विज्ञापन
Story ProgressBack

डीग के जलमहल क्यों खोने लगे हैं अपना अस्तित्व, प्रशासन की उदासीनता से मडराने लगा है ये संकट 

पहले जल महल के जो झरोखों तक पानी भरा रहता था और चारों तरफ हरियाली नजर आती थी. लेकिन अब पानी तलहटी में पहुंच चुका है. प्रशासन की उदासीनता के कारण यह जलमहल अपना अस्तित्व खोने के कगार पर पहुंच रहा है.

Read Time: 4 mins
डीग के जलमहल क्यों खोने लगे हैं अपना अस्तित्व, प्रशासन की उदासीनता से मडराने लगा है ये संकट 
दुर्दशा में है डीग का जलमहल

Jalmahal status: राजस्थान का एक प्रसिद्ध ऐतिहासिक नगर जहां के जलमहल अपनी अद्वितीय सुंदरता और ऐतिहासिक महत्त्व के लिए जाने जाते हैं. इन जलमहलों ने सदियों से पर्यटकों को आकर्षित किया है और शहर की पहचान बनाए रखी है. लेकिन हाल के वर्षों में डीग के जलमहलों की स्थिति में उल्लेखनीय गिरावट आई है, जो कि जल की कमी और प्रशासन की अनदेखी के कारण हो रही है. स्थानीय लोगों का कहना है कि अगर प्रशासन ने इस मामले को गंभीरता से नहीं लिया तो एक दिन यह ऐतिहासिक धरोहर अपनी पहचान खो देगी.

Latest and Breaking News on NDTV

डीग के जलमहलों की स्थिति

एक समय था जब देशी विदेशी पर्यटकों का तांता लगा रहता था. लेकिन अब यहां आस पास के लोग भी आने से कतराते हैं. जल महल के दोनों ओर तालाब बने हुए है. इन दोनों तालाबों में उत्तर प्रदेश से पानी आता था. लेकिन अब इन तालाबों में गंदगी का अंबार है और पानी की कमी के चलते महलों की दीवारों में दरार पड़ने लगी है. प्रशासन की अनदेखी ने इस स्थिति को और भी बदतर बना दिया है. जल स्रोतों का पुनर्भरण और जलमहलों की नियमित देखभाल जैसे उपायों की आवश्यकता है, लेकिन इन पर ध्यान देने की कमी ने डीग के जलमहलों की स्थिति को और भी गंभीर बना दिया है.

1730 में शुरू हुआ था निर्माण

डीग जल महल की नींव महाराजा सूरजमल के पिता बदन सिंह के द्वारा रखी गई थी. इसका निर्माण 1730 में शुरू हुआ, जब डीग को भी भरतपुर राज्य की दूसरी राजधानी के रूप में स्थापित किया गया था. महल का अधिकांश भाग राजा सूरजमल द्वारा 1756-1763 तक बनवाया गया था. डीग के जल महलों के तालाबों में पानी लाने के लिए रियासत काल में नाला बनाया गया था, जो बरसात के पानी को तालाबों तक पहुंचाता था. उसके बाद उत्तर प्रदेश से नाले के द्वारा पानी तालाब में लाया जाता था और जलापूर्ति की जाती थी.

Latest and Breaking News on NDTV

पर्यटकों का आना हुआ बंद

स्थानीय निवासी पंकज भूषण गोयल ने बताया कि करीब 20 साल पहले यहां उत्तर प्रदेश से समझौते के तहत नाले के द्वारा पानी आता था. लेकिन अब लोगों ने नाले पर अतिक्रमण कर लिया गया है. यही वजह है कि जल महलों को पानी नहीं मिल रहा है और पानी की कमी के चलते महलों की दीवारों पर दरारे आ चुकी हैं. जिससे इनका अस्तित्व खतरे में है. केंद्र और राज्य सरकार के साथ स्थानीय प्रशासन का भी इस ओर कोई ध्यान नहीं है. देशी और विदेशी पर्यटकों ने भी आना बंद कर दिया है.

लुप्त हो रहा असली स्वरूप 

आनंद प्रकाश पटेल ने बताया कि इस महल की पहचान ही जल से है. लेकिन जिला प्रशासन और जलदाय विभाग की उदासीनता के चलते यह ऐतिहासिक धरोहर अपनी पहचान खोने के कगार पर पहुंच गई है. जल महल के दोनों और गोपाल सागर और रूप सागर तालाब हैं. जिन में पानी की कमी के चलते जल महल का जो स्वरूप है वह धीरे-धीरे लुप्त हो रहा है. तालाबों में रहने वाले जीव जंतु भी पानी की कमी के चलते दम तोड़ रहे हैं.

Latest and Breaking News on NDTV

चारों तरफ नजर आती थी हरियाली

राकेश खंडेलवाल एडवोकेट ने बताया कि महलों के संबंध में न्यायालय में 7 साल पहले याचिका दायर हुई थी. न्यायालय ने सिंचाई विभाग को आदेशित किया था कि जल महल के रूप सागर और गोपाल सागर तालाबों के साथ अन्य तालाबों में पानी भरने का काम करेगा. लेकिन न्यायालय के आदेश के बाद भी सिंचाई विभाग के द्वारा सिर्फ एक बार ही पानी इन तालाबों में भरा गया है. महलों के जो झरोखों तक पानी भरा रहता था और चारों तरफ हरियाली नजर आती थी. लेकिन अब पानी तलहटी में पहुंच चुका है.

इस मामले को लेकर के जब जिला प्रशासन के अधिकारियों से बात करने की कोशिश की तो उन्होंने इस मामले को लेकर कुछ भी बोलने से मना कर दिया.

ये भी पढ़ें- राजस्थान में Heat Wave से कब मिलेगी राहत मौसम विभाग ने बताया, 7 जिलों में गर्मी चरम पर

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Rajasthan: सीकर में शराब पीने से 8 मजदूरों की तबीयत बिगड़ी, महिला समेत 2 की मौत
डीग के जलमहल क्यों खोने लगे हैं अपना अस्तित्व, प्रशासन की उदासीनता से मडराने लगा है ये संकट 
The family was returning after visiting Khatu Shyam ji, three people including a three year old girl died in a collision between a car and a truck.
Next Article
Rajasthan: खाटू श्याम जी के दर्शन कर लौट रहा था परिवार, कार और ट्रक की भिड़ंत में तीन साल की बच्ची सहित तीन लोगों की मौत
Close
;