विज्ञापन
Story ProgressBack

बोरवेल में गिरी महिला का जटिल हुआ रेस्क्यू ऑपरेशन, 7 दिन पहले गिरी थी पीड़िता, अब बोरवेल से आ रही है दुर्गन्ध

Borewell Rescue Operation In Gangapur City: गड्ढे में पानी भरने से रेस्क्यू टीम बार-बार ऑपरेशन रोककर पानी निकासी की जा रही है. पानी कम होने पर जैसी ही टीम का कोई जवान गड्ढे में उतरकर खुदाई शुरू करता है, पानी बढ़ने लगता है और काम रोकना पड़ता है. पम्प सेट से पानी की निकासी की जाती है, फिर एनडीआरएफ जवान को फिर गड्ढे में उतारा जाता है.

बोरवेल में गिरी महिला का जटिल हुआ रेस्क्यू ऑपरेशन, 7 दिन पहले गिरी थी पीड़िता, अब बोरवेल से आ रही है दुर्गन्ध
बोरवेल में फंसी महिला को निकालने में जुटी एनडीआरएफ टीम

Borewell Rescue Operation: गंगापुर सिटी जिले के बामनवास क्षेत्र के रामनगर ढोसी गांव में 7 दिन पूर्व कच्चे बोरवेल में गिरी महिला को निकालने के लिए जारी रेस्क्यू ऑपरेशन रेस्क्यू टीम के लिए अब बेहद जटिल और चुनौती पूर्ण बन गया. पिछले 6 दिनों से चलाया जा रहा रेस्क्यू ऑपरेशन अपने अंतिम चरण में बेहद जटिल हो गया है. वजह बोरवेल के समानान्तर खोदे गए गड्ढों में पानी भर गया है, जिससे रेस्क्यू टीम के लिए अब बोरवेल तक सुरंग बनाना मुश्किल हो गया है.

कच्चे बोरवेल से महिला को निकालने के लिए रेस्क्यू टीम मशीन से 100 फिट खुदाई की, लेकिन खोदे गए गड्ढे में तेज प्रवाह से पानी आने से रेस्क्यू ऑपरेशन टेढ़ी खीर साबित हो रहा है. गड्ढों में पानी भरने से रेस्क्यू टीम के लिए अब बोरवेल तक सुरंग बनाना बड़ी चुनौती बन गई है. 

गौरतलब है रेस्क्यू ऑपरेशन को सफल बनाने के लिए टीम लगातार हार्डवर्क कर रही है. रेस्क्यू टीम में शामिल रेस्क्यू टीम में एनडीआरएफ व एसडीआरएफ के जवानों ने महिला को बोरवेल से निकालने के लिए बोरवेल के पास करीब 100 फिट गहरा गड्ढा खोदा. महिला को बाहर निकालने के लिए बनाए गए गड्ढे में पानी भरने से टीम के लिए यह काम चुनौती बन गया है. 

दरअसल, गड्ढे में पानी भरने से रेस्क्यू टीम बार-बार ऑपरेशन रोककर पानी निकासी की जा रही है. पानी कम होने पर जैसी ही टीम का कोई जवान गड्ढे में उतरकर खुदाई शुरू करता है, पानी बढ़ने लगता है और काम रोकना पड़ता है. पम्प सेट से पानी की निकासी की जाती है, फिर एनडीआरएफ जवान को फिर गड्ढे में उतारा जाता है.

रिपोर्ट के मुताबिक रेस्क्यू ऑपरेशन टीम को लगातार इसी दौर से गुजरना पड़ रहा है, जिसके चलते सुरंग बनाना कठिन हो रहा है. रेस्क्यू टीम का कहना है कि पानी आने के साथ ही पत्थर आना और दलदल होने से सुरंग बनाने में परेशानी हो रही है. टीम के मुताबिक यह संभवतः प्रदेश का अब तक का सबसे जटिल रेस्क्यू ऑपरेशन है, जिसमे इतना वक्त लग रहा है.

हालांकि तमाम बाधाओं के बाद भी रेस्क्यू टीम डटी हुई है और बोरवेल में फंसी महिला को निकालने के लिए लगातार प्रयास कर रही है. आशंका जताई जा रही है कि बोरवेल में फंसी महिला की मौत हो चुकी है, क्योंकि बोरवेल से दुर्गन्ध आने की बातें कहीं जा रही हैं. 

ये भी पढ़ें-Borewell Rescue Operation : अंतिम दौर में है रेस्क्यू ऑपरेशन, कभी भी बाहर आ सकती है महिला, 5 दिन से जारी है खुदाई

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
आदिवासी हिंदू पर अब बाबूलाल खराड़ी का बयान, कहा- आदिवासी हिंदू हैं नहीं मानने वाले आदिवासी नहीं
बोरवेल में गिरी महिला का जटिल हुआ रेस्क्यू ऑपरेशन, 7 दिन पहले गिरी थी पीड़िता, अब बोरवेल से आ रही है दुर्गन्ध
Seven auspicious yogas are being formed today on Bhadlya Navami, more than 500 marriages will take place today in Abuja Muhurta.
Next Article
Bhadli Navami 2024: भडल्या नवमीं पर आज एक साथ बन रहे हैं सात शुभ योग, अबूझ मुहूर्त में आज बीकानेर में होंगी 500 से ज़्यादा शादियां 
Close
;