विज्ञापन
Story ProgressBack

झालावाड़ में पहले लापरवाही फिर कार्रवाई, अवैध निर्मित होटल का सरकारी तंत्र ले रहा था लाभ, अब 4 साल बाद हुआ सीज

झालावाड़ में एक होटल को 4 साल पहले अवैध निर्माण के लिए नोटिस किया गया था. हालांकि, इस पर कार्रवाई को लेकर पूरी लापरवाही बरती गई. अब इस होटल को सीज किया गया है.

Read Time: 3 mins
झालावाड़ में पहले लापरवाही फिर कार्रवाई, अवैध निर्मित होटल का सरकारी तंत्र ले रहा था लाभ, अब 4 साल बाद हुआ सीज

Rajasthan News: राजस्थान के झालावाड़ जिले के पाटन रोड पर खंडिया तालाब के सामने वेंडीज होटल को नगर परिषद ने आनन फनन में सीज कर दिया. होटल मालिकों का कहना है कि उनको सीजिंग के मामले में कोई पूर्व सूचना नहीं दी गई थी. वहीं, नगर परिषद का दस्ता पुलिस के जाब्ते के साथ आया और सबको बाहर निकाल कर होटल को सीज कर दिया. होटल मालिक ने बताया कि पूछने पर उनको बताया गया कि वर्ष 2020 में इसको अवैध निर्माण का नोटिस दिया गया था उसी की कार्रवाई स्वरूप यह सीजिंग की गई है.

सरकारी तंत्र भी ले रहा था होटल का लाभ

जानकारी के लिए आपको बता दें कि इस होटल का निर्माण झालावाड़ के खंडिया तालाब के वेस्ट वियर के नाले के बिल्कुल सामने किया गया है, जिस समय इस होटल का निर्माण हो रहा था उस वक्त से ही लगातार इसका विरोध चल रहा है, तथा के लोगों द्वारा इसको तालाब के नाले पर अतिक्रमण बताते हुए इसकी कई बार शिकायतें की गई, किंतु नगर परिषद और प्रशासन द्वारा मामले में सिर्फ नोटिस देकर ही इतीश्री कर ली गई थी और तब से लेकर अब तक यह होटल धड़ल्ले से चल रहा था. दिलचस्प बात यह है कि इस बीच सरकारी तंत्र के कई अधिकारी और कर्मचारी भी इस होटल की सेवाओं का भरपूर लाभ ले रहे थे ऐसे में किसी ने इसकी तरफ आंख उठाकर देखने की भी हिम्मत नहीं की.

4 साल बाद हुई कार्रवाई

नगर परिषद के अधिकारियों और कर्मचारियों तथा सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्ष 2020 में इस होटल को नगर परिषद द्वारा नोटिस दिए गए थे. लेकिन तभी से यह कार्रवाई लंबित पड़ी थी. बताया जा रहा है कि यहां पर नगर परिषद के अधिकारियों और कर्मचारियों का तथा कुछ प्रशासनिक अधिकारियों का भी काफी आना-जाना रहा है. ऐसे में होटल मालिक के रसूख के चलते यहां अब तक कार्रवाई नहीं हो पाई थी. सूत्रों की मानें तो फिलहाल भी यहां आकर सेवाओं का लाभ लेने वाले कुछ सरकारी तंत्र से जुड़े हुए लोगों का विवाद होटल मालिक से होना बताया जा रहा जो इस कार्रवाई के पीछे की मुख्य बाजार माना जा रहा है.

Latest and Breaking News on NDTV

नहीं थी निर्माण स्वीकृति

झालावाड़ नगर परिषद के कार्यवाहक आयुक्त हेमेंद्र कुमार ने बताया कि इस होटल के पास निर्माण स्वीकृति नहीं थी ऐसे में उनके द्वारा अवैध रूप से यहां व्यावसायिक गतिविधियों की जा रही थी. जिसका मामला पिछले 4 सालों से अटका हुआ पड़ा था. बिना निर्माण स्वीकृति के अवैध रूप से व्यावसायिक गतिविधि किए जाने के चलते ही नगर परिषद द्वारा कार्रवाई की गई है और परिसर को सीज कर दिया गया है.

सोमवार शाम को झालावाड़ नगर परिषद का दस्ता खंडिया तालाब के सामने स्थित वेंडीज होटल पहुंचा जहां नोटिस चस्पा कर होटल परिसर को सीज कर दिया गया तथा दरवाजे पर ताले लटक कर उन्हें विधिवत सील लगाकर बंद कर दिया गया. पूर्व में भी 4 वर्षों से लगातार इसको नोटिस दिए जा रहे थे किंतु उसने कोई जवाब नहीं दिया, वेंडीज होटल के पास निर्माण स्वीकृति भी नहीं थी इसके चलते इस परिसर को सीज कर दिया गया है.

यह भी पढ़ेंः राजस्थान में 4 जून के बाद बदल जाएंगे सभी जिलों के IAS-IPS! सुधांश पंत ने तैयार कर लिया है केंद्र के तर्ज पर पूरा मसौदा

    Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

    फॉलो करे:
    डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
    Our Offerings: NDTV
    • मध्य प्रदेश
    • राजस्थान
    • इंडिया
    • मराठी
    • 24X7
    Choose Your Destination
    Previous Article
    1 जुलाई से लागू होने जा रहा है तीन नए कानून, सुधांश पंत ने विभागों को दिये यह निर्देश
    झालावाड़ में पहले लापरवाही फिर कार्रवाई, अवैध निर्मित होटल का सरकारी तंत्र ले रहा था लाभ, अब 4 साल बाद हुआ सीज
    how much rich is banswara mp rajkumar roat who won on bharat adivasi party ticket
    Next Article
    Rajasthan Politics: बांसवाड़ा के लोकसभा सांसद राजकुमार रोत कितने अमीर हैं
    Close
    ;