विज्ञापन
Story ProgressBack

बिना डॉक्टर के चल रहा राजस्थान का यह अस्पताल, 13 में से 11 स्टाफ का पद खाली; मरीज हो रहे परेशान

स्वास्थ्य सेवाओं को सुधारने के लिए सरकार द्वारा बड़े-बड़े दावे किए जाते हैं, लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और है. कई अस्पताल में डॉक्टरों के साथ-साथ नर्सिंग स्टाफ के पद खाली हैं.

Read Time: 3 mins
बिना डॉक्टर के चल रहा राजस्थान का यह अस्पताल, 13 में से 11 स्टाफ का पद खाली; मरीज हो रहे परेशान
स्वास्थ्य केंद्र में बदहाल व्यवस्थाएं

Rajasthan News: राजस्थान में स्वास्थ्य सेवाओं को सुधारने के लिए सरकार द्वारा बड़े-बड़े दावे किए जाते हैं, लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और है. अस्पतालों की स्थितियां सरकारी उदासीनता से ही बदहाल हो रखी है. हालात यह है कि सरकारी अस्पतालों में ना तो डॉक्टर हैं और ना ही बाकी स्टाफ हैं. ऐसे में मरीजों को बिना उपचार के ही वापस बैरंग लौटना पड़ता है. 

डीडवाना के शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का लगभग 6 साल पहले ही निर्माण हुआ था. इसका उद्देश्य था कि शहरी क्षेत्र की कच्ची बस्ती और पिछड़े इलाकों के लोगों को स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करवाई जा सके, लेकिन हालात यह है कि पिछले ढाई साल से इस अस्पताल में डॉक्टर तक नहीं है, ना ही यहां कोई नर्सिंग स्टाफ है. इसके अलावा ना ही लैब टेक्नीशियन व फार्मासिस्ट हैं.

अस्पताल में नहीं कोई डॉक्टर

इस अस्पताल में कुल 13 स्टाफ के पद हैं, जिनमें से 11 पद खाली पड़े हैं. अस्पताल में डॉक्टर का एक ही पद है, वो भी अक्टूबर 2021 के बाद से ही खाली पड़ा है. हालांकि आसपास के क्षेत्रों के मरीज उपचार की आस में रोजाना अस्पताल आते हैं, लेकिन जब उन्हें पता लगता है कि अस्पताल में कोई डॉक्टर नहीं है, तो उन्हें बिना उपचार के ही वापस बैरंग लौटना पड़ता है.

डीडवाना के अस्पताल में खाली पड़ा दवा काउंटर

डीडवाना के अस्पताल में खाली पड़ा दवा काउंटर

अस्पताल में डॉक्टर और चिकित्साकर्मियों के पद खाली होने से अब यह अस्पताल केवल शो पीस बनकर रह गया है. मरीजों को मजबूरन बड़े अस्पतालों और निजी अस्पतालों का रुख करना पड़ता है. अस्पताल में स्टाफ के नाम पर मात्र दो कर्मचारी ही कार्यरत है, वह भी केवल आशा सुपरवाइजर है. ऐसे में इस अस्पताल में जो मरीज आते हैं, उन्हें यही लोग दवाइयां दे रहे हैं, जबकि उन्हें नियमानुसार डॉक्टर की लिखी पर्ची के अनुसार ही मरीजों को दवाइयां दी जा सकती है. 

खाली पड़ी डॉक्टर की कु्र्सी

खाली पड़ी डॉक्टर की कु्र्सी

ब्लॉक सीएमएचओ ने पल्ला झाड़ा 

इस बारे में ब्लॉक सीएमएचओ डॉ. अजीत बलारा ने भी स्टाफ की कमी का हालात देते हुए अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ लिया. उनका कहना था कि चिकित्सा विभाग में डॉक्टर के साथ ही विभिन्न पद खाली पड़े हैं. इससे मरीज को दिक्कत हो रही है. शहरी सिटी डिस्पेंसरी में रिक्त पद के बारे में हमने कई बार विभाग को पत्र लिखकर अवगत करवाया है, लेकिन अभी तक किसी डॉक्टर की नियुक्ति नहीं की गई है.
 

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
Rajasthan News: सीकर में पूजा पाठ से धनवर्षा के नाम पर नाबालिग से रेप, दो आरोपी गिरफ्तार
बिना डॉक्टर के चल रहा राजस्थान का यह अस्पताल, 13 में से 11 स्टाफ का पद खाली; मरीज हो रहे परेशान
Rajasthan New Districts: Cabinet sub-committee formed for 17 new districts and 3 divisions, Deputy CM Premchandra Bairwa becomes convener
Next Article
गहलोत सकार में बने 17 नए जिले और 3 संभाग के लिए मंत्रिमंडलीय उप समिति का गठन, डिप्टी सीएम प्रेमचंद्र बैरवा बने संयोजक
Close
;