विज्ञापन
Story ProgressBack

राजस्थान के अलवर में हाथरस कांड वाले बाबा का है आलीशान आश्रम, इसे लेकर ग्रामीणों ने किये बड़े खुलासे

बाबा नारायण साकार को लेकर राजस्थान में भी बड़े-बड़े खुलासे हो रहे हैं. दौसा के बाद अब अलवर में उसके एक आश्रम का खुलासा हुआ है.

राजस्थान के अलवर में हाथरस कांड वाले बाबा का है आलीशान आश्रम, इसे लेकर ग्रामीणों ने किये बड़े खुलासे
नारायाण साकार अलवर आश्रम

Narayan Sakar Ashram in Alwar: यूपी के हाथरस में नारायण साकार उर्फ बोले बाबा के सत्संग में भगदड़ में 100 से अधिक लोगों की मौत हो गई थी. इस मामले में लगातार जांच चल रही है और नए-नए खुलासे हो रहे हैं. वहीं बाबा नारायण साकार को लेकर राजस्थान में भी बड़े-बड़े खुलासे हो रहे हैं. जहां पहले बाबा का एक आश्रम दौसा में पाया गया था. वहीं अब अलवर में उसके एक आश्रम का खुलासा हुआ है. भोले बाबा का एक और आश्रम अलवर जिले के खेरली के सहजपुरा गांव में है. बताया जा रहा है कि इस आश्रम पर बाबा ने कब्जा किया है. इसके बारे में आश्रम के सेवादारों ने ही खुलासा किया है.

आलीशान आश्रम में सारी व्यवस्था

बाबा का यह आलीशान आश्रम करीब डेढ़ बीघा में बना हुआ है. आश्रम में सोफा, बेड, एसी लगे हुए हैं. दर्शन के लिए एक हॉल बना हुआ है, इसमें लोग बाबा का दर्शन करते थे और उनका आशीर्वाद लेते थे. इस आश्रम का निर्माण 2008-2009 में हुआ था. कोरोना काल में बाबा करीब 10 महीने तक इसी आश्रम में रहा था.

आश्रम पर मौजूद बाबा के सेवादार ने बताया कि बाबा 2020 में यहां आये थे और फिर चले गये. बाबा के दर्शन करने काफी संख्या में भक्त यहां आते थे, कभी किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं हुई, बाबा यहां कई कार्यक्रम कर चुके हैं. इस दौरान सेवादार ने हाथरस की घटना को एक षडयंत्र बताया. लोगों ने बताया कि आम लोगों को बाबा के सेवादार आश्रम में एंट्री ही नहीं देते थे. स्थानीय लोगों को बाहर से ही भगा दिया जाता था.

जमीन के मालिक ने बताया कैसे किया जमीन पर कब्जा

जिस जमीन पर आश्रम बना है उसके पुराने मालिक देवी राम ने बताया कि बाबा ने उसके सीधेपन का फायदा उठाते हुए उसकी जमीन ले ली और रजिस्ट्री करा ली. सौदे में जितनी जमीन तय हुई थी, उससे ज्यादा जमीन ले ली गई. उन्होंने कहा कि जिस जमीन पर बाबा के सेवादार का कमरा बना हुआ है, उस जमीन पर बाबा ने जबरन कब्जा किया है.

महिलाओं को बुरी तरह पीटा जाता था

लोगों ने बताया कि बाबा गाड़ी में बैठकर आता था, उसके साथ 17 से 18 साल की लड़कियां होती थी. बाबा लड़कियों के साथ आश्रम में जाते थे, गांव के लोगों को एंट्री नहीं दी जाती थी. बाबा अंदर क्या करता था, इसका पता नहीं. बाबा के सेवादारों में अधिकतर महिलाएं होती थी. नाम न छापने की शर्त पर गांव के एक व्यक्ति ने बताया कि बाबा सेवादार महिलाओं को बुरी तरह पीटते थे.

ग्रामीणों ने हाथरस कांड को लेकर बाबा को ही जिम्मेदार ठहराया. लोगों ने कहा कि बाबा ने प्रशासन को ग़लत जानकारी दी, इसके चलते यह हादसा हुआ. लोगों ने कहा कि अगर बाबा दोषी नहीं है, तो प्रशासन-पुलिस से बचता हुआ क्यों घूम रहा है. लोगों ने बाबा को दोषी बताते हुए उसको गिरफ्तार करने की मांग की.

गांव के लोगों के लिए आश्रम है रहस्य

स्थानीय ग्रामीण कविता ने बताया कि हमने कभी बाबा के आश्रम में जाकर नहीं देखा. बाबा के आश्रम में हमें प्रवेश नहीं दिया जाता था. आश्रम में अंदर क्या होता था, यह गांव के लोगों के लिए अभी भी रहस्य है.

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
शिक्षक ने छात्रा को भेजा अश्लील मेसेज, कार्रवाई न होने पर परिजनों ने स्कूल में बंद किया ताला
राजस्थान के अलवर में हाथरस कांड वाले बाबा का है आलीशान आश्रम, इसे लेकर ग्रामीणों ने किये बड़े खुलासे
Rajasthan by-Election BJP's path is not easy in Pilot's stronghold Deoli-Uniara seat, this is the challenge
Next Article
Rajasthan by-Election: पायलट के गढ़ देवली-उनियारा सीट पर आसान नहीं बीजेपी की राह, ये है चुनौती
Close
;