विज्ञापन
Story ProgressBack

कोटा स्टूडेंट सुसाइड मामले में DM ने कोचिंग संस्थान को दिया नोटिस, 3 दिनों में देना होगा जवाब

सोमवार को कोटा में नीट की तैयारी कर रहे एक कोचिंग स्टूडेंट के सुसाइड कर लिया. इस साल अभी तक कोटा में 28 छात्र सुसाइड कर चुके हैं. इस मामले में मंगलवार को कोटा प्रशासन ने कोचिंग संस्थान को नोटिस किया है.

Read Time: 4 min
कोटा स्टूडेंट सुसाइड मामले में DM ने कोचिंग संस्थान को दिया नोटिस, 3 दिनों में देना होगा जवाब
कोटा में नीट की तैयारी कर रहे छात्र ने किया सुसाइड. प्रतीकात्मक तस्वीर

Kota Suicide Case: कोचिंग सिटी कोटा में सोमवार को नीट की तैयारी कर रहे एक छात्र ने सुसाइड कर लिया था. यह इस साल कोटा में कोचिंग स्टूडेंटों की सुसाइड का 28वां मामला था. बंगाल के फोरीद हुसैन नामक छात्र की खुदकुशी के बाद कोटा जिला प्रशासन एक बार फिर सतर्क हो गया है. फोरीद हुसैन की अवसाद में आकर आत्महत्या का मामला सामने आने बाद इस मामले में अब जिला प्रशासन एक्शन में है. जिला कलेक्टर ने कोचिंग संस्थान को नोटिस थमा दिया है, जिला कलेक्टर ने 3 दिन में संस्थान से जवाब मांगा है.
 

मिली जानकारी के अनुसार अवसाद ग्रस्त छात्र की सूचना प्रशासन को नहीं देने को लेकर कोचिंग संस्थान को प्रशासन ने नोटिस थमाया है. अब कोचिंग संस्थान को तीन दिन में स्पष्टीकरण देना होगा. 

दरअसल सोमवार शाम अवसाद में आकर एक कोचिंग छात्र फोरीद हुसैन पुत्र कमलालुद्दीन द्वारा आत्महत्या कर ली गई थी. फोरीद अवसाद में था और कोचिंग संस्थान अपने ही संस्थान के अंदर उसकी काउंसलिंग कर रहे थे और पूछताछ में प्रशासन को कोचिंग संस्थान ने बताया था कि हमने माता-पिता को अवगत करवाया था कि आपका बच्चा अवसाद ग्रस्त है आप ले जाइए.

लेकिन कोचिंग संस्थान की ओर से प्रशासन को सूचना नहीं दी गई. प्रशासन ने अब संस्थान को नोटिस थमा दिया है और तीन दिन में जवाब मांगा है. मालूम हो कि इससे पहले कोचिंग स्टूडेंटों की सुसाइड के लगातार आ रहे मामले पर जिला प्रशासन ने सभी कोचिंग संस्थानों को ऐसे किसी छात्र के अवसाद में जान की सूचना प्रशासन को देने का आदेश दिया था.

मीटिंग में कोचिंग संस्थानों को दिए गए थे यह आदेश-
 20 अक्टूबर 2023 और 8 नवंबर 2023 को आयोजित जिला स्तरीय निगरानी समिति की बैठक में यह स्पष्ट रूप से निर्देश दिए गए थे कि कोचिंग संस्थान अपने-अपने छात्रों की समय-समय पर काउंसलिंग करेगी. काउंसलिंग के दौरान अवसाद से प्रभावित छात्रों को चिन्हित कर उनके साथ नियमित काउंसलिंग करवाई जाएगी.

साथ ही ऐसे छात्रों के माता-पिता से भी बात कर उनको स्थिति से अवगत कराया जाएगा. साथ ही अगर छात्र की स्थिति अधिक अवसाद ग्रस्त है, उसके माता-पिता भी सूचना के बाद उसे लेने के लिए नहीं आते हैं तो यह सूचना तत्काल जिला प्रशासन के संज्ञान में देनी होगी.
 

लेकिन मृतक छात्र फोरीद हुसैन के प्रकरण में जिला प्रशासन कोटा को कोचिंग संस्थान की ओर से कोई सूचना नहीं दी गई जिसके कारण जिला प्रशासन स्तर के राजकीय मनोचिकित्सक से छात्र का परामर्श उपचार संभव नहीं हो पाया.


जबकि सभी को अवगत कराया गया था कि छात्र से काउंसलिंग दिनांक 12 नवंबर में पता लग गया था कि छात्र अवसाद ग्रस्त है जिसकी लगातार काउंसलिंग कोचिंग के स्तर पर हो रही थी इसके बावजूद आपने इसकी सूचना जिला प्रशासन को नहीं दी जिसके फल स्वरुप मृतक छात्रा के परिजनों को समझाइस नहीं की जा सकी और यह संभव नहीं हो सका. कोटा डीएम के नोटिस का जवाब अब कोचिंग संस्थान को तीन दिन में देना होगा. 

यह भी पढ़ें - कोटा में एक और कोचिंग स्टूडेंट ने किया सुसाइड, अब तक 28 स्टूडेंट्स कर चुके हैं आत्महत्या

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • 24X7
Choose Your Destination
Close