विज्ञापन
Story ProgressBack

Ram Navami 2024: राम नवमी पर अयोध्या में दिखा अद्भुत नजारा, सूरज की किरणों से हुआ रामलला का सूर्याभिषेक

Surya Abhishek: बुधवार सुबह 3.30 बजे ही राम मंदिर के कपाट खुल गए थे. आम दिनों में यह 6.30 बजे खुलते हैं. ऐसे में श्रद्धालु रात 11.30 बजे तक, यानी 20 घंटे दर्शन कर सकेंगे.

Ram Navami 2024: राम नवमी पर अयोध्या में दिखा अद्भुत नजारा, सूरज की किरणों से हुआ रामलला का सूर्याभिषेक
रामलला के सूर्य तिलक के दौरान ली गई तस्वीर.

Ram Navami Ayodhya: अयोध्या में राम नवमी के अवसर पर रामलला (Ram Lalla) का सूर्य की किरणों से अभिषेक (Surya Abhishek) किया गया, जिसे 'सूर्य तिलक' नाम दिया गया. आज पूरा देश इस ऐतिहासिक और अद्भूत क्षण का गवाह बना. राम जन्मभूमि मंदिर के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येन्द्र दास ने कहा, 'आज रामनवमी का मेला है. भक्त प्रार्थना कर रहे हैं और आज सब कुछ विशेष है. सूर्य तिलक के साथ ही रामलला का जन्म हो गया. मंदिर में आरती की गई और फिर कुछ देर के लिए रामलला का पट बंद कर दिया गया.'

3 मिनट तक चला सूर्याभिषेक

इससे पहले जगद्गुरु राघवाचार्य ने 51 कलशों से भगवान रामलला का अभिषेक किया. जैसे ही दोपहर के 12 बजे, मंदिर के गर्भगृह में रोशनी कम हो गई, लेकिन सूर्य की किरणें भगवान राम के माथे को चूमने के लिए छनकर आईं और 'सूर्य तिलक' किया. यह घटना लगभग तीन मिनट तक चली, इस दौरान शंख ध्वनि के बीच 'आरती' की गई. इस प्रतीकात्मक भाव ने भगवान राम के जन्मदिन पर मंदिर परिसर में एक दिव्य माहौल बना दिया. इस उत्सव का प्रसारण पूरे शहर में लगभग 100 एलईडी स्क्रीन पर किया गया. इसे ट्रस्ट के सोशल मीडिया अकाउंट पर भी प्रसारित किया गया. सूर्य तिलक के क्षण में भक्त खुशी से झूम उठे. पूरे अयोध्या में जय श्री राम के नारे सुनाई देने लगे. राम जन्मभूमि मंदिर के बाहर भक्त नाच-गाने लगे.

पहले किए थे दो सफल परीक्षण

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, रूड़की, (आईआईटी-आर) के शोधकर्ताओं को सूर्य तिलक तंत्र बनाने का काम सौंपा गया था, जो राम मंदिर की एक अनूठी विशेषता है. बुधवार को रामनवमी पर होने वाले सूर्य अभिषेक समारोह की तैयारी के लिए आईआईटी टीम ने दो सफल परीक्षण किए थे. टीम ने यह सुनिश्चित करने के लिए उच्च गुणवत्ता वाले दर्पण और लेंस से सुसज्जित एक विशेष उपकरण विकसित किया था कि सूर्य की किरणें निर्धारित समय पर राम लला के माथे पर सटीक रूप से निर्देशित हों. 

रामलला को लगाया गया 56 भोग 

राम जन्मभूमि मंदिर में 56 प्रकार के भोग, प्रसाद और पंजीरी के साथ रामनवमी धूमधाम से मनाई जा रही है. इससे पहले, राम जन्मभूमि मंदिर के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येन्द्र दास ने बताया, 'सब कुछ सजा दिया गया है और भगवान राम की मूर्ति को दिन के लिए विशेष रूप से तैयार किया गया है. उन्हें पीले कपड़े पहनाए गए हैं, और इसके बाद उन्हें पंचामृत से स्नान कराया गया है. चार-पांच तरह की पंजीरी बनाई जाती हैं और इसके साथ ही भगवान को 56 तरह का भोग लगाया जाता है.'

ये भी पढ़ें:- राजस्थान में एक वादे से CM ने पलटा गेम, BJP को वापस मिल गया जाटों का समर्थन

Rajasthan.NDTV.in पर राजस्थान की ताज़ातरीन ख़बरों को ट्रैक करें. देश और दुनियाभर से न्यूज़ अपडेट पाएं. इसके अलावा, मनोरंजन की दुनिया हो, या क्रिकेट का खुमार, लाइफ़स्टाइल टिप्स हों, या अनोखी-अनूठी ऑफ़बीट ख़बरें, सब मिलेगा यहां-ढेरों फोटो स्टोरी और वीडियो के साथ.

फॉलो करे:
डार्क मोड/लाइट मोड पर जाएं
Our Offerings: NDTV
  • मध्य प्रदेश
  • राजस्थान
  • इंडिया
  • मराठी
  • 24X7
Choose Your Destination
Previous Article
भारत समेत दुनियाभर में Microsoft के कंप्यूटर्स में गड़बड़ी से मचा हड़कंप, फ्लाइट-स्टॉक एक्सचेंज दफ्तरों पर असर
Ram Navami 2024: राम नवमी पर अयोध्या में दिखा अद्भुत नजारा, सूरज की किरणों से हुआ रामलला का सूर्याभिषेक
JEE Main Result 2024 This year maximum number of students appeared in NTA, 56 students got 100 percentile.
Next Article
JEE Main Result 2024: इस साल NTA में शामिल हुए थे सबसे ज़्यादा विद्यार्थी, 56 को मिला 100 पर्सेन्टाइल, ढाई लाख ने किया एडवांस के लिए क्वालीफाई
Close
;