विज्ञापन
Story ProgressBack

अनोखी है भीलवाड़ा की होली, शीतला सप्तमी पर शवयात्रा निकालकर लोग खेलते हैं रंग और गुलाल

Bhilwara Holi: शीतला सप्तमी के दिन पिछले 200 सालों से भीलवाड़ा में लोग शवयात्रा निकालकर होली का त्योहार मनाते आ रहे हैं, जिसमें बड़ी संख्या में शामिल होकर रंग और गुलाल से होली खेलते हैं.

Read Time: 3 mins
अनोखी है भीलवाड़ा की होली, शीतला सप्तमी पर शवयात्रा निकालकर लोग खेलते हैं रंग और गुलाल
शीतला अष्टमी पर शव यात्रा निकालकर होली खेलते लोग

Bhilwara Holi: मेवाड़ की परंपराओं से देश-विदेश में अलग पहचान है. उसी मेवाड़ के प्रवेश द्वार भीलवाड़ा में शीतला सप्तमी पर मुर्दे की सवारी में निकलती है. इस दिन यहां लोग जमकर रंग खेलते हैं. भीलवाड़ा के मुख्य बाजार में जीवित व्यक्ति को अर्थी पर लिटाकर मुर्दे की सवारी निकाली जाती है, जिसमें हजारों युवा, बड़े व बुजुर्ग शिरकत करते हैं. 

शीतला सप्तमी के दिन पिछले 200 सालों से भीलवाड़ा में लोग शवयात्रा निकालकर होली का त्योहार मनाते आ रहे हैं, जिसमें बड़ी संख्या में शामिल होकर रंग और गुलाल से होली खेलते हैं.

ऐसा कहा जाता है कि 200 साल पहले मेवाड़ के तत्कालीन राजा के किसी परिजन की होली त्योहार पर मौत होने के बाद होली नहीं मनाई गई. उसके बाद से मेवाड़ में होली का त्योहार चैत्र मास की कृष्ण पक्ष की सप्तमी तिथि यानी रंग सप्तमी के दिन होली खेली जाती है.

जिंदा व्यक्ति को अर्थी पर लेटा कर उसकी शवयात्रा निकालने की यह परंपरा देखने और सुनने में अजीब तो है, लेकिन आज भी यह पंरपरा मेवाड़ में गाजे-बाजे और रंग-गुलाल के साथ निकाली जाती है.

दिलचस्प यह है कि अर्थी में लेटा जिंदा व्यक्ति हिलता-डुलता रहता है और बदन पर ओढ़ाए कफ़न रुपी वस्त्र को खुद ही ठीक करता रहता है, तो कभी उठ कर पानी पी लेता है. यह यात्रा अंतिम पड़ाव पर पहुंचती है तो अर्थी पर लेटा जीवित व्यक्ति उठकर भागने की कोशिश करता है और यात्रा में शामिल लोग फिर उसे बिठा देते हैं

शीतला सप्तमी पर शवयात्रा भीलवाड़ा शहर में स्थित चित्तौड़ वालों की हवेली से शहर के भीतरी इलाके बड़े मंदिर तक निकाली जाती है, जिसमें रंग गुलाल उड़ाते हुए शहरवासी अंतिम संस्कार के लिए शव ले जाते हैं. 

अंतर्राष्ट्रीय बहरूपिया कलाकार जानकीलाल भांड होते हैं शरीक

अंतर्राष्ट्रीय बहरूपिया कलाकार और पद्मश्री अवॉर्डी जानकीलाल भांड ने बताया कि भीलवाड़ा में शवयात्रा की यह परंपरा 200 साल से अधिक पुरानी है, यह परंपरा रियासत काल से शुरू हुई थी, जो अनवरत जारी है. उन्होंने बताया कि वो खुद मुर्दे की सवारी में शरीक होते हैं औरबहरूपिया का स्वांग रचकर लोगों को हंसाने का काम करते हैं.

भीलवाड़ा की अनोखी होली देखने प्रदेश भर से लोग आते है

वहीं, भीलवाड़ा के वरिष्ठ नागरिक मुरली मनोहर सेन ने कहा कि होली के बाद शीतला सप्तमी का त्योहार भीलवाड़ा जिले में अनूठे अंदाज में मनाया जाता है, जहां दिन में शवयात्रा निकाली जाती है, जिसको देखने प्रदेश भर से काफी लोग आते हैं. दिन में इस सवारी में रंग गुलाल उड़ाते हुए हंसी ठिठोली भी की जाती है.

ये भी पढ़ें-शीतला अष्टमी आज, पूजन के लिए तैयार किए पुए-पकोड़ी और दही बड़े, महिलाएं करती हैं ठंडा भोजन

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Rajasthan Weather: राजस्थान में भारी बारिश का कहर जारी, जानिए अगले एक हफ्ते कैसा रहेगा मौसम?
अनोखी है भीलवाड़ा की होली, शीतला सप्तमी पर शवयात्रा निकालकर लोग खेलते हैं रंग और गुलाल
Congress started preparations for Chorasi Assembly by-elections, workers said- No Alliance, make youth candidates
Next Article
चौरासी विधानसभा उपुचनाव के लिए कांग्रेस ने शुरू की तैयारी, बैठक में कार्यकर्ता बोले- गठबंधन नहीं, युवा को बनाए प्रत्याशी
Close
;