विज्ञापन
Story ProgressBack

राजस्थान के 700 बावड़ियों के अस्तित्व पर खतरा, पैसा मिलने के बाद भी नहीं शुरू हुआ काम

Rajasthan News: बूंदी शहर में रानीजी की बावड़ी और बालचंदपाड़ा बावड़ी से पेयजल सप्लाई की जाती थी. करीब 3 दशक पहले शहर की प्यास बुझाने वाले रियासतकालीन कई कुएं और बावड़ियां आज कचरा पात्र बन गए हैं.

Read Time: 3 mins
राजस्थान के 700 बावड़ियों के अस्तित्व पर खतरा, पैसा मिलने के बाद भी नहीं शुरू हुआ काम
बावड़ियों के बदहाली की तस्वीर

Bundi Stepwell Crisis News: राजस्थान के बूंदी शहर के प्राचीन धरोहर प्रशासन की बेरुखी और अनदेखी के चलते खत्म होते जा रहे हैं. सिटी ऑफ स्टेपवेल के नाम से मशहूर बूंदी शहर की बावड़ियां कचरा डिपो बनती जा रही है. नगर परिषद या पर्यटन विभाग इन बावड़ी की सफाई तक नहीं करवा रहा है. जिन बावड़ियों में कभी पीने का पानी होता था. आज वह प्राचीन जल स्रोत गंदगी और कचरे से भरे पड़े हैं. बूंदी शहर में 52 ऐतिहासिक बावड़ियां है जबकि पूरे जिले में 700 से अधिक बावड़ियां मौजूद है यानी हर गांव में दो से तीन बावड़ी आपको देखने को मिलेगी. इस जिले में हर वर्ष 15 हजार विदेशी और 50 हजार से अधिक देशी पर्यटक घूंमने के लिए आते है.

मस्जिद में जाने वाले नमाजी दुर्गन्ध से परेशान

नरु बावड़ी दो दशक पूर्व आधे शहर का पनघट हुआ करती थी, जिसे लोगों ने कूड़ादान बना दिया. इसके अलावा क्षेत्र की शुक्ला बावड़ी भी लोगों के लिए पेयजल का प्रमुख स्त्रोत थी. रियासत काल में बूंदी आने वाले लोग इसी बावड़ी से पानी पिया करते थे. अब मीरा गेट इलाके का सारा कचरा इसी बावड़ी में डाला जाता है. इस बावड़ी के ठीक नजदीक ही एक मस्जिद है. यहां पर रोजाना आने वाले नमाजी भी बावड़ी की बदहाली और दुर्गन्ध से बहुत परेशान हैं. लोगों ने कई बार इसकी शिकायत की लेकिन इसकी कोई भी कार्रवाई नहीं हुई.

कभी इस बावड़ी के जल से होता था जलाभिषेक

शहर के दूसरे छोर पर स्थित है भवल्दी बावड़ी के हालात भी बहुत बदतर हो चुके हैं. यहां सिर्फ कचरा और गंदगी ही नजर आती है. पूरी बावड़ी कचरे से लबालब भरी हुई है. इस बावड़ी के नजदीक ही प्रचीन शिवलिंग भी स्थापित है. वर्षों पहले इस बावड़ी के पानी से नजदीक स्थित प्रचीन शिवलिंग का जलाभिषेक किया जाता था. लेकिन नगर परिषद ने अपनी सुविधा के लिए इसे कचरा पात्र बना दिया और शहर का कचरा यहां डाला जाने लगा और देखते देखते यह बावड़ी अपना अस्तित्व खोकर कचरा पात्र में तब्दील हो गई.

Latest and Breaking News on NDTV

पिछली सरकार ने दी थी वित्तीय स्वीकृति

बूंदी पर्यटन अधिकारी प्रेम शंकर सैनी ने जल्द बावड़ियों के हालात सुधारने की बात कही. उन्होंने राज्य सरकार को बूंदी की बावड़ियों के हालत सुधारने को लेकर प्रस्ताव बनाकर भेजे हैं. उम्मीद की जा सकती है की जल्द बावड़ियों के लिए वित्तीय स्वीकृति जारी होगी. हालांकि गहलोत सरकार ने बूंदी की बावड़ी के लिए वित्तीय स्वीकृति जारी की थी. जिसका का काम अभी तक भी शुरू नहीं हुआ है.

ये भी पढ़ें- जयपुर में बन रहा 24 मंजिला IPD टॉवर, होंगी एयर एंबुलेंस से लेकर सभी आधुनिक सुविधाएं

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
नीट परीक्षा को लेकर कांग्रेस का विरोध प्रदर्शन, डोटासरा ने कहा- 'ये छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ है'
राजस्थान के 700 बावड़ियों के अस्तित्व पर खतरा, पैसा मिलने के बाद भी नहीं शुरू हुआ काम
Bulldozer ran on Congress leader's hotel, shops also removed
Next Article
Bulldozer Action: कांग्रेस नेता के होटल पर चला बुलडोजर, नोटिस के बाद नहीं हटाया अतिक्रमण तो हुई कार्रवाई
Close
;