को आवश्यक दस्तावेज़ उपलब्ध नहीं करवाने और जांच में सहयोग नहीं करने पर सम्बंधित स्कूल की मान्यता समाप्ति के एक्शन से सम्बंधित निर्देश पर आपत्ति जताई है.

निजी स्कूल संचालकों का कहना है कि जांच में जो बिन्दु शामिल किए गए हैं, उनकी पालना सरकारी स्कूलों में भी नहीं हो रही है ऐसे में इन बिन्दुओं को जांच रिपोर्ट में शामिल करना मुनासिब नहीं है. पहले से मान्यता प्राप्त स्कूल वर्तमान में निर्धारित मापदंड को पूरा नहीं कर रहे हैं.

जांच में हैं 21 बिन्दु और 2 पर हो रहा है विरोध

प्राइवेट स्कूलों के नियमित परीक्षण के लिए जारी गाइडलाइन में 21 बिन्दुओं को शामिल किया गया है. निरीक्षण के दौरान कमेटी इन्हीं को आधार बना कर स्कूल की जांच करेगी. इनमें से दो बिन्दुओं पर निजी स्कूल संचालकों ने ऐतराज़ जताया है. इन दो बिन्दुओं में वर्तमान मापदण्डों के अनुसार स्कूल कैम्पस में ज़मीन, क्लास रूम, सब्जेक्ट के मुताबिक़ लैब, छात्रों और छात्राओं के लिए अलग-अलग टॉयलेट्स, लाइब्रेरी और रैम्प समेत दूसरे ज़रूरी संसाधन पहला बिन्दु है और शैक्षिक भू-रूपान्तरण दूसरा बिन्दु है जिस पर ऐतराज़ किया जा रहा है. 

स्कूल शिक्षा विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. राजकुमार शर्मा का कहना है कि प्राइवेट स्कूलों के नियमित निरीक्षण को लेकर दिशा-निर्देश प्राप्त हुए हैं. इस सम्बन्ध में जल्द ही निरीक्षण समिति का गठन कर दिया जाएगा.

'कोई अधिकारी निजी स्कूलों को ना करे परेशान'

प्राइवेट एजुकेशनल इंस्टिट्यूट प्रोस्पेरिटी अलायन्स (पैपा) के प्रदेश समन्वयक गिरिराज खैरीवाल का मत है कि ग़ैर सरकारी शैक्षिक संस्था अधिनियम 1989 के नियम 1993 के अन्तर्गत नियम संख्या 21 में निरीक्षण के जो मापदण्ड सरकार द्वारा निर्धारित किये हुए हैं, उन्हीं के अनुसार निरीक्षण किया जा सकता है, लेकिन 21 फ़रवरी को जारी नियमित निरीक्षण की आड़ में कोई अधिकारी या कर्मचारी निजी स्कूलों को बेवजह परेशान ना करे, इसका ख़याल शिक्षा विभाग को रखा जाना चाहिए.

यह भी पढ़ें- जालोर में पर लगेगी वीर वीरमदेव की 3 टन वज़नी मूर्ति, पहाड़ी पर सेना के हेलीकॉप्टर से लगाई जाएगी मूर्ति

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Rajasthan Murder: जोधपुर में बहन की हत्या करके थाने पहुंचा भाई, पुलिस से बोला- मार डाला
प्राइवेट स्कूलों पर नकेल कसने की तैयारी में सरकार, सरकारी स्कूलों की तरह ही होगा निरीक्षण, स्कूल संचालक कर रहे विरोध
RSMSSB Mahila Supervisor Exam 2024 Control room set up for monitoring phone line number issued
Next Article
महिला पर्यवेक्षक परीक्षा 2024 की मॉनिटरिंग के लिए बना नियंत्रण कक्ष, जारी किया गया फोन लाइन नंबर
Close
;