विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Nov 20, 2023

गले में स्टेथोस्कोप लटकाकर चुनाव प्रचार के लिए निकलता है ये उम्मीदवार, चलते-फिरते करते हैं मरीजों का इलाज

डा. दीपक घोगरा समेत 9 उम्मीदवार डूंगरपुर सीट से मैदान में हैं. इनमें भाजपा से बंशीलाल कटारा, कांग्रेस से गणेश घोगरा, भारत आदिवासी पार्टी से कांतिलाल रोत और निर्दलीय उम्मीदवार देवराम रोत प्रमुख हैं. भाजपा प्रत्याशी बंशीलाल कटारा भी चिकित्सा सेवा से जुड़े रहे हैं, वे नर्स रहे हैं. इसलिए सीट पर डॉक्टर बनाम नर्स की चुनावी लड़ाई भी लोगों के बीच चर्चा का विषय बनी हुई है.

Read Time: 3 mins
गले में स्टेथोस्कोप लटकाकर चुनाव प्रचार के लिए निकलता है ये उम्मीदवार, चलते-फिरते करते हैं मरीजों का इलाज
चुनाव प्रचार के दौरान मरीजो से मिलते डा. दीपक घोगरा

राजस्थान के चुनाव में प्रत्याशी अलग-अलग अंदाज में प्रचार कर रहे हैं. डूंगरपुर विधानसभा सीट से प्रत्याशी और पेशे से चिकित्सक डा. दीपक घोगरा स्टेथेस्कोप लेकर चुनाव प्रचार के लिए निकलते हैं. प्रचार के दौरान लोगों को स्वास्थ्य से संबंधित सलाह भी देते हैं. स्टेथेस्कोप गले में डालकर चुनाव प्रचार करने की वजह से इलाके में दीपक घोगरा काफी चर्चित हो गए हैं. 

डॉ दीपक कहते हैं कि मैं चुनाव प्रचार में हूं, लेकिन कई मरीज मेरे पास आना चाहते हैं, चूंकि मैं उनसे नहीं मिल पाता हूं, इसलिए साथ में दवा और स्टेथेस्कोप साथ लेकर चलता हूं और किसी को जरूरत होती है तो उसे दवा और सलाह दे देता हूं,, इससे मुझे संतुष्टि मिलती है.

 कोर्ट से मिली है चुनाव लड़ने की इजाजत 

डूंगरपुर सरकारी अस्पताल में चिकित्सा अधिकारी के पद पर कार्यरत डॉ दीपक पहली बार मैदान में हैं. 43 वर्षीय दीपक घोगरा की चुनावी मैदान में आने की कहानी बहुत दिलचस्प है. दरअसल, दीपक घोगरा को चुनाव लड़ने के लिए राजस्थान हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ा.

चुनाव हारने पर नौकरी में लौटने का मिला विकल्प

वे कहते हैं, ‘सरकारी सेवा में होने की वजह से मैं नहीं चाहता था कि कोई कानूनी पेंच आए, इसलिए मैंने वकील की सलाह पर हाईकोर्ट का रुख किया. कोर्ट ने दीपक को चुनाव लड़ने की इजाजत भी दी और साथ ही चुनाव हारने की स्थिति में नौकरी में लौटने का विकल्प भी दिया 

20 हजार से ज्यादा प्रसव कराने का दावा

डॉ दीपक बताते हैं कि अपने सेवा काल के दौरान वे 20 हजार से ज्यादा प्रसव करा चुके हैं. सुदूर आदिवासी इलाके में गांव-गांव में लोग उन्हें जानते हैं. उन्होंने कहा कि अब वे स्वास्थ्य सेवा से समाज सेवा की ओर आना चाहते हैं. डूंगरपुर में बेहतर शिक्षा व्यवस्था, रोजगार, स्वास्थ्य व्यवस्था बेहतर करने और प्रकृति की रक्षा उनका मुख्य मुद्दा है.

डूंगरपुर सीट पर डाक्टर बनाम नर्स की लड़ाई

गौरतलब है बीटीपी से उम्मीदवार दीपक घोगरा समेत 9 उम्मीदवार डूंगरपुर सीट से मैदान में हैं. इनमें भाजपा से बंशीलाल कटारा, कांग्रेस से गणेश घोगरा, भारत आदिवासी पार्टी से कांतिलाल रोत और निर्दलीय उम्मीदवार देवराम रोत प्रमुख हैं. भाजपा प्रत्याशी बंशीलाल कटारा भी चिकित्सा सेवा से जुड़े रहे हैं, वे नर्स रहे हैं. इसलिए सीट पर डॉक्टर बनाम नर्स की चुनावी लड़ाई भी लोगों के बीच चर्चा का विषय बनी हुई है.

ये भी पढ़ें-Rajasthan Election 2023: वोट मांगने गए कांग्रेस विधायक को ग्रामीणों ने दौड़ाया, मायावती की जनसभा के बाद बदला समीकरण

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
इटली से आए विदेशी कोच भारतीय खिलाड़ियों को दे रहे प्रशिक्षण, लेंगे 'वर्ल्ड स्केट गेम्स 2024' में भाग
गले में स्टेथोस्कोप लटकाकर चुनाव प्रचार के लिए निकलता है ये उम्मीदवार, चलते-फिरते करते हैं मरीजों का इलाज
RSS Leader Indresh Kumar Said- 'Ego stopped BJP from getting majority', all those opposing Ram could not form govt
Next Article
'अहंकार ने भाजपा को बहुमत से रोका', राम का विरोध करने वाले सब मिलकर भी सरकार नहीं बना पाएः इंद्रेश कुमार
Close
;