विज्ञापन
Story ProgressBack

बीकानेर में हुए 70 फीट गड्ढे का ऑब्जर्वेशन पूरा, वैज्ञानिकों ने पता लगा लिया जमीन धंसने का रहस्य?

Bikaner Land Sinking: जियोलॉजिकल के वैज्ञानिकों ने बीकानेर में 70 फीट जमीन धंसने का ऑब्जर्वेशन पूरा कर लिया. जीएसआई (GSI) की टीम 6 दिनों से यहीं पर थी. आज यानी 30 अप्रैल को अपना काम समाप्त कर वापस लौट गई. आइए आपको बताते हैं जियोलॉजिकल की टीम ने क्या कहा.

Read Time: 3 mins
बीकानेर में हुए 70 फीट गड्ढे का ऑब्जर्वेशन पूरा, वैज्ञानिकों ने पता लगा लिया जमीन धंसने का रहस्य?
बीकानेर में करीब डेढ़ बीघे जमीन में 70 फीट गड्ढा हो गया. GSI की टीम सर्वे करके जमीन में गड्ढा होने के कारण पता लगाया.

Bikaner Land Sinking: जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की टीम 24 अप्रैल को बीकानेर पहुंची. यहा धंसी हुई जमीन का ऑब्जर्वेशन किया. इसके कारणों का पता लगाया. GSI के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. देव प्रसाद साहू ने अपनी राय व्यक्त की तो जियोलॉजिस्ट डॉ. देवेश खंडेलवाल की बात पर मुहर लग गई. उन्होंने कहा था कि वॉटर लॉगिंग की वजह से जमीन धंसी. हालांकि, जीएसआई के किसी वैज्ञानिक ने मीडिया से बात नहीं की. उनका कहना था कि वे अपनी रिपोर्ट वरिष्ठ वैज्ञानिकों को सौंपेंगे. वही इस बारे में बात करेंगे.  

बीकानेर में 16 अप्रैल को डेढ़ बीघा जमीन धंस गई थी

बीकानेर की लूणकरणसर तहसील के सहजरासर गांव में 16 अप्रैल को करीब डेढ़ बीघा जमीन धंस गई थी. 24 अप्रैल को जीएसआई यानी जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की टीम मौके पर पहुंची. जमीन धंसने के कारणों का पता लगा रही है. जमीन धंस जाने के बाद जब भूगर्भ शास्त्री डॉ. देवेश खंडेलवाल से इसकी वजह पूछी गई तो उनका यही कहना था कि किसी जमाने में यहां जमीन के नीचे पानी का कोई प्राकृतिक स्त्रोत रहा होगा, जिसके सूख जाने के बाद यहां वैक्यूम बन गया. अचानक उसके खत्म हो जाने से जमीन धंस गई होगी. लेकिन, असली कारण का पता जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की टीम बताएगी. 

बीकानेर में 16 अप्रैल को करीब डेढ़ बीघा जमीन धंस गई थी.

बीकानेर में 16 अप्रैल को करीब डेढ़ बीघा जमीन धंस गई थी.

स्थानीय लोग प्राकृतिक आपदा मान रहे थे  

बीकानेर से आए भू-वैज्ञानिकों ने वॉटर लॉगिंग को जमीन के धँसने की वजह बताई थी, वहीं स्थानीय लोग इस बात को मानने को तैयार नहीं थे. उनका ये कहना था कि ये इलाका रेगिस्तान है और सदियों से ऐसा ही रहा है. ऐसे जमीन के नीचे पानी के जमा होने का सवाल ही पैदा नहीं होता. कुछ लोग इसे प्राकृतिक आपदा मान रहे थे, वहीं कई लोग इसे दैवीय प्रकोप भी कह रहे हैं. सबके अपने-अपने तर्क थे. 

स्थानीय सामाजिक कार्यकर्ता ने पीएम मोदी को लेटर भेजा था

सामाजिक कार्यकर्ता श्रेयांश बैद ने इस मामले को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को भी पत्र भेजा था. वैज्ञानिक तरीके से जांच कराने की मांग की थी. उनका कहना है कि ये प्राकृतिक आपदा है. लेकिन, कारणों की जांच होनी.चाहिए, जिससे आने वाले वक़्त में कोई हादसा ना हो. साथ ही अगर कोई हादसा होता है तो लोग अपना बचाव कर सकें.

बीकानेर में जमीन धंसने के कारण का पता लगाने GSI की टीम पहुंची थी.

बीकानेर में जमीन धंसने के कारण का पता लगाने GSI की टीम पहुंची थी.

अचानक हुई भूगर्भीय घटना ने लोगों को हैरत में डाला

डेढ़ बीघा जमीन में अचानक 70 फुट नीचे धंसने की घटना लोगों के लिए आश्चर्य का विषय बन गई. आसपास के लोगों ने क्षेत्र में कई सालों पहले बिजली गिरी थी. ग्रामीणों का मानना है कि इस वजह से हर साल मिट्टी धंसती गई. इसके चलते लोगों ने इस स्थान को 'बिजलगढ़' का नाम दे दिया. लोगों ने बताया कि जमीन धंसने की घटना को लेकर उन्होंने कई बार प्रशासन को इस मामले की सूचना दी है. 

यह भी पढ़ें: कोटा सुसाइड मामले में प्रशासन का बड़ा एक्शन, खुदकुशी करने वाले छात्रों के हॉस्टल और पीजी होंगे सीज

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Rajasthan Politics: विधानसभा उप-चुनाव में RLP-कांग्रेस का होगा गठबंधन? डोटासरा से मिला बड़ा संकेत
बीकानेर में हुए 70 फीट गड्ढे का ऑब्जर्वेशन पूरा, वैज्ञानिकों ने पता लगा लिया जमीन धंसने का रहस्य?
Minor raped in the name of Dhanvarsha during puja in Sikar, two accused arrested
Next Article
Rajasthan News: सीकर में पूजा पाठ से धनवर्षा के नाम पर नाबालिग से रेप, दो आरोपी गिरफ्तार
Close
;