विज्ञापन
Story ProgressBack

कोर्ट को गुमराह करने मामले में राजस्थान हाईकोर्ट ने दिये सख्त निर्देश, कहा- फर्जी हस्ताक्षर है जांच होगी

एक याचिका में वकालातनामे एवं याचिका पर फर्जी हस्ताक्षर का अंदेशा होने पर रजिस्ट्रार न्यायिक को निर्देश दिए है कि अब सभी याचिकाकर्ताओं को बुलाकर उनके हस्ताक्षरों लिए जाएं.

Read Time: 3 min
कोर्ट को गुमराह करने मामले में राजस्थान हाईकोर्ट ने दिये सख्त निर्देश, कहा- फर्जी हस्ताक्षर है जांच होगी
राजस्थान हाईकोर्ट

Rajasthan High Court: राजस्थान हाईकोर्ट को गुमराह करने की आशंका को देखते हुए नाराजगी जाहिर करते हुए महत्वपूर्ण आदेश पारित किये हैं. इसके साथ ही कोर्ट ने रजिस्ट्रार न्यायिक को मामले में जांच कर रिपोर्ट देने के लिए कहा गया है. दरअसल एक याचिका में वकालातनामे एवं याचिका पर फर्जी हस्ताक्षर का अंदेशा होने पर रजिस्ट्रार न्यायिक को निर्देश दिए है कि अब सभी याचिकाकर्ताओं को बुलाकर उनके हस्ताक्षरों लिए जाएं.

कोर्ट को कैसे हुए संदेह

राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस दिनेश मेहता की एकलपीठ के समक्ष रणजीत सिंह चौहान सहित 101 याचिकाकर्ताओं ने 1 जुलाई को मिलने वाले वार्षिक ग्रेड पे देने की याचिकाए पेश की.याचिकाकर्ताओं की ओर से अधिवक्ता सुरेन्द्रसिंह चौधरी ने याचिकाए पेश करते हुए कहा कि याचिकाकर्ता सेवानिवृत हो चुके है. लेकिन 1 जुलाई को मिलने वाली वार्षिक ग्रेड पे का भुगतान नहीं किया गया था. कोर्ट के समक्ष सुनवाई के दौरान संयुक्त याचिकाओं को देखा तो कोर्ट ने पाया कि ना केवल राजस्थान बल्कि अन्य राज्यों के याचिकाकर्ता भी हैं और राजस्थान में भी जोधपुर, नागौर, अलवर, जयपुर, बांसवाड़ा से है. 

कोर्ट ने जब देखा की एक ही वकालातनामा है लेकिन याचिका में कौन किस विभाग से सेवानिवृत हुआ इसका भी हवाला नहीं दिया. तो कोर्ट ने कहा कि ये संयुक्त याचिका कैसे हो सकती है. अलग अलग जगह से सब लोग एक साथ कब आए और कौन से विभाग से है, इसका भी उल्लेख याचिका में नहीं है. कोर्ट ने कहा कि वकालात नामे पर अधिकांश हस्ताक्षर एक जैसी लिखावट, एक ही कलम और एक ही हाथ से किए हुए प्रतीत हो रहे है. कोर्ट ने इसे गंभीरता से लेते हुए रजिस्ट्रार न्यायिक को कहा कि सभी याचिकाकर्ताओं को कोर्ट समय में 15 अप्रैल 2024 को बुलाया जाए. 

सभी याचिकाकर्ताओं को बिना दिखाए एक अलग सीट पर हस्ताक्षर करवाकर पूरी रिपोर्ट पेश करें. कोर्ट की गंभीरता को देखते हुए अधिवक्ता ने कहा कि वे अपनी याचिका विड्रो करना चाहते है. तो कोर्ट ने अधिवक्ता की प्रार्थना को खारिज कर दिया. कोर्ट ने कहा कि मामला गंभीर है फर्जी हस्ताक्षर लग रहे हैं तो जांच होगी. कोर्ट ने 23 अप्रैल 2024 को सुनवाई के लिए रखते हुए रजिस्ट्रार न्यायिक से रिपोर्ट मांगी है.

यह भी पढ़ेंः NDTV से बोले CJI डीवाई चंद्रचूड़- 'जनता का पैसा खर्च होता है, इसलिए उसे जानने का हक, हमारे लिए कोई केस छोटा नहीं'

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
switch_to_dlm
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Close