विज्ञापन
Story ProgressBack
This Article is From Jan 04, 2024

Success Story: ईशा बिजारणिया ने बढ़ाया झुंझुनूं का मान, पहले अटेम्प्ट में एग्जाम क्लियर कर Navy में बनी लेफ्टिनेंट

ईशा ने बताया कि भारतीय नौसेना में ‘सेवा चयन बोर्ड’ (एसएसबी) में टेक्निकल ब्रांच से बारहवीं व जेईई मेंस में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों के लिए जून में भर्ती निकली थी. इसमें पहली बार महिलाओं के लिए नौ पदों की जगह निकाली गई थी. पहले केवल युवकों की भर्ती होती थी.

Read Time: 3 mins
Success Story: ईशा बिजारणिया ने बढ़ाया झुंझुनूं का मान, पहले अटेम्प्ट में एग्जाम क्लियर कर Navy में बनी लेफ्टिनेंट
ईशा बिजारणिया (फाइल फोटो)

Rajasthan News: झुंझुनूं की बेटियों ने समय-समय पर देशभर में नाम रोशन किया है. एक बार फिर ऐसा ही मौका आया है. हाल ही में भारतीय नौसेना में सेवा चयन बोर्ड (SSB) में टेक्निकल ब्रांच में निकली भर्ती में झुंझुनूं के बेरला गांव निवासी बेटी ईशा बिजारणिया (Isha Bijarania) ने चयन पाकर क्षेत्र को गौरवान्वित किया है. इस भर्ती में कुल 30 पदों के लिए तीन लाख अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था. इन 30 पदों में से नौ पदों पर पहली बार छात्राओं का चयन होना था. ईशा देश की इन पहली 9 छात्राओं में से एक है, जिसने नेवी में चयन पाकर क्षेत्र को गौरवान्वित किया है. 

पहली बार महिलाओं के लिए निकली वैकेंसी

अब ईशा बिजारणिया भारतीय नौ सेना में टेक्निकल ब्रांच से लेफ्टिनेंट बनेंगी. वह ऐसा करने वाली देश की पहली 9 युवतियों में शामिल होगी. वह इस ब्रांच से लेफ्टिनेंट बनने वाली जिले की पहली युवती होगी. ईशा के पिता जिला परिषद झुंझुनूं में जिला आईईसी समन्वयक अजीत सिंह बिजारणिया की बेटी है. ईशा ने बताया कि भारतीय नौसेना में ‘सेवा चयन बोर्ड' (एसएसबी) में टेक्निकल ब्रांच से बारहवीं व जेईई मेंस में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों के लिए जून में भर्ती निकली थी. इसमें पहली बार महिलाओं के लिए नौ पदों की जगह निकाली गई थी. भर्ती तो पहले भी निकलती थी, लेकिन पहले केवल युवकों की भर्ती होती थी. इस परीक्षा को ईशा ने उत्तीर्ण कर लिया है. वह इसी माह 14 जनवरी से एशिया की सबसे बड़ी भारतीय नौसेना अकादमी (आईएनए) एझिमाला, केरल से प्रशिक्षण प्राप्त करेंगी. इसके बाद पहली पोस्टिंग लेफ्टिनेंट के पद पर मिलेगी. 

30 पदों पर आए करीब 30 लाख आवेदन

आपको बता दें कि जून में तीस पदों के लिए देशभर से तीन लाख के करीब अभ्यर्थियों ने आवेदन किया किया था. 16 से 21 सितम्बर के बीच विशाखापट्टनम में चली चयन प्रक्रिया में 19 वर्षीय ईशा ने पहले प्रयास में सफलता हासिल की. मेडिकल, चरित्र सत्यापन, मेरिट आदि सभी प्रक्रिया पूरी करने के बाद मुख्यालय, रक्षा मंत्रालय (नौसेना) ने सोमवार नववर्ष पर चयन सूची जारी की. ईशा का चयन होने पर गांव, परिवार व रिश्तेदारों ने मिठाई बांटकर खुशी मनाई. चयन के बाद ईशा ने बताया कि बचपन से ही उसका सपना सेना में बड़ी अधिकारी बनने का रहा है. उसके दसवीं में 89 व 12वीं में 90 फीसदी अंक आए. वर्तमान में राजोता से बीएससी कर रही है. एनसीसी में भी रह चुकी. ईशा के दादा दलीप सिंह हिंदुस्तान कॉपर लिमिटेड खेतड़ी में कर्मचारी थे. इसलिए पढाई भी खेतड़ी नगर में ही हुई. मां राजबाला राजकीय बालिका स्कूल माकड़ो में अध्यापिका हैं. भाई अभिनव बास्केटल बाल का खिलाड़ी है.

ये भी पढ़ें:- 1 साल में 5 सरकारी नौकरियों में सलेक्शन, अब RAS बनने का सपना, जोश से भर देगी दशरथ सिंह के सफलता की कहानी

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
जानें कौन है राजस्थान के नए CS, IIT से पढ़ाई के बाद बनाया प्रशासनिक सेवा में करियर
Success Story: ईशा बिजारणिया ने बढ़ाया झुंझुनूं का मान, पहले अटेम्प्ट में एग्जाम क्लियर कर Navy में बनी लेफ्टिनेंट
Who is IAS Alok Ranjan who was made the new collector of Chittorgarh?
Next Article
IAS-RAS Transfer: जानिए कौन हैं IAS आलोक रंजन जिन्हें बनाया गया चित्तौड़गढ़ का नया कलेक्टर
Close
;